Loading...    
   


CMO अरुण ओझा ट्रांसफर आदेश आते ही गिरफ्तार / MP NEWS

भोपाल। मध्यप्रदेश के रतलाम जिले में सीएमओ अरुण ओझा को गिरफ्तार किया गया है। उन पर आरोप है कि उन्होंने नगर परिषद नामली के अध्यक्ष के साथ मिलकर भ्रष्टाचार किया। अरुण ओझा के खिलाफ 2 आपराधिक मामले दर्ज हैं। उनकी वर्तमान पदस्थापना मध्यप्रदेश के सतना जिले में है। आज ही उनका ट्रांसफर सतना से रतलाम हुआ था। अरुण ओझा को परियोजना अधिकारी बनाया गया था। ट्रांसफर आदेश आते ही पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। मजेदार बात यह है कि रतलाम के पुलिस रिकॉर्ड में अरुण ओझा फरार थे जबकि सतना में नौकरी कर रहे थे और उनका ट्रांसफर भी किया गया।

कलेक्टर की जांच में नरेंद्र सोनावा और अरुण ओझा भ्रष्टाचार के दोषी पाए गए

उल्लेखयनी है कि 1 जुलाई 2019 को नगर परिषद नामली के तत्कालीन पार्षद प्रकाश कुमावत ने 1 जुलाई परिषद के तत्कालीन अध्यक्ष नरेंद्र सोनावा व तत्कालीन CMO अरुण ओझा के खिलाफ प्रधानमंत्री आवास योजना में  भ्रष्टाचार की शिकायत की थी। कलेक्टर ने SDM ग्रामीण से शिकायत की जांच कराई थी। जांच में अध्यक्ष व CMO दोनों को संयुक्त रूप से भ्रष्टाचार का दोषी पाया था। जांच के बाद दोनों के खिलाफ 5 नवंबर 2019 को नामली थाने में FIR कराई गई थी। पुलिस भादंवि की धारा 409, 420, 467, 468, 471 के तहत प्रकरण दर्ज किया था।

उपाध्यक्ष और सीएमओ के फरार होने के बाद एक और मामला दर्ज हुआ

इसके बाद दोनों फरार हो गए थे। पुलिस ने कई जगह तलाश की थी लेकिन वे नहीं मिले थे। इसी बीच जनवरी 2020 में सोनावा व ओझा के खिलाफ ठेकेदार के साथ मिलकर कोचा तालाब निर्माण में 1 करोड़ 10 हजार 757 रुपये की शासन को आर्थिक क्षति पहुंचाकर वित्तीय अनियमितता करने के मामले में भी प्रशासन ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

जमानत के लिए हाईकोर्ट तक गए लेकिन राहत नहीं मिली

इस मामले में पुलिस ने 4 जनवरी 2020 को नगर पालिका अध्यक्ष सोनावा, सीएमओ ओझा व ठेकेदार अख्तर के खिलाफ भादंवि की धारा 409, 420, 34 के तहत प्रकरण दर्ज था। सोनावा व ओझा ने पहले जिला और बाद में उच्च न्यायालय खंडपीठ इंदौर में अग्रिम जमानत के लिए आवेदन दिए थे, लेकिन न्यायालयों से दोनों को अग्रिम जमानत नहीं मिल पाई थी। रतलाम ग्रामीण एसडीओपी मानसिंह चौहान ने बताया कि ओझा को दबिश देकर उसके जवाहर नगर स्थित निवास से गिरफ्तार किया गया। सोनावा की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

गिरफ्तारी के दिन ही कोटर से रतलाम तबादला

प्रदेश के नगरीय विकास एवं आवास मंत्रालय भोपाल ने विभाग के अनेक अधिकारियों व कर्मचारियों के तबादले किए है। इनमें कोटर नगर परिषद के सीएमओ अरुण ओझा भी शामिल है। ओझा को कोटर से सीएमओ से जिला शहरी विकास अभिकरण रतलाम के सहायक परियोजना अधिकारी पद पर स्थनांतरित किया गया है। उनका रतलाम आने के तबादला जिस दिन जारी हुआ, उसी दिन उनकी गिरफ्तारी भी हो गई। यह बात चर्चा की विषय बनी हुई है और सोशल मीडिया पर भी इसे लेकर टिप्पणी वायरल हो रही है।

31 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

नवजात शिशु की मुट्ठी बंद क्यों रहती है, क्या उसमें सचमुच भाग्य छुपा होता है
कमलनाथ ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को 212 करोड रुपए की सरकारी जमीन ₹100 में दी थी
BF ने शादी से मना किया, रेप केस दर्ज / लड़का बोला ब्लैकमेल कर रही है
ज्योतिरादित्य सिंधिया को पता ही नहीं मुख्यमंत्री ने बिजली बिल मामले में क्या किया
जब यह इमारत जमीन पर खड़ी है तो इसे 'हवामहल' क्यों कहते हैं
अनलॉक-4: दुर्गा प्रतिमा स्थापना होगी, कलेक्टर क्या मुख्यमंत्री भी लॉकडाउन नहीं कर सकते
संपत्ति की सुरक्षा का अधिकार कब प्रारंभ होता है और कब तक बना रहता है
9 वोल्ट की बैटरी से 9 वाट का LED बल्ब कितनी देर तक जलेगा
ग्वालियर वाले रेल अफसर की बेटी ने माँ-भाई को गोली मारी, शीशे पर लिखा डिस्क्वालीफाइड ह्यूमन
इंदौर के खजराना में ताजिए निकाले, इंस्पेक्टर सस्पेंड, ताजिया वालों के खिलाफ FIR
भोपाल की पॉश कॉलोनी न्यू मिनाल सहित कई कॉलोनियों में भरा पानी
इंदौर में पिता का दर्द: बेटे का शव भी नहीं मिला, जो बेटे को ढूंढकर लाएगा उसे मैं इनाम दूंगा
क्या आप एक शब्द में भारत की सभी विश्व सुंदरियों के नाम बता सकते हैं, यहां पढ़िए
JEE-NEET 2020 परीक्षार्थियों को सरकार की तरफ से फ्री कन्वेंस मिलेगा
उज्जैन के होटल नटराज में छात्रा की हत्या, BF के साथ आई थी
मध्य प्रदेश में आज फिर रिकॉर्ड तोड़ कोरोना: दर्दनाक 29 मौतों के साथ 1558 पॉजिटिव
MORENA में महिला शिक्षकों ने बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष का घेराव किया


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here