Loading...    
   


शिवराज सिंह फेल: बाबूलाल गौर को हटाना और कमलनाथ सरकार गिराना, में अंतर समझना चाहिए था / MP NEWS

भोपाल। किसने कितने रोड़े टकाए और कौन किस विभाग की जिद पर अड़ा है, आम जनता को इन सब पचड़ों में पढ़ने की जरूरत नहीं है। मैसेज तो केवल एक ही नजर आ रहा है और वह यह कि भारतीय जनता पार्टी के नेता श्री शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री पद के लिए अयोग्य साबित हो गए हैं। मंत्रिमंडल के विस्तार के बाद 1 सप्ताह तक मंत्रियों के बीच विभागों का वितरण ना हो पाना मुख्यमंत्री की असफलता को प्रमाणित करता है।

शिवराज सिंह को सहानुभूति नहीं मिल सकती

मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठे हुए व्यक्ति को कई प्रकार की राजनीतिक साजिशों का सामना करना ही पड़ता है। उसके विरोधी उसे कुर्सी से गिराने के लिए हमेशा कोशिश करते रहते हैं। हर मंत्री चाहता है कि उसे उसकी मर्जी का विभाग मिले। किसी भी पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व हमेशा राज्य की सरकार पर नियंत्रण बनाए रखने की कोशिश करता है। केंद्रीय नेतृत्व की मंजूरी और अनापत्ति अनिवार्य होती ही है। इस बार कुछ भी ऐसा नहीं हो रहा है जो नया हो, या फिर अजीब सा हो।

मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने से पहले स्थिति स्पष्ट कर लेनी चाहिए थी

श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जब अपने साथी विधायकों के साथ भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो रहे थे, तभी यह स्पष्ट हो गया था कि वह सत्ता में महत्वपूर्ण पदों पर कब्जा करेंगे। केंद्रीय नेतृत्व से उनकी बातचीत हुई है। सुना है नियम और शर्तें भी तय हुई है। ऐसी स्थिति में शिवराज सिंह चौहान को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने से पहले अपनी स्थिति स्पष्ट कर लेनी चाहिए थी। बाबूलाल गौर को हटाकर शिवराज सिंह को मुख्यमंत्री बनाना और कांग्रेस की कमलनाथ सरकार को गिराकर सत्ता में आना, दो अलग-अलग बातें हैं। यदि शिवराज सिंह चौहान में ऐसी सिचुएशन को हैंडल करने की क्षमता नहीं थी, तो बेहतर होता कि अपनी भद पिटवाने के बजाए शपथ ग्रहण ही ना करते।

08 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

सिंधिया के साथ भाजपा में नहीं गए कांग्रेसियों को वफादारी की परीक्षा देनी होगी: कमलनाथ
विधायकों ने पार्टी छोड़ने से पहले कमलनाथ को बहुत समझाया था: शिवराज सिंह चौहान
RGPV EXAM DATE घोषित, UGC की गाइडलाइन के बाद परीक्षा कराने का फैसला
अजय विश्नोई क्या बाबूलाल गौर की राह पर चल रहे हैं
भोपाल में होटल, कार्यालय, दुकान व धर्मस्थल को बंद किया जाएगा: कलेक्टर
इंदौर में 17 साल छोटे बॉयफ्रेंड ने 45 साल की ब्यूटी पार्लर संचालिका की हत्या की
यदि कोई मर्जी के बिना नशीली या जहरीली चीज खिला दे तो क्या उसके खिलाफ भी FIR हो सकती है
किस धातु के शिवलिंग का अभिषेक करने से क्या फल प्राप्त होता है
ये खूब रही, शिक्षा मंत्री ने सरकार गिरा दी और हाई स्कूल रिजल्ट का क्रेडिट कमलनाथ को
रसोई गैस की आग नीली क्यों होती है, क्या इससे खाना गर्म तो होता है लेकिन पकता नहीं
मेष, मकर और कुंभ राशि वालों के लिए विशेष उपाय, ध्यान से पढ़िए
चुम्बक केवल लोहे को ही क्यों खींचता करता है, पीतल, सोना या चांदी भी तो धातू हैं
मध्य प्रदेश के 5 लाख शासकीय कर्मचारियों की वेतन वृद्धि
कोर्ट में यूज होने वाला पेपर हरा और थोड़ा ज्यादा बड़ा क्यों होता है
यदि किसी व्यक्ति को आवेदन देने से रोका जाए तो क्या FIR दर्ज हो सकती है
हद कर दी, घरों में स्कूल लगवा दिए, सरकार संक्रमण फैलाएगी!
यदि कोई दबंग धमकी देकर किसी से अवैध काम करवाए तो FIR किसके खिलाफ दर्ज होगी
BSNL: ₹6.66 में 5Gb डाटा और अनलिमिटेड कॉलिंग +100 SMS


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here