Loading...    
   


दूसरा चक्रवाती तूफान: इस बार मुंबई से टकराएगा, गुजरात को भी प्रभावित करेगा / NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। अरब सागर से उठे एक चक्रवाती तूफान का मलवा (पश्चिम बंगाल एवं उड़ीसा) अब तक साफ नहीं हुआ है और उसी अरब सागर से दूसरा चक्रवाती तूफान भारत की तरफ बढ़ रहा है। यह चक्रवाती तूफान इस बार महाराष्ट्र के मुंबई शहर से टकराएगा। गुजरात के कुछ इलाकों को भी प्रभावित करेगा। 

7 शहर, 160 गांव खतरे में

मौसम वैज्ञानिकों का अनुमान है कि संभावना है कि 3 से 4 जून के बीच यह तूफान भारत के तटों से टकराएगा। इससे 7 शहर मुख्‍य तौर पर प्रभावित होंगे। यहां भारी बारिश हो सकती है। इसके अलावा 160 गांवों पर खतरा मंडरा रहा है। यह चक्रवाती तूफान गुजरात की समुद्री सीमाओं पर आने वाला है। इससे महाराष्‍ट्र भी प्रभावित होगा।

फिलहाल 920 किलोमीटर दूर है, मंगलवार की रात भयानक रूप में परिवर्तित होगा

गुजरात और पड़ोसी राज्यों की तुलना में मुंबई समेत महाराष्ट्र के तटवर्ती जिले बुरी तरह प्रभावित होंगे। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) ने सोमवार को यह जानकारी दी। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) के विज्ञानी आनंद कुमार दास ने सोमवार को कहा कि गुजरात में सूरत के तट से करीब 920 किलोमीटर दूर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम दिशा में अरब सागर के ऊपर बना कम दबाव का क्षेत्र विक्षोभ में बदल गया है। अगले 36 घंटे में यह चक्रवाती तूफान का रूप ले लेगा।

100 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से आएंगी समुद्री लहरें

कम दबाव का क्षेत्र और विक्षोभ के आधार पर चक्रवाती तूफान की तीव्रता मापी जाती है। यह उत्तरी महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के बीच हरिहरेश्वर और दमन से तटों से तीन जून की शाम को गुजरेगा। अहमदाबाद में आइएमडी केंद्र के निदेशक जयंत सरकार ने कहा कि निसर्ग तूफान करीब 90 से 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तटों से टकराएगा। इसकी वजह से तीन और जून को दक्षिणी गुजरात के साथ ही सौराष्ट्र के भावनगर और अमरेली जिलों में भारी बारिश होगी।

गुजरात में मौसम बदल गया है, तूफान से पहले की बूंदाबांदी शुरू

गुजरात के तटवर्तीय इलाके से अरब सागर में करीब 120 किमी दूरी पर लॉ प्रेशर के बाद सोमवार को अचानक डीप डिप्रेशन में तब्‍दील हो जाने से दक्षिण गुजरात व सौराष्‍ट्र के कई जिलों में मौसम अचानक बदल गया तथा सोमवार को गुजरात के कई शहरों में बूंदाबादी हुई जबकि भावनगर में भारी बरसात हुई। इससे पहले अरब सागर में बने डीप डिप्रेशनके चलते गुजरात के कई शहरों में बरसात हुई व तेज हवाएं चली। गुजरात में समुद्री तूफान की आशंका के चलते मुख्‍यमंत्री विजय रुपाणी ने प्रदेश के आला अधिकारियों व दक्षिण गुजरात व सौराष्‍ट्र के जिला कलक्‍टर के साथ वीडियो कॉन्‍फ्रेन्‍स पर बात कर हालात का जायजा लिया। 3 से 4 जून के बीच तूफान के गुजरात की तटवर्ती सीमा पर टकराने की आशंका है।

मुंबई समेत महाराष्ट्र के तटवर्ती जिले होंगे प्रभावित

निसर्ग तूफान से मुंबई समेत महाराष्ट्र के तटवर्ती जिले सिंधूदुर्ग, रत्नागिरी, ठाणे, रायगढ़ और पालघर बुरी तरह प्रभावित हो सकते हैं। भारी बारिश की वजह से इन जिलों के निचले इलाकों में पानी भरने की संभावना है। तेज हवा के चलते पेड़, टेलीफोन लाइन, बिजली के पोल को भी नुकसान पहुंचने की आशंका है।

ये शहर हो सकते हैं तूफान से प्रभावित

सम विभाग के अनुसार सूरत, वलसाड, नवसारी, डांग, भावनगर, अमरेली, दीव की समुद्री सीमा पर तुफान टकरा सकता है। गुजरात के करीब 160 गांव इस तूफान के चलते प्रभावित हो सकते हैं। इसके चलते 80 से 100 किमी प्रति घंटे की गति से तेज़ हवाएं चलेगी।

तूफान के लैंडफॉल करने पर कई राज्‍यों में यह है खतरे की आशंका

- तूफान के तटों से टकराने से पहले ही मुंबई, ठाणे और दहानु तथा आसपास के भागों में 60 से 80 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से हवाएँ चलेंगी।

- तूफान ‘निसर्ग’ के चलते मध्य महाराष्ट्र क्षेत्र, गुजरात, दादरा व नगर हवेली, दक्षिण-पश्चिमी मध्य प्रदेश, दक्षिण-पूर्वी राजस्थान पर भी प्रभाव दिखेगा। इन भागों में 3 जून से 5 जून के बीच अच्छी बारिश हो सकती है।

- रायगढ़ से दहानु के बीच 3 और 4 जून को भीषण वर्षा के कारण निचले इलाकों में पानी भर सकता है। कुछ इलाकों में बाढ़ का भी खतरा रहेगा।

- स्‍कायमेट वेदर के अनुसार 3 जून को जब यह लैंडफॉल करने के करीब होगा उस समय से लेकर 4 जून के बीच रायगढ़ से लेकर पालघर, दमन व दीव तथा गुजरात के वलसाड और नवसारी समेत आसपास के इलाके व्यापक रूप में प्रभावित होंगे।

- अनुमान है कि 3 जून की रात को मुंबई के पास रायगढ़ से दमन के बीच से लैंडफॉल कर सकता है। तूफान निसर्ग की समुद्री यात्रा बहुत लंबी नहीं होगी जिससे इसके कटेगारी-1 में ही रहने के आसार हैं।

- चक्रवाती तूफानों का इतिहास देखें तो पिछले 100 सालों में ऐसा कभी नहीं हुआ जब अरब सागर में विकसित होने वाला कोई चक्रवाती तूफान जून में बना हो और महाराष्ट्र के तटों से टकराया हो।
(तूफान के लैंडफॉल के अनुमान का साभार स्‍कायमेट वेदर)

01 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

शिवराज सिंह की संभावित कैबिनेट में कितने कांटे, आइए गिनते हैं
भोपाल में कोरोना के 4 मरीज बिना अस्पताल गए ही ठीक हो गए
बिजली बिलों के संबंध में सीएम शिवराज सिंह चौहान की घोषणाएं
किस प्रकार के लॉटरी या चिटफंड अपराध की श्रेणी में आते हैं, यहां पढ़िए
कमलनाथ से 40 साल पुरानी दोस्ती है, कभी खत्म नहीं हो सकती: दिग्विजय सिंह
पालतू कुत्तों की पूंछ क्यों काट दी जाती है, क्या कोई साइंस है या बस देखा-देखी
इंदौर में व्यापारी के गोदाम से नोटों से भरे बोरे,1 ट्रक 4 गाड़ियां भरकर गुटखा बरामद
MP BOARD 10th-12th EXAM RESULT कब आएगा, यहां पढ़िए
जीतू पटवारी ने मध्यप्रदेश विधानसभा उपचुनाव में हार स्वीकारी ?
बैंक वाले चेक के पीछे सिग्नेचर क्यों करवाते हैं, जबकि वहां सिग्नेचर मार्क नहीं होता
जब खून लाल है तो नसों का रंग नीला क्यों होता है
DATING APP पर मिली गर्लफ्रेंड वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने लगी
यदि समुद्र के पानी को मीठा कर दिया जाए तो क्या होगा
कोरोना तक प्राइमरी स्कूल बंद रहेंगे, मिडिल-HSS स्कूल सितंबर से: बाल आयोग
1 जून से 12 ट्रेनें ग्वालियर में रुकेंगी, टाइम और नंबर बदल गया है
लॉकडाउन 5.0: मुख्यमंत्री ने बताया, क्या खुलेगा - क्या बंद रहेगा
आपका मोबाइल नंबर बदलने वाला है, TRAI की तरफ से तैयारी हो गई है
निर्माणाधीन बिल्डिंग का गिर जाना हादसा होता है या अपराध, यहां पढ़िए
भूख से बिलखते नवजात शिशु को बस स्टॉप पर छोड़ दिया क्योंकि माँ भी भूखी थी, दूध तक नहीं निकल रहा था


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here