GWALIOR NEWS- कलेक्टर रेत के वाहन राजसात नहीं कर सकते: हाई कोर्ट

ग्वालियर।
मध्यप्रदेश हाईकोर्ट की ग्वालियर बेंच युगल पीठ ने स्पष्ट कर दिया है कि अवैध रेत परिवहन के आरोप में पकड़े गए वाहनों को राजसात नहीं किया जा सकता। कलेक्टर के पास वाहन को राजसात करने के अधिकार नहीं है। कलेक्टर केवल जुर्माना लगा सकता है। उल्लेखनीय है कि वाहन के राजसात हो जाने के डर से ही रेत माफिया के लोग उनको पकड़ने वाले सरकारी अधिकारियों पर हमला कर देते थे।

रेत नियम 2019 में कलेक्टर को वाहन राजसात करने का अधिकार नहीं

अंचल में रेत का अवैध परिवहन के मामले में ट्रैक्टर-ट्राली, डंपर आदि वाहनों को माइनिंग विभाग ने जब्त किया था। विभाग ने इन पर जुर्मान नहीं करते हुए राजसात की कार्रवाई की थी। कलेक्टरों ने वाहनों को राजसात कर लिया था। जिन लोगों के वाहन राजसात हुए, उन्होंने हाई कोर्ट में याचिका दायर की। हाई कोर्ट में 7 जुलाई को बहस हुई थी। याचिकाकर्ताओं की ओर से अधिवक्ता विवेक मिश्रा ने तर्क दिया कि 30 अगस्त 2019 को राज्य शासन ने नए रेत नियम लागू किए गए थे। इस नियम के तहत सिर्फ कलेक्टर को जुर्माने की कार्रवाई का अधिकार दिया गया है। जुर्माना करके वाहन को छोड़ना होगा। वाहन को राजसात नहीं किया जा सकता है। वाहन को राजसात की करने की कार्रवाई गलत तरीके से की गई है।

शासन की ओर से पुरानी कार्रवाई का रेफरेंस दिया गया

शासन की ओर से तर्क दिया गया कि हाई कोर्ट की प्रिंसिपल बैंच ने एक आदेश दिया था। उस आदेश के अनुसार कलेक्टर को वाहन को जब्त कर राजसात का अधिकार है। इस तर्क का विरोध करते हुए याचिकाकर्ता के अधिवक्ता मिश्रा ने कहा कि जिस आदेश का हवाला दिया जा रहा है वह आदेश प्रिसिंपल बैंच ने अगस्त 2019 पहले दिया था। उसके बाद रेत परिवहन के नए नियम लागू हो गए हैं। जब नए नियम आ गए हैं, उस आदेश का कोई औचित्य नहीं है।

कोर्ट ने बहस के बाद फैसला सुरक्षित कर लिया था। इस मामले में कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है। रेत परिवहन में जब्त किए गए वाहनों पर कलेक्टर को सिर्फ जुर्माना का अधिकार है। उन्हें राजसात नहीं कर सकते हैं। राजेंद्र सिंह आदि ने याचिकाएं दायर की थी।

06 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मध्य प्रदेश मानसून- मप्र के 17 जिलों के लिए अगले 8 घंटे भारी, बाढ़ जैसे हालात हो सकते हैं
GWALIOR-CHAMBAL में मूसलाधार बारिश क्यों हो रही है, पढ़िए बादलों का विज्ञान
MP NEWS- चयनित शिक्षकों ने मुर्गा बनकर माफी मांगी
OUTSOURCE EMPLOYEE NEWS- नवीन नियुक्ति में अनुभवी आउटसोर्स कर्मचारियों को प्राथमिकता दी जाए: हाईकोर्ट
MP RES TRANSFER LIST- पंचायत विभाग की ट्रांसफर लिस्ट
अतिथि शिक्षक NEWS: पुलिस ने नीलम पार्क में ताले जड़े, RSS कार्यालय में धरना दिया
MP COLLEGE ADMISSION- नियमों में संशोधन आदेश जारी
INDORE NEWS- प्राइवेट स्कूल संचालक और पेरेंट्स दोनों तैयार नहीं, ऑनलाइन क्लास चलेंगी
MP Mining Transfer list- मध्यप्रदेश खनिज विभाग की तबादला सूची
MP FLOOD- बाढ़ की विभीषिका के बीच 2 फोटो वायरल, वर्दी की शान और कुर्सी का अभिमान
MP TAX TRANSFER LIST- वाणिज्य कर विभाग की तबादला सूची

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiबाल काटने पर दर्द क्यों नहीं होता, जबकि वह भी शरीर का अंग है
GK in Hindiशराब में आग क्यों लगती है, पानी में क्यों नहीं लगती, सरल हिंदी में समझिए 
GK in Hindiअंधेरा होने पर भी मच्छरों को हमारी लोकेशन कैसे मिल जाती है 
GK in Hindiरत्ती भर शर्म में, रत्ती से क्या तात्पर्य होता है, पढ़िए मजेदार जानकारी
GK in Hindi- वह कौन सी संख्या है जिसे रोमन में नहीं लिखा जा सकता
GK in Hindiरानियों के रेशमी वस्त्र किससे धुलते थे, वाशिंग पाउडर तो था नहीं
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here