Loading...    
   


कोरोना संक्रमण के डर से कई लोगों ने आत्महत्या कर ली | CORONA LATEST NEWS

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण की दहशत लोगों में किस कदर उतर गई है, इसके कुछ मामले सामने आए हैं। देश के कई इलाकों में लोगों ने कोरोनावायरस के डर से आत्महत्या कर ली। एक युवक ने इसलिए सुसाइड कर लिया क्योंकि वह नहीं चाहता था कि उसके गांव वालों को भी संक्रमण हो। कर्मचारी ने आत्महत्या इसलिए की ताकि उसके बच्चे संक्रमण से बजाएं।

कर्मचारी ने सुसाइड नोट में लिखा: मैं 10 दिन से सोया नहीं हूं

सहारनपुर में गन्ना विकास परिषद में तैनात 38 साल के क्लर्क का ऑफिस में ही पंखे से लटकता शव मिला। उसने कोरोना के खौफ से ही आत्महत्या कर ली। उसे न ही कोरोना के लक्षण थे और न ही वह बीमार था लेकिन उसके दिमाग में यह बात बैठ गई कि उसे कोरोना हो जाएगा। उसने अपने सुसाइड नोट में भी लिखा, 'मैं कोरोना से डरा हुआ हूं। मुझे बच्चों की चिंता है। मुझे लगता है कि मैं कोरोना का शिकार हो गया हूं। 10 दिन से सोया नहीं हूं।' एसएसएपी सहारनपुर ने भी माना कि आत्महत्या करने वाला शख्स डिप्रेशन में था।

आइसोलेशन वार्ड में फांसी लगा ली

इसी तरह शामली में कोरोना के संदिग्ध मरीज ने आइसोलेशन वॉर्ड में गुरुवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। बताया जा रहा है कि 35 साल का यह शख्स दिल्ली में सब्जी बेचता था। 30 मार्च को वह अपने गांव लौटा था। वह बीमार था। अगले दिन उसने स्वास्थ्य विभाग से संपर्क किया और खुद को अस्पताल में भर्ती करने के लिए कहा। बाद में उसे क्वारंटीन वॉर्ड में भर्ती किया गया और टेस्ट के लिए सैंपल मेरठ लैब भेजा गया था। उसकी रिपोर्ट आती लेकिन उससे पहले ही उसने आत्महत्या कर ली थी। बाद में पता चला कि वह कोरोना नेगेटिव था।

सुसाइड करने के लिए क्वारंटीन सेंटर से भागा

लखीमपुर में एक 23 साल का प्रवासी मजदूर अपने परिवार से मिलने के लिए क्वारंटीन सेंटर से भागा था, पर अधिकारी उसे खोज लाए। गुरुवार को वह फिर भागा, लेकिन यह पता चलने पर कि पुलिस उसे ढूंढ रही है उसने आत्महत्या कर ली। यह युवक 28 मार्च को गुरुग्राम से यूपी लौटा था। सरकारी आदेश के मुताबिक, उसे क्वारंटीन सेंटर में रखा गया था।

गांव वालों को न हो कोरोना इसलिए जान दे दी

इससे पहले 30 मार्च को एक किसान ने मथुरा में आत्महत्या कर ली थी। किसान को सर्दी और बुखार था। उसे डर था कि उसे कोरोना हो गया और पूरे गांव संक्रमण न हो इसलिए उसने आत्महत्या कर ली। 24 मार्च को सर्दी-बुखार से परेशान एक युवक ने कानपुर में आत्महत्या कर ली थी। उसे डर था कि उसे कोरोना हो गया है। वहीं हापुड़ और बरेली में दो युवकों ने आत्महत्या कर ली थी। उन्हें डर था कि वे कोरोना वायरस से संक्रमित हैं। (तस्वीर- सांकेतिक)

दिल्ली के सफदरजंग में कोरोना संदिग्ध ने की थी आत्महत्या

पिछले दिनों दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भी एक कोरोना वायरस के संदिग्ध ने खुदकुशी कर ली थी। मरीज ने अस्पताल की 7वीं मंजिल से कूदकर अपनी जान दे दी थी। 35 वर्षीय मृतक ऑस्ट्रेलिया के सिडनी से वापस लौटा था। पीड़ित शख्स पिछले एक साल से सिडनी में रह रहा था। बाद में जब उसकी रिपोर्ट सामने आई तो वह कोरोना निगेटिव निकला। इसी तरह देश के अलग-अलग हिस्सों जैसे आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और कर्नाटक से कोरोना संदिग्धों की आत्महत्या की खबरें आई थीं।

कोरोना संक्रमण का डर लग रहा हो तो क्या करें: डॉक्टर ने बताया

हमने इस बारे में बात की केजीएमयू के मनोरोग विभाग के हेड डॉ. पीके दलाल से। उन्होंने बताया, 'लोगों में इन दिनों मास पैनिक, मास इनसिक्यॉरिटी और मास एंजाइटी बढ़ रही है। जो पहले से डिप्रेशन में हैं हमारे पास उनके कॉल ज्यादा आ रहे हैं। हम उन्हें यही सलाह देते हैं कि कुछ भी हो, मन में कोई गलत ख्याल आए, अपने परिवार से जरूर बताइए। संवाद का रास्ता खुला रहना चाहिए। इसके अलावा हमेशा इसी से संबंधित खबरें न पढे़ न देखें। दिन में बस एक या बहुत ज्यादा दो बार अपडेट के लिए नजर रखें। बाकी परिवार के साथ वक्त बिताएं।'

02 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़ी गईं खबरें

उज्जवला योजना: फ्री सिलेंडर का पैसा किसके अकाउंट में कब आएगा, पढ़िए
मध्यप्रदेश का 8वां जिला कोरोना से संक्रमित, मुरैना में दुबई से लौटे दंपति पॉजिटिव
सीएम सर, क्या कोरोना ड्यूटी में सभी कर्मचारियों को समान लाभ मिलेंगे
पीएम मोदी ने कहा: धर्म गुरुओं को थाने बुलाएं
भोपाल में 4 दिन थोक बाजार बंद, राशन की परेशानी हो सकती है
कमलनाथ के राइट हैंड जीतू पटवारी कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष
भागकर घर में छुपा कोरोना मरीज, 12 घरवालों को पॉजिटिव कर गया
मंगलयान की तरह यदि AC को भी बार-बार ऑन-ऑफ करें तो क्या आधी बिजली खर्च होगी
इंदौर की महिला डॉक्टर लखनऊ से संक्रमित होकर आई थी: MGM रिपोर्ट
इंदौर में डॉक्टरों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा, पथराव, संक्रमण की जांच करने गए थे
योद्धाओं की मूर्ति में घोड़ों की टांगे कभी ऊपर कभी नीचे क्यों होती है
MP BOARD 10th-12th के बाकी बचे पेपर कब होंगे, यहां पढ़िए


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here