Loading...    
   


कोरोना पॉजिटिव के शव को कब्रिस्तान की जगह सीधे घर ले गए परिजन / JABALPUR NEWS

जबलपुर। हनुमानताल चाँदनी चौक निवासी 62 वर्षीय शायदा बेगम की मौत और अंतिम संस्कार होने के दूसरे दिन उनके कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी ने इस प्रक्रिया और इसके लिए बनाए गए नियमों के पालन पर सवाल खड़े कर दिए हैं। परिजनों का कहना है कि मेडिकल से रविवार की शाम 5 बजे उन्हें शव दिया गया, जिसे लेकर वे घर पहुँचे लेकिन कोरोना की रिपोर्ट आने तक अंतिम संस्कार के लिए वे रुके रहे। इधर कलेक्टर भरत यादव ने कहा कि नियमों के तहत उन्हें बॉडी सौंपी गई थी, परिजनों को सीधे कब्रिस्तान जाना था जिन लोगों की गल्तियाँ हैं उन पर कार्यवाही की जायेगी। इस प्रकरण के जाँच के आदेश दिये गये हैं।   

पिछले कुछ सालों से साँस की बीमारी से पीडि़त शायदा बेगम को तेज बुखार व साँस लेने में परेशानी होने पर रविवार 19 अप्रैल की सुबह करीब 10 बजे परिजन मेट्रो अस्पताल लेकर गए। वहाँ फीवर क्लीनिक में जाँच हुई, अधिक बुखार होने पर उन्हें विक्टोरिया अस्पताल ले जाने की सलाह दी गई। परिजन उन्हें करीब 10.30 बजे विक्टोरिया अस्पताल ले लाए जहाँ पेइंग आइसोलेशन वार्ड में उनका स्वाब सैंपल लिया गया और बुखार व अन्य दवाएँ दी गईं। दोपहर करीब 2 बजे हालत और बिगडऩे पर परिजन उन्हें मेडिकल ले जा रहे थे कि रास्ते में ही उनकी मौत हो गई। वे मेडिकल पहुँचे जहाँ प्रोटोकॉल के हिसाब से सस्पेेक्ट कोरोना पॉजिटिव मानते हुए बॉडी को केमिकल से साफ करने के बाद पॉलीथिन में पैक किया गया। शाम 5 बजे शव परिजनों को सौंपा गया, जिसे लेकर वे हनुमानताल स्थित घर आए। 

मृतका के परिवार से जुड़े अमरीरुद्दीन अंसारी ने बताया कि डॉक्टर्स ने रात 9 बजे जाँच रिपोर्ट आने की बात कही थी, इसलिए हम अंतिम संस्कार के लिए रुके रहे। रात 9 बजे मेडिकल में जाकर डॉक्टर से मिले तो उन्होंने सभी रिपोर्ट निगेटिव आने की बात बताई। इसके बाद विक्टोरिया की कैजुअल्टी में मौजूद डॉक्टर ने भी ऐसा ही कहा। अमरीरुद्दीन के अनुसार इसके बाद रात 10.30 बजे मंडी मदार टेकरी कब्रिस्तान में अंतिम संस्कार किया गया। उनका कहना है कि शव उसी तरह पॉलीथिन की पैकिंग में रहा और जनाजे में करीब 12 लोग ही शामिल थे। दूसरी ओर चर्चा है कि घर में अंतिम संस्कार की सभी रस्में अदा की गईं हैं। 

इनका कहना है

मृतक महिला के संबंध में जो शिकायत मिली है उसकी जाँच कराई जा रही है, जाँच के बाद दोषियों पर एफआईआर दर्ज कराई जायेगी। उनके नजदीकी परिजनों को होम क्वारेंटाइन कराया गया है और भी जो लोग शामिल थे उनका पता लगाया जा रहा है, साथ ही अंतिम संस्कार को लेकर जो गाइडलाइन है, इसकी ट्रेनिंग थाना प्रभारी, क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि को दी जायेगी ताकि आगे कोई गलती न हो।
-भरत यादव, कलेक्टर


23 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़ी जा रही खबरें

दो इलेक्ट्रिक पोल के बीच तार ढीला क्यों होता है, सीधा क्यों नहीं होता, आइए जानते हैं
चरणामृत क्यों पीते हैं, कोई साइंस है या ब्राह्मणों की दूसरों को नीचा दिखाने वाली परंपरा 
मच्छर शाम के समय सिर के ऊपर क्यों भिनभिनाते हैं 
कमलनाथ के प्रिय IAS सभाजीत यादव रिटायरमेंट के 10 दिन पहले सस्पेंड 
RGPV ने ऑनलाइन परीक्षाओं की तैयारियां शुरू की, EXAM DATE FIX
मध्य प्रदेश: 35 नए पॉजिटिव, टोटल 1587, 28वें जिले में संक्रमित मरीज मिला 
MP BOARD परीक्षाओं के गृह मूल्यांकन हेतु गाइडलाइन जारी 
किसानों के लिए बिना क्रेडिट कार्ड के 20 लाख का LOAN, सब्सिडी भी मिलेगी 
खबर का असर: मध्य प्रदेश में मंत्रियों को संभाग के बाद विभाग भी मिले 
कोरोना संक्रमित मुस्लिम गांव से सर्वे टीम को भगाया, 1 गांव में 10 पॉजिटिव मिले हैं 
नगरीय निकायों में प्रशासकीय समितियां असंवैधानिक, 243-A का उल्लंघन: सज्जन वर्मा 
भोपाल टोटल लॉक डाउन: सरेआम 17 साल की लड़की का अपहरण और रेप 
लॉक डाउन में अमूल ने दाम घटाए, बिक्री बढ़ी, आइसक्रीम नहीं पनीर खा रहे हैं लोग 
तकिए के पीछे न्यूड नेहा कक्कड़, फैंस ने जमकर ट्रोल किया 
RSS नेता के भतीजे की हत्या, सदमे में RSS नेता की मौत


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here