Loading...    
   


कोरोना: दिल्ली में इलाज के लिए 5 दिन भटका भोपाल निवासी, हमीदिया में मौत / BHOPAL NEWS

भोपाल। कोरोना काल में अस्पतालों की लापरवाही कैसे बेरहम हालात पैदा कर सकती है, इसे समझने के लिए वीरेंद्र नेकिया और उनके परिवार काे मिला दर्द महसूस करना होगा। दिल्ली के मयूर विहार निवासी वीरेंद्र की मौत कोरोना से रविवार सुबह 4 बजे हमीदिया अस्पताल में हुई। वे दिल्ली के अस्पतालों में इलाज के लिए पांच दिन भटकने के बाद शनिवार सुबह निजामुद्दीन-हबीबगंज एक्सप्रेस से भोपाल आए थे। यहां जब तक उन्हें इलाज मिला, तब तक कुछ बाकी नहीं बचा था। वीरेंद्र के साथ एस-10 कोच में आए यात्रियों को ढूंढा जा रहा है। अस्पतालों की असंवेदनशीलता के कारण वीरेंद्र का चार लोगों का परिवार चार हिस्सों में बंट गया।  
  

यह है पूरा वाक्या  

वीरेंद्र मूलत: भोपाल के हैं। यहां पढ़ रहे बेटे आदित्य ने बताया कि आठ दिन पहले दिल्ली में पापा को बुखार आया। संजीवनी क्लीनिक, हेल्थ सेंटर से दवाइयां लीं पर आराम नहीं मिला। पांच दिन अस्पतालों में भटके, लेकिन किसी ने कोरोना टेस्ट नहीं कराया। जेपी में लैब टेक्नीशियन चाचा नरेंद्र से बात कर पापा को भोपाल बुला लिया। 

जेपी के स्टाफ ने सैंपल लेकर वीरेंद्र को हमीदिया भेज दिया। हमीदिया के डाॅक्टराें के अनुसार, वीरेंद्र जब जेपी पहुंचे, तब उनके शरीर में ऑक्सीजन सेचुरेशन 35% था, जाे 95% हाेना चाहिए। हमीदिया में वेंटिलेटर सपाेर्ट के बाद भी 60% तक नहीं पहुंचा। दाेपहर 3:30 बजे कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पाॅजिटिव आई। उन्हें आईसीयू में भर्ती किया गया।

आदित्य ने बताया- पापा की मौत की खबर सुनकर दिल्ली में मां को अस्थमा अटैक आया। 15 साल की बहन उन्हें लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल ले गई, लेकिन किसी ने हाथ नहीं लगाया। बेसुध मां डेढ़ घंटे ऑटो में पड़ी रही। फिर नोएडा के प्राइवेट हॉस्पिटल ले जाना पड़ा, पर वहां 60 हजार रु. जमा करने काे कहा। मेडिकल कार्ड देने के बाद भी 20 हजार जमा कराए। अब मां हाॅस्पिटल में है, बहन घर में क्वारेंटाइन।

नरेंद्र ने बताया कि सुबह वीरेंद्र को स्टेशन से पहले जेपी, फिर हमीदिया ले गया। तब तक डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा। जब हमीदिया में उसकी हालत बिगड़ी तो खुद को संभाल नहीं पाया। दाेपहर चार बजे भदभदा विश्रामघाट पर आदित्य के साथ मिलकर पूरे प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अंतिम संस्कार किया। वहां से सीधे क्वारेंटाइन सेंटर आ गया। फिर भी मोहल्ले को कंटेनमेंट क्षेत्र बना दिया। 

डाॅ. एके श्रीवास्तव, अधीक्षक, हमीदिया अस्पताल का कहना है कि दिल्ली से आए पेशेंट की हालत बेहद गंभीर थी। ऑक्सीजन सेचुरेशन 35 प्रतिशत था, वेंटिलेटर पर लेने के बाद भी 60 प्रतिशत नहीं पहुंच रहा था। हमारे डाॅक्टराें ने हर तरीके से हर संभव प्रयास किए, लेकिन उनकी जान नहीं बचाई जा सकी।

08 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ता मामले में दिल्ली हाई कोर्ट का डिसीजन
एमपी बोर्ड 12वीं की परीक्षा तारीख बदलने के लिए ABVP ने ज्ञापन दिया
SIM CARD का फुल फॉर्म क्या है, आविष्कार कब हुआ, कितने प्रकार की होती है
मध्य प्रदेश शासन ने सभी सरकारी/प्राइवेट स्कूलों की छुट्टियां बढ़ाई
ज्योतिरादित्य सिंधिया: बिना आग के धुंए में कौन सी खिचड़ी पका रहे हैं
MP BOARD 12th EXAM 2020: ऑनलाइन प्रवेश-पत्र की मान्यता के संबंध में संशोधित आदेश
ज्योतिरादित्य सिंधिया: राज्यसभा चुनाव के बाद भी चैन से नहीं बैठ पाएंगे
नेताजी के स्वागत में हाईवे पर खड़े रहे IG पुलिस, वर्दीधारी से चाय पेश करवाई
CBSE 12th EXAM के लिए HELPLINE NUMBER एवं प्रमुख दिशा निर्देश
मैं कांग्रेस में लौट आया हूं 'महाराज' आने वाले हैं: सत्येंद्र यादव
MP BOARD 12th EXAM GUIDELINE, परिजन क्वॉरेंटाइन है तो परीक्षा नहीं दे सकते
भारत में बंद स्कूल/कॉलेज कब खुलेंगे: HRD मिनिस्टर ने बताया
दिवालिया बैंक में जमाधन डूब जाता है तो क्या लिया गया LOAN भी नहीं चुकाना पड़ता
मोड़ आने पर सड़क एक तरफ झुकी हुई क्यों बनाते हैं
Tata Sky ने 25 फ्री चैनलों को PAID कर दिया, यूजर्स की पॉकेट कटेगी
किस तरह के तबादला आदेशों को कोर्ट में चुनौती दी जा सकती है, पढ़िए
मध्य प्रदेश कोरोना: 19 जिलों में 173 नए पॉजिटिव, 13 मौतें


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here