Loading...    
   


लॉ यूनिवर्सिटी में जनरल प्रमोशन के लिए सहमति लेकिन शर्तें लागू / GENERAL PROMOTION IN MP

जबलपुर। कोरोनावायरस के संक्रमण के कारण परीक्षाओं के आयोजन में आ रही बाधा के चलते छात्रों को जनरल प्रमोशन देने के मामले में विश्वविद्यालयों की तरफ से नरम रुख दिखाई देने लगा है। हालांकि रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय अभी तक परीक्षा कराने पर ही पड़ा हुआ है परंतु धर्मशास्त्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी कुछ शर्तों के साथ जनरल प्रमोशन के लिए सहमत होती नजर आ रही है।

बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने जनरल प्रमोशन की सिफारिश की है

धर्मशास्त्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी ने साफ किया कि यदि जुलाई तक कोरोना संक्रमण पर लगाम नहीं लगी तो जनरल प्रमोशन पर विचार होगा। फिलहाल परीक्षा के लिए इंतजार किया जा रहा है। बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने देश में कोविड-19 की स्थिति को देखते हुए विधि परीक्षाओं में जनरल प्रमोशन देने के लिए यूनिवर्सिटी और कॉलेज का सुझाव दिया था। इस पर अंतिम फैसला संस्थानों को ही लेना है। 

काउंसिल ने कहा कि उनके मुताबिक बीएएलएलबी, एलएलबी और एलएलएम जैसे पाठ्यक्रमों में परीक्षा संक्रमण के बीच करवाना सही नहीं होगा। इसलिए विद्यार्थियों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर जनरल प्रमोशन दिया जाए। बाद में संस्थान परीक्षा आयोजित करे। 

अगली कक्षा में प्रवेश देंगे परंतु पिछली परीक्षा भी देनी होगी

बार काउंसिल की सिफारिश को यदि माना भी जाए तब भी परीक्षा होगी। धर्मशास्त्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो.बलराज चौहान ने साफ किया कि उनके संस्थान में बीएएलएलबी, एलएलएम जैसे कोर्स में जनरल प्रमोशन यदि दिया भी गया तो बाद में विद्यार्थियों को परीक्षा देना होगी। जो परीक्षा उत्तीर्ण करेगा सिर्फ उनका ही प्रवेश मान्य होगा। अनुत्तीर्ण विद्यार्थी स्वतः पिछली कक्षाओं में वापस पहुंच जाएंगे। उन्होंने कहा कि बार काउंसिल की सिफारिश में ये साफ किया जा चुका है। यानी रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी भी यदि जनरल प्रमोशन लॉ में देगा तो बीच सत्र में विद्यार्थियों को परीक्षा देना पड़ सकती है। फिलहाल कोविड-19 की वजह से हर संस्थान परीक्षा को टाल कर सिर्फ इंतजार कर रहा है। धर्मशास्त्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी परीक्षा के लिए जुलाई अंत तक इंतजार करेंगा। उसके बाद भी स्थिति नहीं सुधरने पर जनरल प्रमोशन दिया जाएगा।

यूनिवर्सिटी में एक राय नहीं

रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी में जनरल प्रमोशन के विकल्प पर फिलहाल एक राय नहीं है। विद्यार्थी भी बार काउंसिल के पत्र के आधार पर निश्चित हो चुके हैं। उन्हें लग रहा है कि यूनविर्सिटी भी इसे अमल में ला रही है। अनलॉक होने के बावजूद घरों में विद्यार्थी पढ़ाई को लेकर बेफिक्र हो चले हैं। इधर कुलपति प्रो.कपिल देव मिश्र ने पहले ही इस मामले में विशेषज्ञों की सलाह पर निर्णय करने की बात कही है।

18 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

कमलनाथ की चक्की 15 महीने में एक दाना नहीं पीस पाई! 
क्या सीमेंट की सड़कें टायर खराब करतीं हैं, डामर रोड टायर के लिए अच्छी है
AC खराब हो जाए तो क्या फ्रिज का डोर ओपन करके रूम ठंडा कर सकते हैं
वैज्ञानिक कैसे पता लगाते हैं कि आज कितनी वर्षा हुई, आइए जानते हैं
डाकू या लुटेरे के आश्रयदाता को एक विशेष धारा के तहत सजा दी जाती है, पढ़िए
MP CORONA: भोपाल छोड़ पूरे प्रदेश में सुधार, एक्टिव केस बढ़कर 655 हुए
चीन से हुई लड़ाई में मध्य प्रदेश का सपूत शहीद
कांग्रेस से ज्यादा कमलनाथ में निष्ठा रखने वाले 5 विधायक भाजपा के साथ
GWALIOR में बिजली बिल विवाद निराकरण के लिए विशेष शिविर
कर्मचारी को समान काम समान वेतन, सरकार अनुच्छेद 141 के दायित्व से पलायन नहीं कर सकती
दादा-दादी को नींद की दवाई खिलाकर बॉयफ्रेंड के साथ बेडरूम शेयर करती थी 
भोपाल की कोरोना पॉजिटिव महिला के संपर्क में आये सभी 41 लोग निगेटिव, कमजोर पड़ा कोरोना
RGPV: डिप्लोमा फॉर्मेसी व इंजीनियरिंग सहित सभी प्रायोगिक परीक्षाएं स्थगित


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here