Loading...    
   


शिक्षक दिवस" पर घोषणा के बजाय पूर्व घोषित "पदनाम" के आदेश जारी होना चाहिए / Khula Khat

माननीय शिवराजसिंह जी चौहान, मुख्यमंत्री महोदय मप्र शासन भोपाल, पदनाम को लेकर आपके व अन्य माननीयों द्वारा एकाधिक बार घोषणा पूर्व वर्षों में की गई थी। इनके पालन में आदेश अद्यपर्यंत जारी नही होने से शिक्षक कर्मचारियों में भारी नाराजगी व आक्रोश व्याप्त हैं। 

"मप्र तृतीय वर्ग शास कर्मचारी संघ" आपसे आग्रह व अपेक्षा करता है कि इस बार 05 सितम्बर 2020 को ऐसी कोई घोषणा न की जाए जिसके आदेश वर्षों तक जारी न हो सके। बस इतनी कृपा करने का कष्ट करे कि पूर्व घोषणा के पालन में योग्यता धारी क्रमोन्नत वेतनमान प्राप्त शिक्षक कर्मचारियों को अनार्थिक मांग "पदनाम" के आदेश प्रसारित कर इनके मान सम्मान की रक्षा कर दीजिएगा। 

आपकी घोषणा के अनुरूप आदेश प्रसारित न होने से हजारों हजार शिक्षक कर्मचारी 30-40 वर्ष तक उसी पद से व्यथित व मायुस होते हुए बगैर "पदोन्नति व पदनाम" के सेवानिवृत्त हो चुके है जिस पद पर नियुक्त हुए थे। यह सिलसिला अनवरत जारी है। "पदनाम" के आदेश इस शिक्षक दिवस पर जारी होते है तो, यह एक एतिहासिक व यादगार "शिक्षक दिवस" के रूप में सदैव याद रखा जाएगा।
कन्हैयालाल लक्षकार 
प्रांतीय उपाध्यक्ष, मप्र तृतीय वर्ग शास कर्म संघ 

01 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

नवजात शिशु की मुट्ठी बंद क्यों रहती है, क्या उसमें सचमुच भाग्य छुपा होता है
कमलनाथ ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को 212 करोड रुपए की सरकारी जमीन ₹100 में दी थी
BF ने शादी से मना किया, रेप केस दर्ज / लड़का बोला ब्लैकमेल कर रही है
जब यह इमारत जमीन पर खड़ी है तो इसे 'हवामहल' क्यों कहते हैं
संपत्ति की सुरक्षा का अधिकार कब प्रारंभ होता है और कब तक बना रहता है
9 वोल्ट की बैटरी से 9 वाट का LED बल्ब कितनी देर तक जलेगा
ग्वालियर वाले रेल अफसर की बेटी ने माँ-भाई को गोली मारी, शीशे पर लिखा डिस्क्वालीफाइड ह्यूमन
क्या आप एक शब्द में भारत की सभी विश्व सुंदरियों के नाम बता सकते हैं, यहां पढ़िए
JEE-NEET 2020 परीक्षार्थियों को सरकार की तरफ से फ्री कन्वेंस मिलेगा
प्रणब मुखर्जी: मध्यप्रदेश में 7 दिन का राजकीय शोक


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here