Loading...    
   


नाबालिग बच्चों को किडनैप करके भीख मंगवाना कितना गंभीर अपराध है / ASK IPC

Kidding minor children and begging is a serious crime

भारत में भिक्षाव्रति बहुत तेजी से बढती जा रही थी इसी को रोकने के लिए भारतीय दण्ड संहिता में वर्ष 1959 के अधिनियम की धारा 2 द्वारा यह धारा 363- क, स्थापित की गई जो 1 जनवरी 1960 से प्रभावी हुई। धारा 363- क, को जोड़ने का मुख्य उद्देश्य भीख मांगने के लिए नाबालिक बच्चों को एवं विकलागिकरण को प्रभावी तरीके से रोकना है।

भारतीय दण्ड संहिता,1860 की धारा 363-क, की परिभाषा:-

अगर कोई व्यक्ति किसी अवयस्क (नाबालिक) व्यक्ति का व्यपहरण(किडनैपिंग) करके भीख मंगवाता है या विकलांग करके भीख मंगवाता है तो वह व्यक्ति इस धारा के अंतर्गत दोषी होगा।

भीख मंगवाने से आशय:-

1. सार्वजनिक स्थानों पर बच्चों से नाच करवाना, गाने गवाना, करतब दिखाने के लिए बोलना, चीज बेचने की बोलना आदि।
2. कुछ प्राप्ति के लिए किसी प्राइवेट परिसर में नाबालिक बच्चों को  भेजना आदि।
3. कोई भी ऐसा कार्य करवाना जो बच्चों के लिए खतरनाक साबित हो भीख मांगने के लिए आदि।

भारतीय दण्ड संहिता,1860 की धारा 363-क, के अंतर्गत दण्ड का प्रावधान:-
इस धारा के अपराध किसी भी प्रकार से समझौता योग्य नहीं है। यह अपराध संज्ञेय एवं अजमानतीय अपराध होते है,इनकी सुनवाई का अधिकार प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट एवं सेशन न्यायालय को होता है।
इस धारा के अपराध की सजा को दो भागो में बाँटा गया है:-
1. किसी भी नाबालिक बच्चों से भीख मंगवाने के लिए- 10 वर्ष के लिए कारावास ओर जुर्माने से दण्डित किया जा सकता है।
2. नाबालिक को विकलांग करके भीख मंगवाने पर - आजीवन कारावास और जुर्माने से दण्डित किया जा सकता है।

04 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मध्यप्रदेश में 10+2 स्कूल खुलेंगे, प्राइमरी और मिडिल बंद रहेंगे, आदेश जारी
IGNOU EXAM: फाइनल ईयर/ सेमेस्टर के लिए नोटिफिकेशन
गर्मी के पसीने और और व्यायाम के पसीने में क्या अंतर है
चीटियां क्या सचमुच अनुशासन में चलतीं है या फिर एक दूसरे के पीछे चलना उनकी मजबूरी है
BF ने GF से कैंसर पीड़ित पिता के लिए खून बदले आबरू ले ली
खनिज अधिकारी की वाइफ के बंगले में मिनी बार, बाथरूम में AC
जौहरी होटल भोपाल में नाबालिग लड़के-लड़कियों की हुक्का पार्टी
INDORE में वेब सीरीज के नाम पर लड़कियों से न्यूड वीडियो मंगवाए जाते थे
भारतीय ट्रेनों में एसी कोच बीच में क्यों होता है
यदि रेल की पटरी में करंट का तार लगा दें तो क्या होगा
BHOPAL NEWS: महिला ग्राहक को पुरुष ट्रायल रूम में भेज दिया फिर ताक-झांक करने लगा
CM ने चुनाव से पहले ब्यूरोक्रेट्स को खुश करने CPF बढ़ाया, कर्मचारियों का अटकाया
सामान्य कर्मचारियों के प्रमोशन में सुप्रीम कोर्ट का आरक्षण वाला स्टे लागू नहीं: हाई कोर्ट
रस्सी के झूले पर खड़े होकर झूलने से पैरों में झनझनाहट क्यों होती है


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here