Loading...    
   


आपदा रोकने में सरकार की अक्षमता को लेकर सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल | NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। महामारी से निपटने के लिए सरकार के उपायों को अपर्याप्त बताने हुए चल रहे संकट में तत्काल हस्तक्षेप के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है। याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि "एक तरफ ये महामारी आशंंका से भी आगे निकल रही है" और दूसरी तरफ वित्तीय और सामाजिक परिणामों को रोकने के लिए दी गई सहायता अपर्याप्त हैं। 

याचिकाकर्ताओं के अनुसार, केंद्र और संबंधित प्राधिकरण भारतीय नागरिकों की भलाई सुनिश्चित करने के लिए असंबद्ध और अक्षम हैं क्योंकि कार्यान्वयन से पहले राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के नतीजों का विश्लेषण नहीं किया गया था। इससे आम जनता बुरी तरह प्रभावित हुई है। याचिका में कहा गया, "क्योंकि उत्तरदाता उस स्थिति से अनभिज्ञ बने हुए हैं जो इस प्रकोप के कारण राष्ट्र के हित के सामने खड़ी हो गई है और आम जनता ने अपना विश्वास खो दिया है जिसे इस महामारी को प्रभावी ढंग से रोकने के लिए तुरंत बहाल करना आवश्यक है।" 

देश की एक बड़ी आबादी जो सड़कों पर या किराए के घरों में रहती है, के प्रति सरकार की उदासीनता की अनदेखी पर जोर देते हुए, याचिकाकर्ताओं ने "अनुभवहीन" सरकार द्वारा नागरिकों को सुरक्षित करने के लिए नीतियों की कमी को अपनी जनहित याचिका का आधार बनाया है।

याचिकाकर्ता ने पर्सनल प्रोटेक्टिव गियर (PPE) की कमी का हवाला देते हुए फ्रंटलाइन पर काम करने वाले कर्मियों की समस्या से भी अवगत कराया है कि इस कमी से COVID19 के प्रकोप में अपरिहार्य उछाल आएगा। इसके अलावा, यह कहा गया है कि भारत के नागरिक कई पृष्ठभूमि के हैं, जिनमें मध्यम वर्ग, छोटे दुकान के मालिक, एमएसएमई के मालिक और कॉरपोरेट शामिल हैं, सरकार से किसी भी राहत के बिना लॉकडाउन के प्रकोप का सामना कर रहे हैं। *इस पृष्ठभूमि में, याचिकाकर्ताओं ने निम्नलिखित प्रार्थनाएं की हैं: -

1. सभी नागरिकों को उनकी वित्तीय स्थिति की परवाह किए बिना, मूलभूत आवश्यकताएं और चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए सरकार को निर्देश। 
2.आवश्यक वस्तुओं के वितरण के प्रयोजनों के लिए प्रत्येक आवासीय क्षेत्र के लिए मोबाइल विक्रेताओं को तैनात किया जाना चाहिए। 
3. सार्वजनिक उद्यानों और स्टेडियमों में आश्रय और आवास बनाएं और उन्हें भोजन और आश्रय के स्थानों में परिवर्तित करें। 
4. इस संदर्भ के लिए दिशा-निर्देश जारी करें कि कोई भी व्यक्ति उनके काम से बर्खास्त नहीं होगा, भले ही वे घर से काम कर रहे हों या नहीं। 
5. देश के सभी आयकर देने वाले नागरिकों को "अल्पकालिक ऋण" के रूप में, अगले वित्त वर्ष में पुनर्प्राप्त करने के लिए 10,000 रुपये का स्थानांतरण । 

6. फ्रंटलाइन पर काम करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को चिकित्सा उपकरण और पीपीई की अनिवार्य पहुंच,, चाहे उनकी प्रोफ़ाइल या रैंक कुछ भी हो। 7.अधिस्थगन को लागू करना या उपभोक्ता और व्यावसायिक ऋण के रूप में देय सभी ईएमआई की वसूली पर रोक बने रहना जब तक महामारी बनी रहती है। 
8. बैंकों द्वारा छोटे उद्यमों द्वारा देय ब्याज को पूरी तरह से माफ कर देना और महामारी के पूर्ण उन्मूलन तक क्रेडिट कार्ड बिलों का भुगतान रोकना ,
9. GST या इनकम टैक्स रिटर्न या एडवांस टैक्स रिटर्न भरने पर सभी तरह के जुर्माने माफ करें।
10. मुद्रा नोटों के आदान-प्रदान को कम करना और जागरूकता कार्यक्रम चलाना कि सतहों पर वायरस कैसे प्रचलित हो सकता है।
यह याचिका सुमित मेहता और विक्रांत नरूला ने केंद्र सरकार, केंद्रीय वित्त मंत्रालय और भारतीय रिजर्व बैंक के खिलाफ दायर की है।
बी. अहिरवार(पत्रकार एवं लॉ छात्र) मोब.9827737665

29 मार्च को सबसे ज्यादा पढ़ी गई खबरें

सर्जरी के बाद डॉक्टर टांका लगाने कौन सा धागा यूज करते हैं 
मील के पत्थरों पर अलग-अलग रंग क्यों होता है, कोई संकेत है या पेंटर की मर्जी 
BIKE बंद कर देने के बाद TIK-TIK की आवाज क्यों आती है 
BSNL ने 6 लोकप्रिय प्रीपेड रिचार्ज प्लान महंगे कर दिए
फिर पुराने ट्रैक पर चल पड़े ज्योतिरादित्य सिंधिया, क्या फिर से ठोकर खाएंगे 
MP VIMARSH PORTAL 9th-11th EXAM RESULT DIRECT LINK यहां देखें
HOW TO GET ONLINE TRANSIT E-PASS IN BHOPAL | भोपाल में ऑनलाइन ट्रांजिट ई-पास कैसे प्राप्त करें
ज्योतिरादित्य सिंधिया सर, 'तत्पर हूँ' से क्या तात्पर्य है, कृपया स्पष्ट कीजिए 
इंदौर में कोरोना संदिग्ध ने डॉक्टर पर थूका, पुलिस को गालियां देकर भगाया (वीडियो देखें) 
MP BOARD: कक्षा 1 से 8 तक के सभी विद्यार्थियों को जनरल प्रमोशन, 10वीं-12वीं शेष 
मध्यप्रदेश में 6वें कोरोना संदिग्ध की मौत, आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थी 
मध्यप्रदेश में सभी नागरिकों को 3 माह फ्री राशन: शिवराज सिंह चौहान 
VVIP कारों की प्लेट पर नंबर क्यों नहीं होते, कोई लॉजिक है या अकड़ दिखाने के लिए, पढ़िए
पूर्व सीएम कमलनाथ का सिक्योरिटी गार्ड कोेरोना संदिग्ध, भर्ती 
मप्र 7/39 की तबीयत में सुधार, दूसरी रिपोर्ट नेगेटिव आई 


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here