Loading...    
   


MANDLA में पुरानी पेंशन के लिए कर्मचारी लामबंद हुए - EMPLOYEE NEWS

मंडला
। न्यू पेंशन स्कीम के विरोध में ट्राईबल वेलफेयर टीचर्स एसोसिएशन द्वारा पूरे प्रदेश में ब्लॉकवार आंदोलन किया जा रहा है, जिसका आगाज मंडला जिले के मंडला ब्लॉक से किया गया। सैकड़ों की संख्या में शिक्षक एवं अन्य विभागों के एनपीएस कर्मचारी जिला कलेक्ट्रेट के समक्ष धरना देकर आंदोलन की शुरुआत की। प्रांताध्यक्ष अध्यक्ष डीके सिंगौर, प्रांतीय प्रवक्ता संजीव सोनी, जिलाध्यक्ष दिलीप मरावी, मीना साहू, सरिता सिंह, रश्मि मरावी, रविंद्र चौरसिया, नंदकिशोर कटारे, ब्लॉक अध्यक्ष सुनील नामदेव,  जिले एवं ब्लॉक के अन्य पदाधिकारियों की उपस्थिति में आयोजित एक दिवसीय धरना एवं ज्ञापन कार्यक्रम में अन्य विभागों के कर्मचारियों ने भी पहुंच कर कर्मचारियों को पुरानी पेंशन की मांग का समर्थन किया। 

एक ओर आंदोलित इन कर्मचारियों ने मंच से दहाड़कर एनपीएस की खामियों को उजागर करते हुए ओपीएस अर्थात पुरानी पेंशन की मांग की, वहीं दूसरी ओर सार्वजनिक स्थलों पर एनपीएस एवं ओपीएस पेंशन की तुलनात्मक समीक्षा से संबंधित पम्पलेट बांटकर एवं चस्पा कर आम जनता को अपने साथ हो रहे अन्याय से अवगत कराया। शाम को एनपीएस विरोधी नारों, पोस्टरों के साथ कर्मचारियों ने रैली निकालकर जिला कलेक्ट्रेट पहुंचकर संयुक्त कलेक्टर व्ही के कर्ण को ज्ञापन सौंपा। साथ ही सभी कर्मचारियों ने कतारबद्ध होकर लेटर बाक्स में प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री के नाम पोस्टकार्ड डाला। शिक्षकों ने 20-25 साल तक देश की सेवा करने वाले कर्मचारियों के अभी हाल में सेवानिवृत्त होने पर मिलने वाली 1000 से 2000 रूपए की मासिक पेंशन और सिर्फ 5 साल के लिए चुने गए विधायक, सांसदों की तुलना करते हुए कहा कि देश में एक संविधान, दोनों विधान नहीं चलेगा। 

उन्होंने बताया कि 35-40 वर्ष देश की सेवा करने वाले कर्मचारियों, अधिकारियों के साथ ही सरहद पर देश की रक्षा करने वाले सैनिकों एवं शहीदों को NPS योजना से पेंशन दिया जा रहा है, जबकि देश की सेवा करने के नाम पर चुने गए विधायक, सांसदों को हर जीत के बाद शपथ लेने पर दो-दो, तीन-तीन पेंशन के रूप में लाखों रुपए की पेंशन और सुविधाएं मिल रही है। ट्वेटा के बेनर तले इन आंदोलित कर्मचारियों ने अपने भविष्य के साथ ही आने वाली पीढ़ियों के भविष्य की सुरक्षा के लिए पुरानी पेंशन की लड़ाई को जन-आंदोलन के रूप में लड़ने का संकल्प लिया। कार्यक्रम में जिलाध्यक्ष दिलीप मरावी ने प्रांताध्यक्ष डी के सिंगौर के साथ ही 32 शिक्षकों को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया तथा सभी शिक्षकों का कापी पेन से स्वागत किया।

ट्वेटा का अगला एक दिवसीय धरना-प्रदर्शन का कार्यक्रम  के बड़वानी के  पाटी ब्लॉक फिर क्रमशः करंजिया, नालक्षा, सीधी,  नारायण गंज, महेश्वर, अनूपपुर, नैनपुर, रामा, खरगौन, घोड़ाडोंगरी, पन्ना, बैहर, होशंगाबाद आदि में आयोजित होगा। धरना प्रदर्शन कार्यक्रम में  प्रकाश सिंगौर, श्याम बैरागी, भजन गवले, संजीव दुबे, शिवशंकर पांडे, संजय श्रीवास्तव, विजय पांडे, ओमकार ठाकुर, विपिन अग्रवाल, नारायण चक्रवर्ती, दीप्ति मरावी, सीमा चौधरी, ज्ञानलता मार्को, अनीता परते, पुष्पलता मरावी, आरती ज्योतिषी, पवन नामदेव, आसित लोध, चंद्रशेखर तिवारी, लक्ष्मण तिलगाम, मिटठन मसराम, मंसाराम झारिया, सुरजीत पटेल, विश्वेश्वर पटेल, उमेश यादव, नरेश सैयाम, कमलेश मरावी, अनिल श्रीवास्तव, जयदेव मार्को, पुरषोत्तम मरावी, अंग्रेज उइके, धर्मपाल, लोकसिंह पदम, गौरव अग्रवाल, अमरसिंह चंदेला, भारत विक्रम, पतिराम डिबरिया, श्रीकुमार मरावी, नफीस खान, महेश तिवारी, डुमारी कछवाहा, नंदकुमार जंघेला, अमीर चंद्र साहू, राजेंद्र जंघेला, चम्मुलाल झारिया, हिम्मत मरकाम, बसंत मरावी, विनय मरावी, सरोज वरकड़े, बसंती पंद्रो, सविता कटारे, तारामणि राव, अनुपमा तिवारी,  राधा उइके, मेरी पुष्पिका कुजुर संजना धुर्वे, तरला पंद्रो, सावित्री मरावी, रंजना सोरले सहित सैकड़ों कर्मचारी शामिल हुए।

01 अक्टूबर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here