Loading...    
   


भोपाल की हाई प्रोफाइल लॉबी में दिन भर चलती रही प्यारे मियां की चर्चा, कई रसूखदारों की नींद उड़ी / BHOPAL NEWS

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के तीखे तेवर के बाद रसूखदार लोगों की पार्टी में अवयस्क लड़कियों को सप्लाई करने वाले प्यारे मियां का शादी हॉल तोड़ दिया गया और प्यारे मियां पर ₹30000 का इनाम घोषित कर दिया गया। भोपाल शहर की हाई प्रोफाइल लॉबी में दिनभर प्यारे मियां की चर्चाएं होती रही। इसका बड़ा कारण यह है कि प्यारे मियां की कांटेक्ट हिस्ट्री में भोपाल के कई अफसर, कारोबारी एवं नेताओं के नाम है। सभी घबराए हुए हैं क्योंकि अवयस्क लड़की से किसी भी स्थिति में बनाया गया यौन संबंध आईपीसी के तहत बलात्कार माना जाता है। प्यारे मियां की पजेरो गाड़ी सीहोर की तहसील आष्टा से बरामद हुई है जो एक खेत में छुपाकर रखी गई थी।  

रसूखदारों की प्राइवेट पार्टी में लड़कियों का शोषण होता था 

पुलिस के मुताबिक प्यारे मियां नाम के इस शख्स के कई रसूखदार लोगों से संपर्क थे। वह 14 से 16 साल की बच्चियों को अपने जाल में फंसाता और उन्हें रईस लोगों की पार्टी में पेश करता था। इससे पहले वह खुद भी इन नाबालिग बच्चियों के साथ हैवानियत करता। पुलिस ने आधा दर्जन से ज्यादा नाबालिगों को इसके चंगुल से छुड़ा लिया है। हालांकि प्यारे मियां अभी फरार है और उसका पता बताने वाले 30 हजार रुपये का इनाम देने की घोषणा की गई है।  

व्यापारी, उद्योगपतियों की उड़ी नींद

जैसे ही यह मामला सामने आया है, तभी से भोपाल के कई बड़े व्यापारी, उद्योगपतियों और बिल्डरों की नींद उड़ गई है। जानकारी के मुताबिक ये लोग लगातार प्यारे मियां के साथ उसके फ्लैट के फॉर्महाउस पर पार्टियां करते थे। माना जा रहा है कि जांच की गहराइयों में जाने पर इसके तार कई बड़े नामों से जुड़ सकते हैं। यहां तक कि यह चर्चित हनी ट्रैप से भी बड़ा कांड साबित हो सकता है।  

लड़कियों को ₹10000 महीने वेतन दिया जाता था

प्यारे मियां बहुत ही शातिर तरीके से अपने काम को अंजाम देने में लगा हुआ था। गरीब परिवार की लड़कियों को वो खासतौर से अपना निशाना बनाता था। पुलिस के मुताबिक उसके इस काम को अंजाम देती थी दलाल स्वीटी विश्वकर्मा। जिन बच्चियों को पैसों की जरूरत होती, वह उन्हें स्वीटी के जरिए फंसाता। इसके बाद 68 साल का प्यारे मियां उनके साथ हैवानियत करता। हैवानियत के बदले बच्चियों को 10 हजार रुपये मासिक वेतन दिया जाता। यही नहीं कोई लड़की ज्यादा पसंद आने पर उसे टिप के रूप में अतिरिक्त पैसे भी देता। प्यारे मियां के कई ठिकाने हैं। शाहपुरा स्थित ऐशगाह नामक फ्लैट, रातीबड़ का फार्म हाउस, जहां वह न सिर्फ खुद बल्कि अपने दोस्तों को भी हैवानियत करने के लिए बुलाता। 

इस तरह खुला सारा मामला 

पुलिस ने बताया कि चार लड़कियां शराब के नशे में आ रही थीं पता चला कि नाबालिग शनिवार रात 12:30 बजे तक प्यारे मियां के शाहपुरा स्थित ऐशगाह फ्लैट पर थीं। पार्टी में काफी शराब पीने के बाद उन्होंने खाना खाया और दो स्कूटर से ऐशगाह हिल्स जाने के लिए निकल गईं। मगर नशा ज्यादा होने से रास्ता भटक गईं। इस बीच पुलिस ने उन्हें संदेह के आधार पर रोका। तब रात डेढ़ बजे उन्होंने प्यारे मियां को फोन लगा दिया। काफी पूछताछ के बाद अगले दिन सुबह उन्होंने कबूला कि प्यारे मियां ने उनके साथ गलत किया है। जैसे ही घटना का खुलासा हुआ, प्यारे मियां फरार हो गया।  

प्यारे मियां को अब्बा कहकर पुकारती थी लड़कियां

नाबालिग लड़कियां प्यारे मियां को अब्बू कहकर पुकारती थीं। पुलिस की पूछताछ में दो लड़कियों ने बताया कि वह अब्बा के घर गई थीं। पुलिस का अनुमान है कि चाइल्ड लाइन और सीडब्ल्यूसी की काउंसलिंग में और भी लोगों के नाम सामने आ सकते हैं।

काफी डरी हुई हैं बच्चियां

चाइल्ड लाइन की निदेशक अर्चना सहाय के मुताबिक बच्चियों से लंबी बातचीत और काउंसलिंग के बाद उन्होंने सब बताया। आगे भी उनकी काउंसलिंग की जाएगी। अभी बच्चियां काफी डरी हुई हैं। भोपाल के डीआईजी इरशाद अली ने बताया कि आरोपी को पकड़ने के लिए चार टीम बनाई गई हैं। उसकी गिरफ्तारी के बाद सभी बिंदुओं पर जांच की जाएगी। यदि कोई अन्य बच्चियां भी उसका शिकार हुई है तो प्रकरण में यह तथ्य भी जोड़ा जाएगा। आरोपी की मदद करने वाले या उसके साथ इस अपराध में शामिल लोगों को भी बख्शा नहीं जाएगा।

14 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

ग्वालियर में कोरोना आउट ऑफ कंट्रोल: 179 पॉजिटिव
जबलपुर एडिशनल कमिश्नर के खिलाफ कोरोना वायरस फैलाने की FIR 
मध्य प्रदेश कोरोना: 24 घंटे में 575 पॉजिटिव, 10 मरीजों की मौत 
सचिन पायलट, ज्योतिरादित्य सिंधिया वाली गलती नहीं करेंगे 
मध्यप्रदेश में गणेश उत्सव, ईद और ताजिए सार्वजनिक नहीं होंगे: गृहमंत्री 
भोपाल हाई प्रोफाइल पार्टियों में लड़कियां: प्यारे मियां पर ₹30000 का इनाम 
मप्र कैबिनेट मीटिंग का आधिकारिक प्रतिवेदन 
ज्योतिरादित्य सिंधिया को परिवहन एवं राजस्व विभाग में इतना इंटरेस्ट क्यों है 
जबलपुर अपर आयुक्त की बेटी के विवाह में 21 कोरोना पॉजिटिव, 100 से ज्यादा संदिग्ध 
UGC COLLAGE EXAM: गाइडलाइन के बावजूद जनरल प्रमोशन का एलान
UGC COLLAGE EXAM: भारी विरोध के बाद सरकार का नया फैसला
यदि कहीं कोहनी टकरा जाए तो करंट सा क्यों लगता है
राजा-महाराजा मुकुट क्यों पहनते थे, कोई विज्ञान है या सिर्फ शान के लिए, पढ़िए
दरवाजे पर चस्पा नोटिस को हटाने वाले के खिलाफ FIR में कौन सी धारा दर्ज होगी
क्या वोल्टेज अपडाउन से चार्ज पर लगा स्मार्टफोन खराब हो जाता है
IAS बनना है तो निबंध के साथ एक बात और याद रखें: UPSC टॉपर वैशाली सिंह ने बताया
मध्यप्रदेश म़ंत्रियों को विभागों का आवंटन, आधिकारिक सूची
MP BOARD 12th: चूक गए छात्रों के लिए विशेष परीक्षा कार्यक्रम
इंदौर लॉकडाउन पर आपदा प्रबंधन समिति का फैसला
शपथ या प्रतिज्ञा लेने से इनकार करना किस धारा के अंतर्गत दण्डनीय अपराध है
मनुष्य के पेट में ऐसा एसिड होता है जो लोहे की कील को गला देता है
30 जून को रिटायर कर्मचारियों को 01 जुलाई में देय इंक्रीमेंट से क्यों वंचित नही किया जा सकता ?
इस बार 'महाराज' नहीं 'नाराज' के कारण अटका था मंत्रियों के बीच विभागों का आवंटन
क्या शिवलिंग पर दाल और गेहूं भी चढ़ा सकते हैं, बेलपत्र ना मिले तो क्या करें


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here