Loading...    
   


शिवराज सिंह की संभावित कैबिनेट में कितने कांटे, आइए गिनते हैं / MP NEWS

भोपाल। मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार की प्रस्तावित कैबिनेट की हालत कुछ ऐसी हो गई है जैसे 20 सीटर बस में 32 दावेदार, समस्या यह है कि सब के सब दमदार। कैबिनेट की राह में कांटे इतने हैं कि मामला एक कदम भी आगे नहीं बढ़ पा रहा है। भारतीय जनता पार्टी के पैर से रिसता हुआ खून साफ नजर आ रहा है। आइए गिनते हैं, शिवराज सिंह की संभावित कैबिनेट में कुल कितने कांटे हैं।

चंबल में अरविंद भदौरिया के नाम पर शिवराज सिंह अड़े, तोमर और शर्मा नाराज

एमपी में कैबिनेट विस्तार में उपचुनाव वाले क्षेत्रों का ख्याल पूरा रखा जाएगा। 24 में से 16 सीट ग्वालियर-चंबल संभाग हैं। शिवराज चाहते हैं कि कैबिनेट में उस क्षेत्र से आने वाले अरविंद भदौरिया को जगह मिले। भदौरिया की भूमिका ऑपरेशन लोट्स के दौरान भी रही है। सूत्रों के अनुसार पार्टी के 2 बड़े नेता नरेंद्र सिंह तोमर और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा उनके नाम पर तैयार नहीं हैं। ऐसी स्थिति करीब-करीब संभागों में बन रही हैं। सीएम शिवराज ने इसे लेकर संघ नेताओं के साथ भी चर्चा की है।

जबलपुर में शिवराज की पसंद राजेन्द्र लेकिन संगठन राजी नहीं

जबलपुर की बात करें तो अशोक रोहाणी का नाम पार्टी ने बढ़ाया है, जबकि उसी इलाके से अजय विश्नोई भी प्रबल दावेदार हैं। शिवराज के करीबी नेताओं में शामिल रीवा से विधायक राजेन्द्र शुक्ल को लेकर भी पेंच फंसा हुआ है। शिवराज, राजेन्द्र शुक्ल को फिर से मौका देना चाहते हैं तो संगठन वहां से गिरीश गौतम के नाम को आगे बढ़ा रहा है।

गोविंद राजपूत के कारण सागर का समीकरण बिगड़ गया

शिवराज के लिए इस दौर में अपने नेताओं को साधते हुए, ज्योतिरादित्य सिंधिया खेमे के लोगों को भी एडजस्ट करना सबसे बड़ी चुनौती है। सिंधिया के 2 लोग अभी मंत्रिमंडल मे शामिल हैं। 7-8 और उनके लोगों को जगह मिल सकते है। इसी वजह से बीजेपी के समीकरण बिगड़ रहे हैं। एमपी में संवैधानिक रूप से 34 मंत्री बन सकते हैं। गोविंद सिंह राजपूत के कैबिनेट में शामिल होने के कारण पार्टी के कई नेताओं की दावेदारी फंस रही है। क्योंकि एक ही क्षेत्र से ज्यादा लोगों को प्रतिनिधित्व नहीं मिल सकता है।

जातीय और क्षेत्रीय समीकरण कितने उलझ गए हैं

शिवराज कैबिनेट के विस्तार की एक बड़ी चुनौती है जातिगत और क्षेत्रीय समीकरण। सागर जिले से पार्टी से 4 बड़े नेता दावेदार हैं। गोपाल भार्गव, भूपेन्द्र सिंह और प्रदीप लारिया जबकि गोविंद सिंह राजपूत पहले ही मंत्री बन चुके हैं। ऐसे में किस नेता को कैबिनेट में जगह दी जाए और किसे नहीं पार्टी के सामने मुश्किलें हैं। इंदौर से कई दावेदार हैं। फिलहाल इंदौर जिले से तुलसी सिलावट मंत्री हैं। तुसली सिलावट के अलावा ऊषा ठाकुर, रमेश मेंदोला और मालिनी गौड़ प्रमुख दावेदार हैं। रमेश मैंदोला, कैलाश विजयवर्गीय के करीबी हैं। विंध्य क्षेत्र से राजेन्द्र शुक्ल के अलावा, केदार शुक्ला, गरीश मौतम, रामखेलावन पटेल और आदिवासी कुंवर सिंह टेकाम दावेदार हैं जबकि विंध्य क्षेत्र से मीना सिंह पहले ही कैबिनेट मंत्री हैं। वहीं, ग्वालियर-चंबल से नरोत्तम मिश्रा प्रदेश में मंत्री हैं।

सिंधिया को संतुष्ट कैसे करें

शिवराज कैबिनेट का विस्तार प्रदेश की 24 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को देखते हुए भी किया जाएगा। ज्योतिरादित्य सिंधिया उपचुनाव में पार्टी के चेहरे हो सकते हैं। ऐसे में सिंधिया खेमे को नाराज नहीं किया जा सकता है। सिंधिया खेमे के नेताओं को कैबिनेट में जगह देकर पार्टी उपचुनाव में जाने की तैयारी कर रही है लेकिन दावेदारों की संख्या अधिक होने के कारण पार्टी की मुश्किलें बढ़ रही हैं।

एक मुसीबत यह भी तो है

कैबिनेट में जगह पाने के दावेदार मनपसंद विभागों की भी चाहत रखते हैं। कहा जा रहा है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने खेमे के नेताओं के लिए उनके पसंदीदा मंत्रालय का दवाब बना रहे हैं। खासकर पूर्व में जो उनके पास थे, वो मिल जाए। जबकि बीजेपी के कई पुराने नेता एक बार फिर उस विभाग के लिए दावेदारी कर रहे हैं जो विभाग उनके पास पहले से था। ऐसे में किसे कौन सा विभाग दिया जाए यह भी शिवराज सिंह चौहान और संगठन के लिए एक बड़ी मुश्किल है।

01 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

इंदौर में पत्नी को लेने गए युवक को ससुरालवालों ने जिंदा जला दिया
इंदौर में व्यापारी के गोदाम से नोटों से भरे बोरे,1 ट्रक 4 गाड़ियां भरकर गुटखा बरामद
भोपाल में भूख से तड़पते नवजात शिशु को बस स्टॉप पर छोड़ गई माँ
रेत की राजनीति में कमिश्नर-कलेक्टर, IG-SP चारों बदल डाले
जीतू पटवारी ने मध्यप्रदेश विधानसभा उपचुनाव में हार स्वीकारी ?
बैंक वाले चेक के पीछे सिग्नेचर क्यों करवाते हैं, जबकि वहां सिग्नेचर मार्क नहीं होता
यदि समुद्र के पानी को मीठा कर दिया जाए तो क्या होगा
DATING APP पर मिली गर्लफ्रेंड वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने लगी
पनीर और चीज़ में सबसे अच्छा क्या है, दोनों में क्या अंतर है
मध्यप्रदेश में लॉक डाउन 5.0 घोषित, स्कूल-कॉलेज पर फैसला 13 जून के बाद
भारतीय संविधान से आर्टिकल-30 खत्म करवाना चाहती है भाजपा, बहस आमंत्रित
पालतू कुत्तों की पूंछ क्यों काट दी जाती है, क्या कोई साइंस है या बस देखा-देखी
आपका मोबाइल नंबर बदलने वाला है, TRAI की तरफ से तैयारी हो गई है
निर्माणाधीन बिल्डिंग का गिर जाना हादसा होता है या अपराध, यहां पढ़िए
इंदौर में D-Mart का कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव, स्टोर से हो रही थी होम डिलिवरी
SOCIAL DISTANCING APP यहां से DOWNLOAD करें, 2 मीटर की दूरी बताएगा, कोरोना से बचाएगा


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here