Loading...    
   


पेड़ की पत्तियों का रंग हरा क्यों होता है, धूप में सूखती क्यों नहीं / GK IN HINDI

श्रीमती शैली शर्मा। पेड़ की पत्तियां मुलायम होती हैं, कमजोर होती हैं। सवाल यह है कि जब गर्मी के मौसम में, तेज धूप में, जरा सी देर में इंसानों की त्वचा जल जाती है तो फिर पत्तियां हरी क्यों बनी रहती है। इस प्रश्न का बहुत ही सरल सा उत्तर है। पेड़ों की पत्तियों पर सूर्य के प्रकाश का कोई असर नहीं होता। क्योंकि उनका उनका जन्म ही सूर्य की तेज किरणों का सामना करने के लिए होता है।

पेड़ों की पत्तियों में हरा रंग कहां से आता है

दरअसल, पौधों के पास उनका खुद का हरित लवक यानी कि क्लोरोफिल होता है जो कि प्रकाशीय ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में बदल कर प्रकाश संश्लेषण या फोटोसिंथेसिस की क्रिया करता है परंतु अगर प्रायोगिक तौर पर देखा जाए तो नीली, हरी, लाल तथा पीली रोशनी का पेड़ पौधों पर अलग-अलग प्रभाव पड़ता है जो कि कृत्रिम वातावरण में करवाया जाता है परंतु सूरज से आने वाली रोशनी सभी के लिए एक समान होती है तथा हरे रंग के पत्ते उसे आसानी से पकड़ लेते हैं और प्रकाश संश्लेषण की क्रिया करते हैं। 

क्या सिर्फ सूर्य की किरणें पौधों में प्रकाश संश्लेषण के लिए पर्याप्त है

प्रकाश संश्लेषण की क्रिया के लिए सिर्फ सूर्य का प्रकाश ही काफी नहीं है, इसके लिए CO2 यानी कि कार्बन डाइऑक्साइड तथा H2o यानी कि जल भी आवश्यक है। कार्बन डाइऑक्साइड से प्राप्त होती है तथा पौधों की जगह अवशोषित करते हैं। इस प्रकार प्रकाश संश्लेषण की क्रिया सूर्य के प्रकाश और क्लोरोफिल की उपस्थिति में संपन्न होती है तथा कार्बोहाइड्रेट, ऑक्सीजन तथा जल का निर्माण होता है। तो इस प्रकार यह दोनों क्रियाएं पृथ्वी पर जीवन का संतुलन बनाए रखने के लिए आवश्यक है। एक के बिना दूसरी असंभव है। इसलिए पेड़-पौधे और जीव-जंतु एक दूसरे के लिए आवश्यक है। 

सरल शब्दों में समझिए 

पेड़ की पत्तियों का रंग सूर्य की रोशनी के कारण प्रभावित नहीं होता बल्कि पेड़ अपने अंदर से पत्तियों को हरा रंग उपलब्ध कराता है ताकि वह सूर्य की किरणों से भोजन ग्रहण कर सके। जब तक पत्तियां हरी रहती हैं तब तक ही पेड़ सूर्य के प्रकाश से भोजन ग्रहण कर पाता है। जब पत्तियों का काम पूरा हो जाता है तो पेड़ उसमें हरे रंग का तत्व खत्म कर देता है और पत्तियां सूख कर जमीन पर गिर जाती हैं। यह सब कुछ पेड़ के कारण होता है, सूर्य के कारण नहीं। लेखक श्रीमती शैली शर्मा वनस्पति विज्ञान में स्नातकोत्तर भी है। संपर्क (+91 90391 47849)
Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article
(current affairs in hindi, gk question in hindi, current affairs 2019 in hindi, current affairs 2018 in hindi, today current affairs in hindi, general knowledge in hindi, gk ke question, gktoday in hindi, gk question answer in hindi,)


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here