मृत अतिथि शिक्षकों के आश्रितों के लिए भी कोई योजना होनी चाहिए - Khula Khat

सादर नमस्‍कार,
विगत 15 माह से मप्र के प्राथमिक एवं माध्‍यमिक विद्यालय बंद हैं। ऐसे समय मे अति अल्‍प मानदेय पर 15 वर्षों से सेवा दे चुके अतिथि शिक्षक एवं उनके परिवार भयंकर आर्थिक विपन्‍नता का सामना कर रहें है। कई अतिथिशिक्षक कोरोना के शिकार बने तो कई बेरोजगारी के चलते आत्‍महत्‍या करने पर विवश हो गये क्‍योंकि शिक्षक एवं शिक्षा दोनो ही दायित्‍व निर्वहन की सीख देते हैं। 

मगर वर्षों तक अल्‍प मानदेय पर इन्‍होंने नेताओं के झूठे वचनों के आधार पर काम किया और अपनी युवावस्‍था की ऊर्जा को खर्च किया। अब जब ये अधेड़ हो चुके हैं और शासन इनकी ओर ध्‍यान नहीं दें रहा। आर्थिक रूप से ये विपन्‍न हैं। परिवार की रोजी रोटी तक विद्यालय बंद होने से जुटाने मे जद्दोजहद करना पड़ रही है। ऐसे मे पारिवारिक तनावों व परेशानिया से हार कर दायित्‍व निर्वहन मे खुद को अक्षम पाकर आत्‍म हत्‍या जैसा जघन्‍य कृत्‍य करने पर विवश हो रहे है ऐसी म.प्र मे अनेकों घटनायें हो चुकी है जहॉं अतिथिशिक्षकों ने आत्‍महत्‍या की है। 

जहां शासकीय प्राथमिक एवं माध्‍यमिक विद्यालय बंद होने से अतिथिशिक्षकों के दुर्दिन हैं तो वहीं शिक्षा के नाम पर औपचारिकता व खाना पूर्ति हो रही है। जिसका भयंकर दुष्‍परिणाम छात्रों का शैक्षिक पतन है। खाना पूर्ति से सरकार रिजल्‍ट बनाकर छात्रों को उत्‍तीर्ण तो कर सकती है परंतु आगे जाकर अधिकांश छात्रों का बौद्धिक पतन देखने मिलेगा जो विद्यालयीन शिक्षा के अभाव मे होगा।

यहां 11 मई 2013 मे अतिथिशिक्षकों को संविदा शिक्षक बनाने की घोषणा करने वाले मुख्‍यमंत्री शिवराजजी, उनको  नियमितिकरण का वचन देने वाले पूर्व मुख्‍यमंत्री कमलनाथजी एवं उनके नियमितिकरण की जिम्‍मेदारी लेने वाले पूर्व सीएम दिग्‍विजयजी व उनको ढाल और तलवार बनने का भरोसा देने वाले ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया जी की खामोशी निंदनीय है। 

म.प्र मे सबसे अधिक प्राथमिक एवं माध्‍यमिक विद्यालय है जो विद्यार्थियों के शैक्षिक जीवन का आधार है। इनके बंद होने से छात्र व उनके अतिथिशिक्षक दोनो ही संकट मे हैं। वही म.प्र शासन ने कोरोना काल का मानदेय अतिथिशिक्षकों को दिया ही नही है। जिनकी सेवाएं खत्‍म कर दी गई है या विद्यालय न खुलने से वे बेरोजगार हैं अप्रैल 2020 के बाद से। 

ऐसे मे प्रदेश के विपक्ष के नेताओं एवं प्रदेश के सत्‍ता दल के नेताओ को जो सत्‍ता मे हैं पीईबी पास डीएड, बीएड 5-10 वर्ष कार्य कर चुके अतिथिशिक्षकों के नियमितिकरण की नीति लाना चाहिए ही साथ ही जो अतिथि‍शिक्षक कोरोना या आर्थिक विपन्‍नता या अन्‍य परेशानी मे आत्‍म हत्‍या का अपराध कर चुके है उनके परिवार के भरण पोषण को सुनिश्‍चित करना चाहिए क्‍योंकि मामा मे दो बार मॉं शब्‍द है मामा से ममता की आश न करना बेमानी है। सादर धन्‍यवाद, आशीष कुमार बिरथरिया उदयपुरा जिला रायसेन म.प्र

03 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP NEWS- अतिथि शिक्षकों की भर्ती के आदेश जारी
MP NEWS- ग्वालियर में उर्जा मंत्री हादसे का शिकार, मंच से नीचे गिरे, अस्पताल में भर्ती
MP NEWS- 3.48 लाख कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई पर विचार
MP NEWS- ट्रांसफर में टंटे मत करना: सीएम ने डिनर टेबल पर मंत्रियों को समझाया
MPCG NEWS- हर पेंशनर को ₹400000 मिलने का रास्ता साफ
MP BOARD- कक्षा 12 के रिजल्ट का डिटेल प्लान जारी किया
MP NEWS- छग की तरह मप्र में भी कर्मचारियों को वेतनवृद्धि व एरियर्स मिलना चाहिए
MP NEWS- शिक्षा मंत्री ने कहा: पेरेंट्स के खिलाफ FIR दर्ज कराई जानी चाहिए थी
MP NEWS- विवेक तन्खा के इस्तीफे से सोनिया गांधी और कमलनाथ पर दबाव
MP NEWS- यशोधरा से विवाद के बाद मंत्री तोमर BJP प्रदेश कार्यालय में तलब
RAIL SAMACHAR- भोपाल से पुणे, खजुराहो और बीना के लिए विशेष ट्रेन
GWALIOR NEWS- BJP में ग्वालियर-चंबल संभाग ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम
New Cars in India 2021- मारुति की नई हैचबैक कार मात्र 4.5 लाख रुपए में

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindi- मुर्गा सूर्योदय से पहले बांग क्यों देता है, कभी लेट क्यों नहीं होता
GK in Hindi- COCA COLA सिरदर्द के लिए बना रहे थे, गलती से कोल्ड ड्रिंक बन गया
GK in Hindiमनुष्य की दो आंखें क्यों होती है जबकि एक आंख से भी पूरा दिखाई देता है
GK IN HINDI- इंटरनेट डाटा का उत्पादन कहां और कैसे होता है 
GK IN HINDI- BIKE का इंजन CC में क्यों होता है, हॉर्स पावर में क्यों नहीं होता
GK IN HINDI- ATM से थर्मल पेपर की पर्ची क्यों निकलती है, सादा कागज क्यों नहीं है
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here