Loading...    
   


22 वारंट के बाद भी दो पुलिस इंस्पेक्टर कोर्ट में हाजिर नहीं हुए, कार्रवाई के निर्देश / GWALIOR NEWS

ग्वालियर। इंस्पेक्टर रेखा पाल और इंसपेक्टर रामनरेश यादव को अदालत के 22 बार बुलाने के बाद भी हाजिर न होना भारी पड गया है। उच्च न्यायालय ने दोनों की इस लापरवाही और न्यायालय के आदेश का पालन नहीं करने पर शासन पर कुल बीस हजार रूपए का हर्जाना लगाया है। यह राशि आरोपी को दिलाई जाएगी। इस राशि को दोनों अधिकारियों से वसूल किया जाएगा। वहीं पुलिस विभाग ने भी दोनों अधिकारियों पर पांच-पांच हजार रूपए का जुर्माना लगाया है। एसपी भिंड ने न्यायालय को बताया कि दोनों के खिलाफ यह दंड कम प्रतीत होने के कारण उनके खिलाफ विभागीय जांच भी प्रारंभ की गई है।

पुलिस अधिकारी कोर्ट में हाजिर नहीं हुए, आरोपी को 1 साल जेल में रहना पड़ा

न्यायमूर्ति जीएस अहलुवालिया ने यह महत्वपूर्ण आदेश एनडीपीएस एक्ट में आरोपी जयपाल सिंह के जमानत आवेदन को खारिज करते हुए दिए हैं। न्यायमूर्ति अहलुवालिया ने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए हाजिर हुए एसपी भिंड को सुनने के बाद अपने आदेश में कहा कि दोनों अधिकारी बार-बार बुलाए जाने के बाद भी अदालत में हाजिर नहीं हुए इस कारण इस मामले की ट्रायल एक साल से अधिक से लंबित है। इस कारण आरोपी को जेल में रहना पडा है। इसके लिए ये दोनों अधिकारी जिम्मेदार है लिहाजा शासन पर बीस हजार रूपए का हर्जाना लगाया गया है।

एसपी भिंड को आदेश का पालन कराने के लिए निर्देशित किया

न्यायालय ने अपने आदेश में कहा कि हर्जाने की राशि तीन दिन में जमा करनी होगी। एसपी भिंड मनोज कुमार यह देखेंगे कि यह राशि समय पर जमा होती है या नहीं, वे इसकी जानकारी अदालत को देंगे। न्यायालय ने कहा कि न्यायालय का इरादा पुलिस की आंतरिक व्यवस्था में हस्तक्षेप का नहीं है लेकिन विभाग द्वारा जारी किए जाने वाले सर्कुलरों का पालन हो इसके लिए भी प्रयास किए जाने चाहिए। न्यायालय ने अपने आदेश में कहा कि इस समय कोविड-19 के कारण अदालतों में नियमित कार्यवाही लंबित चल रही है। लेकिन अदालत ने यह उम्मीद जताई कि न्यायालय में नियमित कार्य प्रारंभ होने पर इस मामले में अभियोजन द्वारा जो गवाहियां शेष रह गई हैं उन्हें पूरा कराया जाएगा।

पुलिस अधिकारियों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया लेकिन हाजिर नहीं हुए

अदालत ने 26 मार्च 19 को इंसपेक्टर रेखा पाल और इस्पेक्टर रामनरेश यादव को गवाही के लिए पहला समंस जारी किया। इसके बाद 14 फरवरी 20 तक दोनों के खिलाफ अदालत ने कुल बाइस बार वारंट और अंत में गिरफ्तारी वारंट तक जारी किए लेकिन दोनों अदालत में हाजिर नहीं हुए। आरोपी 5 जनवरी 2018 से जेल में है। उसके खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत रौन थाने में मामला दर्ज किया गया है।

गवाह हाजिर नहीं हुए इसलिए आरोपी को जमानत

इस मामले में हो रहे विलंब को लेकर आरोपी की ओर से कहा गया कि वह इसके लिए जिम्मेदार नहीं है। इस मामले में पुलिस के गवाहों को लगातार समंस और गिरफ्तारी वारंट से तलब किया जा रहा है लेकिन वे उपस्थित नहीं हुए हैं। इंस्पेक्टर रेखा पाल और इंस्पेक्टर रामनरेश यादव के वारंट न्यायालय में वापस प्राप्त नहीं हुए हैं। इस प्रकार यह अभियोजन की गंभीर चूक है। ऐसा लग रहा है कि वे जानबूझकर सामने आने से बच रहे हैं। इस कारण आवेदक जेल में है, इसलिए उसे जमानत का लाभ दिया जाए।

आई जी चंबल रेंज ने दोनों अधिकारियों पर पांच 5-5 हजार का जुर्माना लगाया

इस मामले में न्यायालय ने एसपी भिंड को निर्देश दिया था कि वे यह बताएं कि रेखा पाल और रामनरेश यादव अदालत में पेश क्यों नहीं हो रहे हैं। न्यायालय ने इस संबंध में एसपी भिंड के जवाब को संतोषजनक नहीं माना। इसलिए उच्च न्यायालय ने एसपी भिंड को कोर्ट में हाजिर होने के निर्देश दिए थे। इस मामले की जांच में पाया कि इंस्पेक्टर रेखा पाल और इंस्पेक्टर रामनरेश यादव ट्रायल कोर्ट के सामने पेश नहीं हुए थे। यह पाया गया कि दोनों अधिकारियों का न्यायालय के सामने पेश नहीं होना उनकी लापरवाही को दर्शाता है। इस पर दोनों अधिकारियों पर चंबल आईजी ने पांच-पांच हजार रूपए का जुर्माना लगाया।

28 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

भोजन में पहले रोटी खाना चाहिए फिर चावल या पहले चावल खाना चाहिए फिर रोटी, विज्ञान क्या कहता है
ग्वालियर में मुरैना-भिण्ड से आने वालों पर प्रतिबंध, क्वारेंटाइन किए जाएंगे
अधिकारी, कोर्ट में गलत जानकारी पेश कर दे तो विभागीय कार्रवाई होगी या FIR दर्ज होगी, पढ़िए
आकाशीय बिजली में कितना करंट होता है, वह जमीन पर क्यों गिरती है
सीएम शिवराज सिंह के तिरुपति रवाना होते ही भोपाल में 2 दिग्गजों का डिनर, ये समीकरण कुछ कहता है
इंदौर में जज के बेटे ने स्ट्रीट डॉग को गोली मार दी, पालतू कुत्ते पर भोंक रहा था
मध्यप्रदेश में भारी बारिश की संभावना, 13 जिलो की लिस्ट जारी
सुनिए PM MODI के बारे में कांग्रेस विधायक वो बयान जिसके बाद गोलियां चल गईं
कर्मचारियों ने पुरानी पेंशन के लिए #RestoreOldPension ट्रेंड कराया
मध्य प्रदेश कोरोना: चंबल में ताबड़तोड़ कोरोना, मुरैना 36, भिंड 13 पॉजिटिव
इस लड़की से कोई शादी करने को तैयार नहीं था, आज मिलने के लिए अपॉइंटमेंट लेना पड़ता है
कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर: NPS छोड़कर OPS का लाभ पाने का विकल्प खुला
गर्भाधान संस्कार क्या होता है, क्या सचमुच गुणवान संतान की प्राप्ति होती है
भोपाल के बड़े कपड़ा व्यापारी की कोरोना से मौत, बाजार में दहशत
कमलनाथ चीन के एजेंट है, यह मामला ऑन रिकॉर्ड है: प्रभात झा
MP POLICE RECRUITMENT: गृह मंत्री ने 4269 आरक्षक पदों पर भर्ती की मंजूरी दी
BHOPAL SAMACHAR / 32 नए इलाके कंटेनमेंट घोषित, भोपाल में 210 कंटेनमेंट क्षेत्रों की लिस्ट
सरकारी अधिकारी निर्दोष नागरिक को जबरन रोककर रखे तो IPC की किस धारा के तहत मामला दर्ज होगा
RATLAM: मासूम बच्ची का बलात्कारी, जेलर के घर से फरार, मामले को दबाने की कोशिश


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here