Loading...    
   


CISCO SYSTEMS अमेरिका में भारतीय दलित इंजीनियर के साथ भेदभाव, मामला दर्ज / EMPLOYEE NEWS

नई दिल्ली। भारतीय उपमहाद्वीप में नेटवर्किंग और सॉफ्टवेयर उपलब्ध कराने वाली सबसे बड़ी अमेरिकी कंपनी सिस्को सिस्टम्स के खिलाफ कैलिफोर्निया के नियामकों ने मुकदमा करते हुए आरोप लगाया कि इसके सिलिकॉन वैली स्थित मुख्यालय में एक इंजीनियर को इसलिए भेदभाव का सामना करना पड़ा क्योंकि वह एक दलित भारतीय है। 

कैलिफोर्निया के निष्पक्ष रोजगार एवं आवासीय विभाग (डीएफईएच) द्वारा मंगलवार को दायर मुकदमे के अनुसार इस इंजीनियर ने सिस्को के सैन जोस स्थित मुख्यालय में भारतीयों के साथ काम किया जो सभी आव्रजन पर अमेरिका आए और वे सभी ऊंची जाति के हैं।

मुकदमे में कहा गया है कि ऊंची जाति के सुपरवाइजरों और सहकर्मियों ने टीम में और सिस्को के कार्यस्थल पर भी भेदभावपूर्ण रवैया अपनाया।

इसमें कहा गया है कि सिस्को में कर्मचारी के साथ किया गया व्यवहार नागरिक अधिकार कानून, 1964 और कैलिफोर्निया निष्पक्ष रोजगार एवं आवासीय कानून का उल्लंघन है।

मुकदमे में कहा गया है कि यह कर्मचारी दलित भारतीय है और गैर दलित भारतीयों के मुकाबले उसकी त्वचा का रंग गहरा है।

डीएफईएच के निदेशक केविन किश ने कहा, ‘‘जन्म द्वारा निर्धारित वंशानुगत सामाजिक स्थिति से कार्यस्थल की परिस्थितियों और अवसरों को तय करना अस्वीकार्य है।’’

इस मुकदमे में कर्मचारी से भेदभाव करने और उसे प्रताड़ित करने के लिए सिस्को के सुपरवाइजर सुंदर अय्यर और रमन कोम्पेल्ला को नामजद किया गया है। ये दोनों ही ऊंची जाति के हैं।

मुकदमे में कहा गया है कि सिस्को ने इस भेदभाव को रोकने के लिए कदम नहीं उठाए।

इसमें कहा गया है कि अय्यर ने अन्य कर्मचारियों से कहा कि यह कर्मचारी दलित है और उसे भाई-भतीजावाद के कारण भारत के प्रतिष्ठित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान में दाखिला मिला।

कर्मचारी ने सिस्को के मानव संसाधन विभाग से संपर्क किया और वह अय्यर के खिलाफ भेदभाव की शिकायत दर्ज कराना चाहता था और इसके बाद अय्यर ने उससे उसकी सारी जिम्मेदारियां छीन ली और उसे ऐसा काम दिया जो उसकी भूमिका को कमतर करता था तथा उसे अलग-थलग महसूस कराया। अय्यर ने सहकर्मियों से कहा कि वह उस कर्मचारी को नजरंदाज करें।

मुकदमे में कहा गया कि उस कर्मचारी को वेतन भी तुलनात्मक रूप से कम मिलता था तथा अवसर भी कम दिए जाते थे।

03 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

इंदौर में दुकानों का किराया माफ, लॉकडाउन के कारण लिया फैसला
फर्जी सर्टिफिकेट लगाने वाला कितने साल के लिए जेल जाएगा, ध्यान से पढ़िए
फर्जी सर्टिफिकेट बनाने व हस्ताक्षर करने वाले को कितनी सजा होती है, पढ़िए
अब मुझमें हिम्मत नहीं बची, मैं सुसाइड कर लूंगी: एक्ट्रेस रानी चटर्जी
पुंसवन संस्कार क्या है, क्या इससे गर्भ में शिशु के लिंग का निर्धारण होता है
मध्य प्रदेश: जिला शिक्षा अधिकारियों की तबादला सूची
मध्यप्रदेश - 28 मंत्री, 20 कैबिनेट, 8 राज्य मंत्री
MPPSC 2019 SCORECARD यहां देखें, OMR SHEET भी डाउनलोड कर सकते हैं
परिनिन्दा या चेतावनी की शास्ति का शासकीय कर्मचारी की सेवा के ऊपर क्या प्रभाव पड़ता है
हायर एजुकेशन के अस्थाई एवं संविदा शिक्षक लॉकडाउन के दौरान ऑन ड्यूटी माने जाएंगे: भारत सरकार
अन्याय के खिलाफ़ छेड़ा गया संघर्ष ही धर्म है: ज्योतिरादित्य सिंधिया
मध्य प्रदेश के 33 मंत्रियो में से 14 विधायक ही नहीं है: कमलनाथ
झूठी गवाही के लिए धमकाना या लालच देना कितना गंभीर अपराध है, यहां पढ़िए
जो थर्माकोल गर्म पानी में से नहीं पिघलता, माचिस की तीली से क्यों सिकुड़ जाता है
ज्योतिरादित्य सिंधिया ने फिर दोहराया: मैं आपकी तलवार भी बनूंगा और आपकी ढाल भी बनूंगा
भाजपा विधायक रमेश मेंदोला समर्थक ने आत्मदाह की कोशिश की, मंत्री न बनाए जाने से नाराज
मध्य प्रदेश पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती नाराज, मंत्रिमंडल में संशोधन की मांग
मध्य प्रदेश मंत्रिमंडल: पढ़िए कौन किसके कोटे से, कौन नया- कौन पुराना
प्रोटेम स्पीकर को मंत्री पद की शपथ दिला दी, 3 मंत्री एक्स्ट्रा हो गए: सज्जन सिंह वर्मा


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here