Loading...    
   


SHAJAPUR CITY HOSPITAL सील, वृद्ध मरीज को बंधक बनाने का आरोप / MP NEWS

भोपाल। मध्यप्रदेश के शाजापुर शहर में संचालित 'शाजापुर सिटी हॉस्पिटल' को सील कर दिया गया है। अस्पताल प्रबंधन पर आरोप है कि उसने एक वृद्ध मरीज को स्वस्थ हो जाने के बाद भी करीब 1 सप्ताह तक इसलिए बंधक बना लिया क्योंकि उसके परिवार में अस्पताल का पूरा बिल अदा नहीं किया था। वृद्ध मरीज की बेटी ने बताया कि अस्पताल का करीब ₹11000 बकाया बताया जा रहा है जबकि करीब ₹12000 वह लोग अदा कर चुके हैं और अब उनके पास पैसे नहीं है।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि इस घटना पर कड़ी कार्यवाही करते हुए CMHO और प्रशासन ने सिटी हॉस्पिटल का रजिस्ट्रेशन सस्पेंड कर उसको सील कर दिया है। अस्पताल के प्रबंधक के ख़िलाफ़ एफ़॰आई॰आर॰ दर्ज कर पूरे प्रकरण की पुलिस जाँच हो रही है। 

इससे पहले जब मीडिया ने इस मामले का खुलासा किया था तब प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि 'शाजापुर के एक अस्पताल में वरिष्ठ नागरिक के साथ क्रूरतम व्यवहार का मामला संज्ञान में आया है। दोषियों को बख्शा नहीं जायेगा, सख्त से सख्त कार्रवाई की जायेगी।'

मध्यप्रदेश शासन द्वारा जारी आधिकारिक सूचना इस प्रकार है

राजगढ़ जिले के ग्राम रनारा थाना छापीहेड़ा के श्री लक्ष्मीनारायण पिता गुलाब दांगी को शाजापुर के निजी चिकित्सा संस्था सिटी हॉस्पिटल में ईलाज के दौरान पलंग से बांधकर रखने के कारण सिटी हॉस्पिटल को जारी लायसेन्स एवं रजिस्ट्रेशन मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा आगामी आदेश तक निलंबित किया गया है। साथ ही संबंधित संस्था के प्रबंधक श्री नितेश शर्मा पिता नारायण शर्मा निवासी गैस गोडाउन शाजापुर के विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धारा 342 के तहत कोतवाली थाना शाजापुर में अपराध पंजीबद्ध किया गया है। जिला प्रशासन द्वारा सिटी हॉस्पिटल के संचालक डॉ. वरूण बजाज की उपस्थिति में अस्पताल के कक्ष क्रमांक 1 से 6 तक को सील कर आगामी आदेश तक अस्पताल के संचालन पर रोक लगाई है।

कलेक्टर श्री दिनेश जैन ने बताया कि विगत दिनों समाचार पत्रों एवं इलेक्ट्रॉनिक्स न्यूज चैनल्स पर जिला मुख्यालय की निजी चिकित्सा संस्था सिटी हॉस्पिटल में राजगढ़ जिले के लक्ष्मीनारायण को इलाज के दौरान पलंग से बांधने संबंधी समाचार प्रकाशित एवं प्रसारित हुआ था। उक्त समाचारों को शिकायत मानते हुए जिला प्रशासन ने घटना की जाँच के लिए अनुविभागीय अधिकारी के नेतृत्व में संयुक्त जाँच दल बनाया। इसके साथ ही श्री लक्ष्मीनारायण एवं उनकी पुत्री तथा अन्य गांव वालों के बयान दर्ज करने के लिए शाजापुर से एक मजिस्ट्रेट को राजगढ़ जिले के ग्राम रनारा भेजा गया था। दल द्वारा दिए गए प्रतिवेदन अनुसार पैर बांधने की घटना प्रथम दृष्टया सत्य पाई गई। इसे देखते हुए सिटी हॉस्पिटल के विरूद्ध कार्यवाही करते हुए एफआईआर दर्ज कराई गई है।

08 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ता मामले में दिल्ली हाई कोर्ट का डिसीजन
एमपी बोर्ड 12वीं की परीक्षा तारीख बदलने के लिए ABVP ने ज्ञापन दिया
SIM CARD का फुल फॉर्म क्या है, आविष्कार कब हुआ, कितने प्रकार की होती है
मध्य प्रदेश शासन ने सभी सरकारी/प्राइवेट स्कूलों की छुट्टियां बढ़ाई
ज्योतिरादित्य सिंधिया: बिना आग के धुंए में कौन सी खिचड़ी पका रहे हैं
MP BOARD 12th EXAM 2020: ऑनलाइन प्रवेश-पत्र की मान्यता के संबंध में संशोधित आदेश
ज्योतिरादित्य सिंधिया: राज्यसभा चुनाव के बाद भी चैन से नहीं बैठ पाएंगे
नेताजी के स्वागत में हाईवे पर खड़े रहे IG पुलिस, वर्दीधारी से चाय पेश करवाई
CBSE 12th EXAM के लिए HELPLINE NUMBER एवं प्रमुख दिशा निर्देश
मैं कांग्रेस में लौट आया हूं 'महाराज' आने वाले हैं: सत्येंद्र यादव
MP BOARD 12th EXAM GUIDELINE, परिजन क्वॉरेंटाइन है तो परीक्षा नहीं दे सकते
भारत में बंद स्कूल/कॉलेज कब खुलेंगे: HRD मिनिस्टर ने बताया
दिवालिया बैंक में जमाधन डूब जाता है तो क्या लिया गया LOAN भी नहीं चुकाना पड़ता
मोड़ आने पर सड़क एक तरफ झुकी हुई क्यों बनाते हैं
Tata Sky ने 25 फ्री चैनलों को PAID कर दिया, यूजर्स की पॉकेट कटेगी
किस तरह के तबादला आदेशों को कोर्ट में चुनौती दी जा सकती है, पढ़िए
बनावटी दवाई देने वाले DOCTOR के खिलाफ किस धारा के तहत FIR दर्ज होगी, यहां पढ़िए
मध्यप्रदेश में कोरोना रिटर्न: डिस्चार्ज के 18 दिन बाद महिला फिर से पॉजिटिव


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here