Loading...    
   


IUCAA PUNE वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में एक नई आकाशगंगा ढूंढ निकाली / ASTRONOMY INDIA

भोपाल। सुशांत सिंह केस में सीबीआई को क्या नया मिला इससे कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण खबर यह है कि भारत के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने एक नई आकाशगंगा ढूंढ निकाली है। इस Galaxy का नाम AUDFs01 रखा गया है। इसकी खोज पुणे, महाराष्ट्र स्थित इंटर-यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स (IUCAA) के डॉ. कनक साहा के नेतृत्व में खगोलविदों के एक समूह ने की थी। 

नई आकाशगंगा AUDFs01 पृथ्वी से कितनी दूर है

केंद्रीय पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास (डोनर) राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, लोक शिकायत, पेंशन, परमाणु ऊर्जा एवं अंतरिक्ष राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने यह जानकारी साझा करते हुए कहा कि यह बड़े गर्व की बात है कि भारत की पहली मल्टी-वेवलेंथ स्पेस ऑब्जर्वेटरी "एस्ट्रोसैट" ने पृथ्वी से 9.3 बिलियन प्रकाश वर्ष दूर स्थित एक आकाशगंगा से अत्यधिक-यूवी प्रकाश का पता लगाया है। यहां बताना जरूरी है कि पृथ्वी से सूर्य की दूरी 0.000015954 प्रकाश वर्ष है। 

ब्रिटेन की मैगजीन नेचर एस्ट्रोनॉमी ने प्रकाशित किया

इस मौलिक खोज के महत्व और विशिष्टता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि ब्रिटेन से प्रकाशित होने वाली एक शीर्ष अंतरराष्ट्रीय पत्रिका "नेचर एस्ट्रोनॉमी" में इसके बारे में बताया गया है। भारत का एस्ट्रोसैट/यूवीआईटी इस अनूठी उपलब्धि को हासिल करने में इसलिए सक्षम रहा क्योंकि UVIT डिटेक्टर में पृष्ठभूमि का शोर अमेरिका स्थित नासा के हबल स्पेस टेलीस्कोप की तुलना में काफी कम है।

नई आकाशगंगा AUDFs01 की खोज में कितना समय लगा

डॉ. जितेंद्र सिंह ने भारत के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों को एक बार फिर दुनिया के सामने यह साबित कर दिखाने के लिए बधाई दी है कि अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी में भारत की क्षमता एक विशिष्ट स्तर पर पहुंच गई है, जहां हमारे वैज्ञानिक अब दुनिया के अन्य हिस्सों में अंतरिक्ष वैज्ञानिकों को संकेत दे रहे हैं और रास्ता दिखा रहे हैं। प्रोफेसर श्याम टंडन के अनुसार, ये शानदार स्पेशियल रेज़ोल्यूशन और ऊंची संवेदनशीलता दरअसल एक दशक से भी अधिक समय तक की गई वैज्ञानिकों की यूवीआईटी कोर टीम की कड़ी मेहनत को एक सम्मान है।

पहले ब्रह्मांड में प्रकाश हुआ करता था

आईयूसीएए के निदेशक डॉ. सोमक राय चौधरी के अनुसार, यह खोज इस संदर्भ में बहुत महत्वपूर्ण सुराग है कि ब्रह्मांड के अंधकार के युग कैसे समाप्त हुए और ब्रह्मांड में प्रकाश हुआ करता था। उन्होंने कहा कि हमें यह जानने की जरूरत है कि यह कब शुरू हुआ था, लेकिन प्रकाश के सबसे शुरुआती स्रोतों को खोजना बहुत कठिन रहा है।

प्रोफेसर श्याम टंडन ने एस्ट्रोसैट को विकसित किया था

यहां पर उल्लेख करना आवश्यक है कि यह खोज करने वाली भारत की पहली अंतरिक्ष वेधशाला एस्ट्रोसैट को मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान 28 सितंबर, 2015 को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) द्वारा प्रक्षेपित किया गया था। इसे इसरो के पूर्ण समर्थन के साथ आईयूसीएए के पूर्व एमेरिटस प्रोफेसर श्याम टंडन के नेतृत्व में एक टीम द्वारा विकसित किया गया था।

02 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मध्य प्रदेश कोरोना: रिकॉर्ड 32 मौतों के साथ संक्रमितों की संख्या 65000 के पार
भोपाल के सरकारी ऑफिस 100% अनलॉक, सभी कर्मचारी ऑन ड्यूटी
मध्यप्रदेश उपचुनाव: कांग्रेस की पहली लिस्ट पर दावे-आपत्तियां आमंत्रित
मध्यप्रदेश उपचुनाव: कांग्रेस में 15 नाम तय, 5 सीटों पर विवाद, 7 सीटों पर घमासान
INDORE: विधायक जीतू पटवारी ने बड़ा गणपति का अपमान किया, जूते पहनकर पहुंचे
कोरोना काल में फीस विवाद पर जबलपुर हाई कोर्ट का फैसला
IAS जोशी दंपति की 100 से ज्यादा संपत्तियां कुर्क करने का आदेश जारी
भोपाल में आरोपी खनिज अधिकारी के यहां चाय-नाश्ता करती मिली लोकायुक्त पुलिस
JEE MAIN EXAM: शिवराज सिंह की बस नहीं आई, पेरेंट्स को छोड़ने आना पड़ा
इंदौर में जीतू पटवारी को सपोर्ट करने वाले खनिज अधिकारी के यहां लोकायुक्त का छापा


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here