Loading...    
   


मध्य प्रदेश के 9 जिलों में कोरोनावायरस खतरनाक: मुख्यमंत्री ने बताया / MP NEWS

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्य प्रदेश के 9 जिलों के कलेक्टरों को कोरोनावायरस के संक्रमण के मामलों में विशेष सावधानी बरते जाने के निर्देश दिए हैं। इन जिलों में संक्रमित नागरिकों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। कहीं पॉजिटिविटी रेट बहुत ज्यादा है तो कहीं मृत्यु दर बढ़ती जा रही है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर, भोपाल, उज्जैन, ग्वालियर, गुना, शिवपुरी, रतलाम, झाबुआ, अलीराजपुर जिलों में विशेष सावधानी बरते जाने के निर्देश दिए।

मध्य प्रदेश का रिकवरी रेट 76.4%

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि शासन द्वारा कोरोना के उपचार के लिए प्रत्येक जिले में डेडिकेटेड कोविड अस्पतालों के माध्यम से उत्कृष्ट व्यवस्था की गई है। इसी के साथ कुछ निजी चिकित्सालयों को भी कोविड के इलाज के लिए अनुबंधित किया गया है, जहां पर सभी को नि:शुल्क इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। इलाज की अच्छी व्यवस्था के चलते प्रदेश में बड़ी संख्या में मरीज स्वस्थ होकर घर जा रहे हैं। हमारी रिकवरी रेट 76.4 प्रतिशत है। 

होम आइसोलेशन के लिए मध्य प्रदेश के हर जिले में कमांड कंट्रोल रूम

बहुत से कोरोना संक्रमित तथा कोरोना संदिग्ध, जिनके घर पर व्यवस्था है, 'होम आइसोलेशन' तथा 'होम क्वारेंटाइन' को प्राथमिकता देते हैं। इसके लिए प्रत्येक जिले में 'कमांड कंट्रोल रूम' बनाए जाएं, जहां से 'होम आइसोलेशन' एवं 'होम क्वारेंटाइन' हुए व्यक्तियों की निरंतर देखभाल एवं निगरानी की जा सके। यहां एम्बुलेंस भी आवश्यक रूप से रखी जाए। दिन में कम से कम दो बार उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली जाए।

मध्य प्रदेश कोरोनावायरस समीक्षा बैठक में कौन-कौन उपस्थित थे

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मंत्रालय में वी.सी. के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास सारंग, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, डीजीपी श्री विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान उपस्थित थे।

प्राइवेट अस्पतालों में भी प्रोटोकॉल का पालन हो, मनमानी वसूली रोके: मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए कि शासकीय चिकित्सालयों के साथ ही निजी चिकित्सालयों में भी कोरोना के इलाज के निर्धारित प्रोटोकॉल का शत-प्रतिशत पालन सुनिश्चित किया जाए, जिससे व्यक्ति अपनी इच्छा एवं सुविधानुसार शासकीय अथवा निजी अस्पतालों में इलाज करा सके। इसी के साथ यह भी सुनिश्चित किया जाए कि निजी चिकित्सालय मरीजों से मनमाना शुल्क न वसूल सकें। कोरोना का इलाज कर रहे निजी चिकित्सालयों के पास सभी आवश्यक संसाधन एवं चिकित्सा सुविधा उपलब्ध हो, यह भी देखा जाए।

कलेक्टर, प्राइवेट अस्पतालों पर कंट्रोल करें: सीएम शिवराज सिंह

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सभी कलेक्टर्स को निर्देश दिए कि वे अपने क्षेत्र में निजी चिकित्सालयों के साथ समन्वय कर कोरोना के इलाज के संबंध में उनके पास उपलब्ध संसाधनों एवं चिकित्सा सुविधाओं की जानकारी प्राप्त करें। कोरोना के इलाज के संबंध में निजी चिकित्सालयों को आवश्यक प्रशिक्षण भी दिया जाए। निजी चिकित्सालयों के चिकित्सकीय अमले एवं संसाधनों का पूरा उपयोग किया जाए।

प्रदेश अब 17वें नंबर पर

बैठक में बताया गया कि कोरोना के एक्टिव प्रकरणों में तुलनात्मक रूप से मध्यप्रदेश देश में 17वें स्थान पर आ गया है। वर्तमान में प्रदेश में एक्टिव प्रकरणों की संख्या 14 हजार 337 है। 

जबलपुर में विशेष 'हैल्प डेस्क'

जबलपुर जिले की समीक्षा के दौरान बताया गया कि वहां कोरोना वार्ड में भर्ती मरीजों की जानकारी परिजनों को देने के लिए विशेष हैल्प डेस्क बनाई गई है। इसके माध्यम से कोरोना मरीजों के परिजनों को उनकी स्थिति की निरंतर जानकारी दी जा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस नवाचार की सराहना करते हुए अन्य जिलों में भी यह व्यवस्था किए जाने के निर्देश दिए।

03 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

कमलनाथ का कबीला ग्वालियर में ज्योतिरादित्य सिंधिया से भी बड़ा धमाका करने की तैयारी में 
खनिज अधिकारी की वाइफ के बंगले में मिनी बार, बाथरूम में AC, ऐसो आराम की हर चीज
BF ने GF से कैंसर पीड़ित पिता के लिए खून बदले आबरू ले ली
मध्य प्रदेश कोरोना: 100 से ज्यादा एक्टिव केस वाले जिलों की संख्या 38 हुई
कोरोना के कारण 8वीें तक का पाठ्यक्रम संक्षिप्त किया: कमिश्नर
मध्य प्रदेश मौसम का पूर्वानुमान जारी, वीकेंड की प्लानिंग कर लें
HOME LOAN के लिए 11 सबसे अच्छे बैंक, जहां सबसे कम ब्याज लिया जा रहा है
भोपाल में डॉक्टर ब्लैकमेलिंग के मामले में चैनल के ऑफिस पहुंची क्राइम ब्रांच
मप्र की आंगनवाड़ी में बच्चों को अंडे खिलाए जाएंगे
INDORE में शिवसेना नेता की हत्या, रात 2 बजे गोली मारी गई
चीटियां क्या सचमुच अनुशासन में चलतीं है या फिर एक दूसरे के पीछे चलना उनकी मजबूरी है 
लड़की, लड़के को ले जाए तो कुछ नहीं; लड़का, लड़की को भगाए तो किडनैपिंग, ऐसा क्यों
GWALIOR: भाजपा के सदस्यता अभियान से फैला कोरोना, कई नेता और कार्यकर्ता पॉजिटिव
MP BY-ELECTION: ग्वालियर-चंबल में दिग्विजय सिंह की सक्रियता, प्रत्याशियों का चयन
INDORE में वेब सीरीज के नाम पर लड़कियों से न्यूड वीडियो मंगवाए जाते थे


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here