Loading...    
   


CORONA APP DOWNLOAD ना करें, बेहद खतरनाक है | TECH NEWS

सारी दुनिया के लोग कोरोनावायरस के खतरे में है। दहशत का आलम यह है कि अपने आसपास वायरस का पता लगाने के लिए लोग कुछ भी करने को तैयार हैं। साइबर क्रिमिनल्स ऐसे ही मौके की तलाश में रहते हैं। उन्होंने दर्जनों ऐसे मोबाइल एप्लीकेशंस लॉन्च कर दिए हैं जिनके नाम कोरोनावायरस से संबंधित है परंतु असल में यह बेहद खतरनाक मोबाइल ऐप है।

ऐसा ही एक ऐप है कोरोना वायरस ट्रैकर। यह ऐप फोन में डाउनलोड होने पर मोबाइल का पूरा कंट्रोल अपने हाथ में ले लेता है। इसके बाद स्क्रीन लॉक कर डिवाइस ओनर से दूसरी चीजों का ऐक्सिस मांगता है। एक बार मोबाइल में इंस्टॉल हो जाने पर यह ऐप यूजर से 100 से 250 डॉलर की फीस बिटकॉइन में पे करने को कहता है। इसके अलावा यह यूजर को डिवाइस से सारा निजी डेटा जैसे तस्वीरें, विडियो और कॉन्टैक्ट डिलीट करने की धमकी देता है।

सिक्यॉरिटी फर्म Avast ने ऐप की पहचान करने को कहा

साइबर फर्म Avast ने सिक्यॉरिटी रिसर्च कम्युनिटी से इस तरह के ऐप की पहचान करने को कहा है। इसके अलावा अपने मोबाइल थ्रेट इंटेलिजेंस प्लैटफॉर्म apklab को सार्वजनिक कर फेक और मैलिशस मोबाइल ऐप्स पर रोक लगाने की कोशिश की है। कंपनी का कहना है कि क्लीन और मैलिशस ऐप सैंपल के साथ-साथ URL के कस्टमाइजिंग फीड को पब्लिक करने से रिसर्र आसानी से उन्हें ऐक्सिस कर सकते हैं। इसके साथ ही इन ऐप्स की सिक्यॉरिटी को भी इन्वेस्टिगेट कर सकते हैं।

अब तक 35 फर्जी कोरोनावायरस ऐप, लोगों को SMS कर रहे हैं

बता दें कि अभी तक 35 फर्जी कोरोना वायरस ऐप्स का पता चल चुका है। हालांकि, गौर करने वाली बात है कि ये ऐप्स ऑफिशल गूगल प्ले स्टोर के जरिए वायरल नहीं हुए हैं। बल्कि हैकर्स वायरस-पैक्ड ये ऐप्स ऐंड्रॉयड यूजर्स को ये ऐप्स इंस्टॉल करवाने के लिए ईमेल और टेक्स्ट मेसेज के जरिए लिंक भेज रहे हैं।

Covid19/Coronavirus Tracker आपके पर्सनल फोटो वीडियो और कांटेक्ट नंबर हैक कर लेता है

रैनसमवेयर का यह भी एक उदाहरण है। यह यूजर के फोन को लॉक कर देता है और अनलॉक करने के लिए बिटकॉइन में 100 से 250 डॉलर की मांग करता है।

Corona live 1.1 आपकी बातचीत चुपके से रिकॉर्ड करके सर्वर में सेव कर देता है

इस ऐप सैमसंग के ऑफिशल हेल्थ ऐप के आइकन का इस्तेमाल कर रहा है। यह ऐप आपके इन्फेक्टेड डिवाइस की लोकेशन, कॉन्टैक्ट का ऐक्सिस हासिल कर SMS पढ़ सकता है। इसके अलावा यह फोन की तस्वीरों, ऑडियो रिकॉर्ड करने, ऐप्स चेक करने का भी ऐक्सिस हासिल कर लेता है।

Coronavirus आपके मोबाइल से फोटो वीडियो और कांटेक्ट नंबर चुराता है

यह ऐप भी मैलवेयर से लैस है। इसमें खासतौर पर मशहूर बैंकिंग trojan, Cerberus जैसे नाम शामिल हैं जो असली बैंकिंग ऐप्स के ऊपर ओवरले क्रिएट करता है। यह लोगों की डीटेल्स चुरा लेता है और एसएमएस व कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेंध लगा देता है।

29 मार्च को सबसे ज्यादा पढ़ी गई खबरें

सर्जरी के बाद डॉक्टर टांका लगाने कौन सा धागा यूज करते हैं 
मील के पत्थरों पर अलग-अलग रंग क्यों होता है, कोई संकेत है या पेंटर की मर्जी 
BIKE बंद कर देने के बाद TIK-TIK की आवाज क्यों आती है 
BSNL ने 6 लोकप्रिय प्रीपेड रिचार्ज प्लान महंगे कर दिए
फिर पुराने ट्रैक पर चल पड़े ज्योतिरादित्य सिंधिया, क्या फिर से ठोकर खाएंगे 
MP VIMARSH PORTAL 9th-11th EXAM RESULT DIRECT LINK यहां देखें
HOW TO GET ONLINE TRANSIT E-PASS IN BHOPAL | भोपाल में ऑनलाइन ट्रांजिट ई-पास कैसे प्राप्त करें
ज्योतिरादित्य सिंधिया सर, 'तत्पर हूँ' से क्या तात्पर्य है, कृपया स्पष्ट कीजिए 
इंदौर में कोरोना संदिग्ध ने डॉक्टर पर थूका, पुलिस को गालियां देकर भगाया (वीडियो देखें) 
MP BOARD: कक्षा 1 से 8 तक के सभी विद्यार्थियों को जनरल प्रमोशन, 10वीं-12वीं शेष 
मध्यप्रदेश में 6वें कोरोना संदिग्ध की मौत, आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थी 
मध्यप्रदेश में सभी नागरिकों को 3 माह फ्री राशन: शिवराज सिंह चौहान 
VVIP कारों की प्लेट पर नंबर क्यों नहीं होते, कोई लॉजिक है या अकड़ दिखाने के लिए, पढ़िए
पूर्व सीएम कमलनाथ का सिक्योरिटी गार्ड कोेरोना संदिग्ध, भर्ती 
मप्र 7/39 की तबीयत में सुधार, दूसरी रिपोर्ट नेगेटिव आई 


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here