एक ANM से 200 कोरोना टीके लगवा रहे हैं, ना मानदेय, ना ड्यूटी आर्डर, पेयजल तक नहीं - MP NEWS

जबलपुर
। मध्यप्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ ने जारी विज्ञप्ति में बताया की स्वास्थ्य विभाग में इस समय जंगल राज के चलते कोरोना टीकाकरण में लगे कोरोना योद्धाओं को मानदेय नहीं दिया जा रहा है। इस प्रकार प्रशासन उन्हें अपने मौलिक अधिकारों से वंचित कर रहा है। 

कोरोना टीकाकरण का कार्य विगत 3 माहों से लगातार जारी है नये तुगलकी आदेश के अनुसार अवकाश के दिनों में भी अब टीकाकरण किया जाना है इस दौरान न तो उन्हें मानदेय दिया जा रहा है और न ही यात्रा भत्ता दिया जा रहा है। टीकाकरण कार्य हेतु अचानक मौखिक आदेश दिये जा रहे हैं, जिससे कर्मचारी मरते-जीते कार्यस्थल पर पहुंचता है इस दौरान अनहोनी दुर्घटनाओं का शिकार भी हो रहे हैं। 

कार्यस्थल पर न तो भोजन की व्यवस्था और न ही पीने के पानी की व्यवस्था है, कोरोना वायरस संक्रमण के इस दौर में उन्हें सुरक्षा साधन भी उपलब्ध नहीं कराये जा रहे हैं, एक एएनएम से 200 हितग्राहियों का टीकाकरण कराया जा रहा है। प्रशासन के तुगलकी आदेश से स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों में जहां एक ओर भय का वातावरण निर्मित है, वहीं दूसरी ओर शासन के प्रति भारी आक्रोश व्याप्त है। 

संघ के योगेन्द्र दुबे, अर्वेन्द्र राजपूत, अवधेश तिवारी, अटल उपाध्याय, आलोक अग्निहोत्री, मुकेश सिंह, मुन्नालाल पटैल, दुर्गेश पाण्डे, आशुतोष तिवारी, सुरेन्द्र जैन, डॉ0 संदीप नेमा वीरेन्द्र तिवारी, धनश्याम पटैल, अजय दुबे, साहिल सिद्दीकी, आलोक रोस्टा, प्रशांत श्रीवास्तव, गोपाल नेमा, रमेश उपाध्याय, राजकुमार मिश्रा, मो0 तारिख, धीरेन्द्र सोनी. प्रियांशु शुक्ला, संतोष तिवारी, महेश कोरी, श्याम सुन्दर तिवारी ,अभिषेक मिश्रा, सोनल दुबे, देवदत्त शुक्ला, प्रणव साहू, गणेश उपाध्याय, आदि ने कलेक्टर जबलपुर से मांग की है कि स्वास्थ्य विभाग में चले जंगल राज पर रोक लगाते हुए कोरोना टीकारण कार्य में लगे कर्मचारियों की सुरक्षा का प्रबंध कर उन्हें सम्मानजक मानेदय प्रदान किया जावे।

04 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here