Loading...    
   


AIIMS भोपाल में कोरोना पॉजिटिव पर नई दवा का ट्रायल / BHOPAL NEWS

भोपाल। एम्स भोपाल में कोरोना संक्रमित मरीजों पर माइक्रोबैक्टीरियम-डब्ल्यू (एमडब्ल्यू) दवा के ट्रायल की प्रक्रिया शुरू हो गई है। गुरुवार सुबह एम्स के आईसीयू में भर्ती तीन कोरोना संक्रमित क्रिटिकल मरीजों को पहला डोज देकर इसका ट्रायल शुरू हो जाएगा। हर मरीज को इंजेक्शन के रूप में एमडब्ल्यू दवा के 3 डोज दिए जाएंगे। इस दवा का वैक्सीन के रूप में पूर्व में भी ट्रायल हो चुका है। 

लंग कैंसर, कुष्ठ, टीबी और निमोनिया जैसी बीमारियों के इलाज में इसके परिणाम सकारात्मक रहे थे। इस दवा का इंसानों पर कोई साइड इफेक्ट सामने नहीं आया है। यह दवा रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है, जिससे मरीज खुद-व-खुद ही संक्रमण से ठीक हो जाता है। डायरेक्टर डॉ. सिंह के नेतृत्व में प्रो. रजनीश जोशी, प्रो. देबासीस विस्वास, डॉ. सौरभ सैगल, डॉ. सागर खडंगा की टीम इस शोध में शामिल हैं। ट्रायल को 3 माह में पूरा किया जाना है, लेकिन 15 जून तक इसके प्रभाव की पहली प्रारंभिक रिपोर्ट आईसीएमआर को देने है।

बुधवार को शोधकर्ता डॉक्टर्स ने क्लिनिकल ट्रायल के प्रोटोकॉल पर चर्चा के बाद इस काम के लिए टीम को दवा दिए जाने के स्टैंडर्ड अॉपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) की ट्रेनिंग दी। एम्स डायरेक्टर डॉ. सरमन सिंह ने बताया कि मरीजों को 3 ग्रुप में बांटकर ट्रायल होगा। पहले सिर्फ क्रिटिकल कोरोना पेशेंट को ही दवा दी जाएगी। एक सप्ताह में इसके प्रारंभिक नतीजे सामने आ जाएंगे। उसी के बाद कोरोना मरीजों पर दवा के प्रभाव के बारे में अधिकारिक रूप से बयान जारी किया जाएगा। इसके बाद हेल्थ वर्कर और बिना लक्षण वाले युवा मरीजों पर ट्रायल होगा, लेकिन इन दोनों कैटेगरी पर एक सप्ताह बाद ही ट्रायल शुरू करेंगे। 

एम्स भोपाल के अतिरिक्त दिल्ली एम्स व पीजीआई चंडीगढ़ को भी कोरोना मरीजों पर इस दवा के क्लिनिकल ट्रायल का जिम्मा दिया है। पीजीआई चंडीगढ़ में अब तक 6 मरीजों पर दवा का सेफ्टी ट्रायल किया गया है। जबकि भोपाल एम्स क्लिनिकल ट्रायल शुरू करने वाला पहला संस्थान बनने जा रहा है।

30 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

संसद में उल्टे पंखे किसने और क्यों लगवाए थे, आइए रहस्य की बात जानते हैं 
IAS बनना कोई रॉकेट साइंस नहीं है: निशांत जैन 13th रैंक ने कहा 
रेंट एग्रीमेंट 11 महीने के लिए क्यों होता है, 6 या 12 महीने का क्यों नहीं होता 
छोटे-मोटे विवाद में धमकी देने पर क्या FIR दर्ज हो सकती है, पढ़िए 
मध्यप्रदेश में 30 अप्रैल से सामान्य सरकारी कामकाज शुरू 
ग्वालियर में शादी के लिए नए नियम जारी, दूल्हा और दुल्हन अलग-अलग गाड़ियों में जाएंगे
मध्यप्रदेश में लॉक डाउन ई-पास के नियम संशोधित 
मध्य प्रदेश में शासकीय कार्यालय संचालन के लिए आदेश क्रमांक 43 
बंदूक की गोलियों की तरह आसमान से गिरे ओले, पेड़ पर सो रहे हजारों पक्षी मर गए 
यदि हत्या के लिए बंदूक का ट्रिगर दबाए लेकिन गोली ना निकले, किस धारा के तहत FIR होगी 
किसान क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढ़ाने और ब्याज घटाने की मांग 
DAVV: 20 जून से हो सकते हैं एग्जाम 
मध्य प्रदेश 2500 के पार, भारत में चौथे नंबर पर, 1 दिन में 173 पॉजिटिव 
सिंधिया के ईमेल का असर: चना-सरसों किसानों को राहत मिलेगी, शिवराज का बयान 
SLAP KINGS बना दुनिया का सबसे लोकप्रिय मोबाइल गेम, PUBG और Call Of Duty को पीछे छोड़ा
कोरोना से बच गया लेकिन क्वॉरेंटाइन में मर गया, 19 साल के युवक की संदिग्ध मौत


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here