Loading...    
   


मध्य प्रदेश: लॉक डाउन का मजाक उड़ाने वाले 25 जिलों में संक्रमण | MP NEWS

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोनावायरस का संक्रमण केवल इंदौर और भोपाल में था लेकिन अब 25 जिलों में महामारी के मरीज नजर आ रहे हैं। इनमें से 12 जिले से हैं जहां महामारी के मरीजों की संख्या 10 से ज्यादा है। यह 12 जिले रेड जोन में आ गए हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि संक्रमण की खबरें खूनी जिलों से आ रही है जहां से लॉक डाउन में लापरवाही की खबरें आई थी। छिंदवाड़ा में तो कलेक्टर ने ऑफिशियल मीटिंग तक में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया था। दिल्ली से आए एक नेता को बिना स्क्रीनिंग के कोरोना कंट्रोल की मीटिंग में आमंत्रित कर लिया था।

पिछले 7 दिनों में मध्यप्रदेश में कुल 17,650 सैम्पल लिए गए हैं, जिनमें 13,492 सैम्पल की रिपोर्ट अब तक आई है। इनमें से 1341 पॉजिटिव पाए गए हैं। पॉजिटिव मरीजों की सबसे बड़ी संख्या इंदौर में है लेकिन हर नई रिपोर्ट में मध्यप्रदेश में एक न एक नए जिले का नाम जुड़ता जा रहा है। 7 दिन पहले रेड जोन में मात्र 9 जिले थे आज 12 हो गए हैं। इनमें से ज्यादातर मरीज वह है जो इंदौर या दूसरे किसी संक्रमित शहर से आए हैं। इसे प्रशासनिक लापरवाही कहिए या जनता में जागरूकता की कमी लेकिन इनमें से काफी लोगों को क्वॉरेंटाइन नहीं किया गया।

इन जिलों में पड़ोसियों से बातचीत तक बंद कर दें

भोपाल, इंदौर, मुरैना के साथ उज्जैन, खरगौन, जबलपुर, बड़वानी, विदिशा, होशंगाबाद, खंडवा, देवास और रतलाम ऐसे इलाके हैं जहां 10 से ज्यादा मरीज पाए गए हैं। इसे रेड जोन कहा गया है। प्रशासन ने भले ही लोगों को किराना और सब्जी की दुकानों तक पैदल जाने की अनुमति दे दी हो लेकिन यदि महामारी से जीतना है तो बेहतर होगा घरों से ना निकले। एक ही बार में कम से कम 15 दिनों का स्टॉक ले आए। लोगों से मुलाकात और पड़ोसियों से बातचीत तक बंद कर दें। 

इन जिलों में घरों से निकलना खतरनाक

ग्वालियर, शिवपुरी, छिंदवाड़ा, बैतूल, श्योपुर, रायसेन, धार, सागर, शाजापुर, मंदसौर, सतना, टीकमगढ़, आगर मालवा और अलीराजपुर में यदि लोग अगले 15 दिन तक घरों में रहे तो निश्चित रूप से यह इलाके पूरी तरह से क्लीन हो जाएंगे। यहां हालात संतोषजनक है लेकिन खत्री की लकीर के बिल्कुल नजदीक है।

यह संतोषजनक लेकिन खतरा बरकरार

अनूपपुर, शहडोल, उमरिया, सीधी, सिंगरौली, रीवा, बालाघाट, डिंडोरी, मंडला, सिवनी, नरसिंहपुर, कटनी, निवाड़ी, छतरपुर, पन्ना, दमोह, हरदा, राजगढ़, सीहोर, बुरहानपुर, झाबुआ, नीमच, दतिया, अशोक नगर, गुना व भिंड में स्थिति संतोषजनक है लेकिन खतरा बरकरार है। यदि कोई व्यक्ति दूसरे शहर से इन इलाकों में आया है। यदि किसी व्यक्ति में संक्रमण के लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो कृपया तत्काल प्रशासन को सूचित करें। यदि ऐसा नहीं किया सोशल डिस्टेंसिंग के साथ सोशल पुलिसिंग कप पालन नहीं किया तो इन इलाकों में भी संक्रमण फैल सकता है। सावधानी जरूरी है क्योंकि वायरस जिंदा है।

पांच से ज्यादा लोग एकत्रित नहीं

सभी मास्क पहनना जरूरी, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन, पांच से ज्यादा लोग एक स्थान पर एकत्रित ना होना, सार्वजनिक स्थानों पर ना थूकना, शराब, गुटका, तंबाकू पर सख्त प्रतिबंध, कार्य स्थल पर टेंप्रेचर स्क्रीनिंग, सेनिटाइजेशन, वृद्ध, कमजोर, मरीज, बच्चे घर पर ही रहेंगे। 

17 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़ी जा रही खबरें



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here