Loading...    
   


JABALPUR के युवक का शव देहरादून के क्वॉरेंटाइन सेंटर में फांसी पर झूलता मिला / MP NEWS

जबलपुर। भारतीय रेल में चयनित होने के बाद ट्रेनिंग के लिए गए जबलपुर मध्य प्रदेश के 20 वर्षीय युवक संकेत मेहरा का शव देहरादून के एक क्वारंटाइन सेंटर में फांसी पर झूलता हुआ मिला है। देहरादून पुलिस इसे आत्महत्या का मामला मान रही है परंतु युवक के माता-पिता अब तक यह नहीं समझ पाए हैं कि युवक देहरादून कैसे पहुंच गया। वह 10 दिन से परिवार के संपर्क में नहीं था।

2 जून को आखरी बार पिता से बात हुई थी

जबलपुर, मध्य प्रदेश निवासी 20 वर्षीय संकेत मेहरा की हाल ही में रेलवे में नौकरी लगी थी। वडोदरा (गुजरात) में ट्रेनिंग पूरी करने के बाद 2 जून को डिपार्टमेंट की तरफ से उसे दिल्ली भेजा गया। संकेत के पिता बताते हैं कि 2 जून को आखरी बार अंकित से बात हुई थी। तब वो ट्रेन में सवार हो चुका था। पिछले 10 दिनों से संकेत से कोई संपर्क नहीं हुआ। 12 जून 2020 शुक्रवार को देहरादून से एक टेलीफोन आया। देहरादून पुलिस ने बताया कि संकेत मेहरा का शव उनके क्वारंटाइन सेंटर में मिला है। उसका शव फांसी के फंदे पर झूल रहा था।

युवक की लाश फांसी पर लटकी रही किसी ने देखा था कि नहीं ?

संकेत के शव की तस्वीर भी सामने आ गई जिसमें लाश कई दिन पुरानी दिख रही है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि करीब 5 दिन पुरानी हो सकती है। देहरादून से मिले इनपुट के आधार पर बताया गया कि 5 जून को वह देहरादून के क्‍वारंटाइन सेंटर पहुंचा था और उसके बाद से यहीं था। यही नहीं, उसके परिजन भी यह नहीं समझ पा रहे हैं कि वह दिल्‍ली के बजाए देहरादून कैसे पहुंचा और फिर क्‍वारंटाइन सेंटर की उसको क्‍या जरूरत पड़ गयी।

देहरादून पुलिस की कहानी 

देहरादून पुलिस ने बताया कि सरदार भगवान दास मेडिकल कॉलेज के बॉयज हॉस्टल में संस्थागत क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया है। यहां से रायपुर थाने को सूचना दी गई कि एक कमरे में रखा गया युवक न दरवाज़ा खोल रहा है और न ही जवाब दे रहा है। पुलिस को यह भी बताया गया कि कमरे से बदबू आने लगी है। सब-इंस्पेक्टर जगमोहन सिंह राणा मौके पर पहुंचे तो कमरे की कुंडी अंदर से लगी होने के कारण दरवाजा तोड़ना पड़ा। अंदर युवक का शव पंखे से लटका हुआ था और उससे बदबू उठने लगी थी। राणा कहते हैं कि परिस्थितियों को देखते हुए तो यह आत्महत्या का मामला ही लगता है।

कई सवाल जो अनसुलझे हुए हैं 

इस मामले में सबसे बड़ा सवाल यह है कि संकेत मेहरा वडोदरा से दिल्ली के लिए रवाना हुआ था तो फिर देहरादून कैसे पहुंच गया। 
देहरादून प्रशासन का कहना है कि संकेत मेरा यहां 5 जून को आया था जबकि 2 जून से उसके फोन से बात नहीं हो पाई। 
देहरादून प्रशासन का कहना है कि यह युवक हरिद्वार के लिए आया था, सवाल यह है कि दिल्ली से हरिद्वार के रास्ते में देहरादून कैसे आया। 
जिस क्वारंटाइन सेंटर में संकेत मेहरा का शव मिला है वहां पर मौजूद रजिस्टर में उसके बारे में कोई जानकारी नहीं थी। सवाल यह है कि ऐसा कैसे हो सकता है किसी युवक को प्रशासन द्वारा क्वारंटाइन किया जाए और उसकी डिटेल्स रजिस्टर में दर्ज ना की जाए। 
क्वारंटाइन सेंटर में मरीजों को हर रोज सुबह, दोपहर और शाम भोजन व दवाएं इत्यादि दी जाती है। फिर संकेत मेहरा इतने दिनों तक एक कमरे में बंद कैसे बना रहा।

13 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

प्रीति ने लिखा 'लाइफ बहुत गंदी है' और फांसी पर झूल गई
स्वस्थ इंसान का हृदय 1 मिनट में कितना खून पंप करता है
लो जी, कमलनाथ को पता ही नहीं था, दिल्ली में उनके खिलाफ क्या पक रहा है
चलती ट्रेन में यदि कोई सामान गिर जाए तो क्या करें
ग्वालियर में छात्रों की बेमियादी भूख हड़ताल, जनरल प्रमोशन के लिए
यदि कोई मर्जी के बिना घर में घुस आए तो क्या FIR दर्ज करवाई जा सकती है
पेड़ की पत्तियों का रंग हरा क्यों होता है, धूप में सूखती क्यों नहीं
थ्री पिन प्लग का पहला पिन शेष दोनों पिन से बड़ा क्यों होता है
RGPV : प्रैक्टिकल परीक्षा के लिए गाइडलाइन
बिना अनुमति घर में घुसने वालों के खिलाफ 3 तरह की धाराओं में FIR दर्ज हो सकती है
मध्य प्रदेश कोरोना: बेकाबू हुआ भोपाल, ग्वालियर-नीमच भी लाल
DAHET के लिए आवेदन शुरू, ऑफिशल नोटिफिकेशन यहां है
RGPV: परीक्षाओं के लिए नए नियम जारी
नरोत्तम मिश्रा, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह से बदतमीजी कर रहे हैं: पूर्व मुख्यमंत्री
IPC की एक धारा ऐसी जिसमें आत्महत्या को भी हत्या माना जाता है, क्या आप जानते हैं 

कॉलेज स्टूडेंट से लेकर यूनिवर्सिटी कुलसचिव तक के लिए राज्यपाल की गाइडलाइन


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here