Loading...    
   


MADHYA PRADESH में प्रॉपर्टी रजिस्ट्री पर टैक्स कम नहीं हुआ सिर्फ घोषणा हुई है - MP NEWS

भोपाल। पिछले दिनों मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्य प्रदेश के शहरी इलाकों में प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री कराने पर 2% सेस (कमलनाथ सरकार द्वारा लगाया गया अतिरिक्त टैक्स) खत्म करने की घोषणा की थी परंतु सरकार की ओर से अब तक इसका गजट नोटिफिकेशन नहीं किया गया है। नतीजा व्यवहारिक तौर पर टैक्स कम नहीं हुआ। लोगों को प्रत्येक ₹100000 पर ₹2000 (यानी 3000000 के मकान पर ₹60000) अतिरिक्त चुकाने पड़ रहे हैं। सामान्यतः इस तरह की घोषणाओं से पहले गजट नोटिफिकेशन की तैयारी हो जाती है और घोषणा के साथ ही नोटिफिकेशन कर दिया जाता है।

मध्यप्रदेश में प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री पर 1 सप्ताह बाद टैक्स कम होगा

पंजीयन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि कैबिनेट में हुए निर्णय के बाद इसका गजट नोटिफिकेशन किया जाएगा। इसके बाद इसे सिस्टम पर अपडेट किया जाएगा। इस काम में करीब एक सप्ताह लग सकता है। इसके बाद ही घटी हुई स्टांप ड्यूटी पर रजिस्ट्री हो पाएगी। बता दें कि हर दिन करीब 150 से 200 लोग रजिस्ट्री कार्यालय पहुंच रहे हैं। मंगलवार को जहां 190 रजिस्ट्रियां हुईं थीं, वहीं बुधवार को 120 रजिस्ट्रियां ही हुईं। स्टांप ड्यूटी में छूट का लाभ नहीं मिलने से बुधवार को आधे से ज्यादा लोग मायूस होकर बिना रजिस्ट्री कराए चले गए। 

10 साल में 5% से 12.5% हो गए प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री पर सरकारी टैक्स

2010 में मप्र में स्टांप ड्यूटी 5 फीसद के करीब थी। इस पर कोई अतिरिक्त चार्ज नहीं लगता था, लेकिन बीते 10 साल में स्टांप ड्यूटी में बेहिसाब बढोतरी छूट देने के नाम पर हुई। इधर, रियल एस्टेट से जुड़े लोगों का कहना है कि स्टांप ड्यूटी में दो फीसद की कमी करने का यह निर्णय आम जनता को राहत देने वाला है और इससे रजिस्ट्रियों की संख्या में भी वृद्घि होगी। बता दें कि राज्य सरकार ने महाराष्ट्र सरकार की तर्ज पर नगरीय निकाय शुल्क दो फीसद घटा दिया है। पहले तीन फीसद नगरीय निकाय शुल्क लगता था, जो दो फीसद कर दिया गया है। इस निर्णय के बाद जनता को अब 10.5 फीसद ही स्टांप ड्यूटी रजिस्ट्री कराने में लगेगी। जो पहले 12.5 फीसद लगती थी। बता दें कि अधिकतर राज्यों में अब स्टॉप ड्यूटी 7 से 12 फीसद तक है। रियल एस्टेट मार्केट में बूम आने से रोजगार के अन्य अवसर भी खुलेंगे।

10 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MPTET-3 EXAM 2020: वर्ग 3 का परीक्षा कार्यक्रम घोषित
SCHOOL OPEN: स्कूल खोलने के लिए सरकार ने SOP जारी किया
BF ने GF से कैंसर पीड़ित पिता के लिए खून बदले आबरू ले ली
इंडियन आर्मी की यूनिफार्म का कलर ग्रीन क्यों होता है
यदि दामाद अपनी पत्नी को मायके वालों से मिलने ना दे तो किस धारा के तहत मामला दर्ज होगा
MP BOARD हायर सेकेण्डरी/हा.से.व्यावसायिक एवं हाईस्कूल पूरक परीक्षा कार्यक्रम
MP NEWS: आंध्र प्रदेश से आए बादल मध्य प्रदेश के 21 जिलों में बरसेंगे
GWALIOR के भाजपा नेता सतीश सिकरवार कांग्रेस में शामिल, उपचुनाव चुनाव लड़ेंगे
इलेक्ट्रिक करंट कब झटके मारता है और कब चिपका लेता है, ध्यान से पढ़िए
INDORE में स्कूल ने बेटे को क्लास से निकाला, माँ ने पिता को जीवन से निकाल दिया
स्पेशल ट्रेन के नाम पर दोगुना किराया वसूली कर रहे थे, अब यात्री ही नहीं मिल रहे
20-50 फार्मूला पर अनिवार्य सेवानिवृत्ति: सुप्रीम कोर्ट के निर्णयों पर आधारित स्थापित सिद्धांत
कंप्यूटर के मेन बोर्ड को मदर बोर्ड क्यों कहते हैं फादर बोर्ड क्यों नहीं कहते हैं
DAVV NEWS: फर्जी वेबसाइट चल रही थी, यूनिवर्सिटी को पता ही नहीं, हजारों स्टूडेंट्स ठगे
इंदौर में BF संग लिव इन में रह रही लड़की ने सुसाइड किया, प्रेमी के खिलाफ केस दर्ज
नाबालिग लड़की की खरीद-फरोख्त या वेश्यावृत्ति पर FIR में धारा कौन सी धारा दर्ज की जाएगी
EPFO की बैठक में ब्याज दर का निर्धारण, 6 करोड़ कर्मचारियों को लाभ
INDORE में केंद्रीय विद्यालय के लिए आदेश जारी


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here