Loading...    
   


कर्मचारी भविष्य निधि फर्जी चालान मामले में बालाराम की जमानत निरस्त / GWALIOR NEWS

ग्वालियर। फरियादी द्वारा थाना हजीरा को बताया गया की सक्सेना ट्रेडिंग कंपनी पर बालाराम शुक्ला वर्ष 2009 से अकाउंटेंट का कार्य देखते थे और उनके द्वारा ही स्टाफ के प्रोविडेंट फंड एवं ईएसआई के चालान बैंकों में भुगतान कर संबंधित कार्यालय में प्रस्तुत किए जाते थे। वर्ष 2013 से उक्त चालान बैंक में ऑनलाइन जमा की जाने लगे जिसके लिए बालाराम ने अपने लडक़े सुधीर शुक्ला को भी कंपनी में अपने साथ नौकरी पर लगवा लिया और कंपनी के कंप्यूटर पासवर्ड लेकर नेट बैंकिंग के माध्यम से चालान जमा किए जाने लगे। 

उक्त चालन स्टेट बैंक में ही जमा किए जाते थे लेकिन कंपनी का कोई खाता स्टेट बैंक कि किसी भी शाखा में नहीं था। तब बालाराम ने फरियादी से कहा की चालान की रकम को हमारे खाते में ट्रांसफर कर दो हम अपने खाते से चालन स्टेट बैंक में जमा कर देंगे। कंपनी के मालिक ने विश्वास करते हुए चालान की रकम आरोपी गणों के खातों में ट्रांसफर कर दी। यह सिलसिला कई सालों तक चलता रहा। कंपनी को इस बात की जानकारी तब हुई जब की सरकार द्वारा कंपनी के खातों को बंद कर दिया गया और ईएसआई के चालान जमा नहीं किए जाने का नोटिस दिया।

कंपनी के मालिक ने आरोपी गणों से चालान जमा किए जाने के संबंध में जानकारी ली तो आरोपी गणों ने कहा हमने सभी चालान जमा किए हैं जिसकी पड़ताल करने पर पता चला कि विभागों में जो चालान प्रस्तुत किए गए वह कूट रचित फर्जी हैं। आरोपी गणों ने कोई राशि जमा नहीं की है। जिस पर से बालाराम के खिलाफ धोखाधड़ी कूट रचित दस्तावेज एवं आईटी एक्ट का प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है।

आरोपी बालाराम को पुलिस ने 14 अगस्त को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था जिसका जमानती आवेदन श्रीमान जिला सत्र न्यायाधीश ग्वालियर के यहां प्रस्तुत किया गया था जिसकी सुनवाई श्री आरके जैन एकादशम एडीजे ग्वालियर के न्यायालय में की गई।

शासन की और से अपर लोक अभियोजक धर्मेंद्र कुमार शर्मा द्वारा आपत्ति दर्ज करते हुए बताया गया सह आरोपी सुधीर वर्तमान में फरार है आरोपी गणों ने मिलकर शासन में जमा की जाने वाली राशि 17 लाख 62 हजार रुपए का गबन किया है एवं फर्जी चालान बनाकर विभागों में प्रस्तुत किए गए हैं जो गंभीर किस्म का अपराध है आरोपी गढ़ ने संगठित रूप से अपराध करित किया है ऐसे में आरोपी गणों को जमानत का लाभ दिया जाना न्यायोचित नहीं है।

न्यायालय ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद अपराध की गंभीरता एवं शासकीय कार्यालयों में फर्जी चालान पेश कर छल किया है ऐसे में आरोपी का जमानती आवेदन निरस्त किए जाता है।\

03 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

कमलनाथ का कबीला ग्वालियर में ज्योतिरादित्य सिंधिया से भी बड़ा धमाका करने की तैयारी में 
खनिज अधिकारी की वाइफ के बंगले में मिनी बार, बाथरूम में AC, ऐसो आराम की हर चीज
BF ने GF से कैंसर पीड़ित पिता के लिए खून बदले आबरू ले ली
मध्य प्रदेश कोरोना: 100 से ज्यादा एक्टिव केस वाले जिलों की संख्या 38 हुई
कोरोना के कारण 8वीें तक का पाठ्यक्रम संक्षिप्त किया: कमिश्नर
मध्य प्रदेश मौसम का पूर्वानुमान जारी, वीकेंड की प्लानिंग कर लें
HOME LOAN के लिए 11 सबसे अच्छे बैंक, जहां सबसे कम ब्याज लिया जा रहा है
भोपाल में डॉक्टर ब्लैकमेलिंग के मामले में चैनल के ऑफिस पहुंची क्राइम ब्रांच
मप्र की आंगनवाड़ी में बच्चों को अंडे खिलाए जाएंगे
INDORE में शिवसेना नेता की हत्या, रात 2 बजे गोली मारी गई
चीटियां क्या सचमुच अनुशासन में चलतीं है या फिर एक दूसरे के पीछे चलना उनकी मजबूरी है 
लड़की, लड़के को ले जाए तो कुछ नहीं; लड़का, लड़की को भगाए तो किडनैपिंग, ऐसा क्यों
GWALIOR: भाजपा के सदस्यता अभियान से फैला कोरोना, कई नेता और कार्यकर्ता पॉजिटिव
MP BY-ELECTION: ग्वालियर-चंबल में दिग्विजय सिंह की सक्रियता, प्रत्याशियों का चयन
INDORE में वेब सीरीज के नाम पर लड़कियों से न्यूड वीडियो मंगवाए जाते थे


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here