MP NEWS- आउटसोर्स कर्मचारियों ने ऊर्जा मंत्री की बात नहीं मानी, हड़ताल जारी

भोपाल।
27 सितंबर से लगातार हड़ताल पर चल रहे आउटसोर्स कर्मचारियों को मनाने के लिए मंगलवार को ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने उन्हें आश्वासन देते हुए कई मधुर वचन दिए थे लेकिन आउटसोर्स कर्मचारियों ने जवाब दिया कि वह बातों की जलेबी में फंसने के मूड में नहीं है। समस्याओं का समाधान होना चाहिए।

मध्य प्रदेश में लगभग 35000 आउटसोर्स कर्मचारी हड़ताल पर

इधर बिजली कंपनियों के दबाव में मानव संसाधन प्रदाता कंपनियां आउटसोर्स कर्मचारियों पर कार्रवाई करने का मन बना रही है। इसे लेकर कर्मचारियों ने कहा कि एक को भी हटाया तो प्रदेशभर में भूख हड़ताल शुरू कर दी जाएगी। हड़ताल के कारण वसूली, मेंटेनेंस और ग्रिड से जुड़े काम अटक गए हैं। इस कारण बिजली कंपनी ने आउटसोर्स कंपनियों को अनुशंसाएं भेजी हैं। इसके बाद कंपनियों ने कर्मचारियों को मौखिक रूप से चेताया है कि वे काम पर लौट जाए। वरना कार्रवाई की जाएगी। बावजूद बुधवार को कर्मचारी हड़ताल पर डटे हुए हैं। भोपाल समेत प्रदेशभर में कर्मचारी हड़ताल पर है।

मंगलवार को ऊर्जा मंत्री मनाने आए थे

ऊर्जा मंत्री तोमर ने एक दिन पहले मंगलवार को कहा था कि बिजली कंपनियों के आउटसोर्स कर्मचारियों के साथ न्याय होगा। उनकी जायज मांगें मानी जाएगी। ​​​बैठक करके मांगों पर विचार किया जाएगा। बावजूद इसके बुधवार को कर्मचारी काम पर नहीं लौटे।

कार्रवाई की तो उग्र प्रदर्शन करेंगे

मध्यप्रदेश बिजली आउटसोर्स कर्मचारी संगठन के प्रदेश संयोजक मनोज भार्गव ने कहा कि आउटसोर्स कर्मचारी कंपनी की रीड़ है, लेकिन उनकी वर्षों से मांगें लंबित है। हड़ताल के चलते कार्रवाई किए जाने की बात कही जा रही है, लेकिन डरेंगे नहीं। हटाया तो भूख हड़ताल पर बैठेंगे।

बिजली कंपनी के आउटसोर्स कर्मचारियों की मांगे

आउटसोर्स कर्मचारियों को बिजली कंपनी में मर्ज किया जाए।
वेतन में बढ़ोतरी की जाए।
मप्र के बिजली क्षेत्र से ठेकेदारी कल्चर खत्म कर आउटसोर्स रिफार्म नीति बनाई जाए।
सब स्टेशन ऑपरेटर, पॉवर प्लांट ऑपरेटर, हेल्पर और सुरक्षा सैनिकों को साप्ताहिक अवकाश अनिवार्य रूप से दिया जाए।
पॉवर ग्रिड और सब स्टेशन व पॉवर प्लांट ऑपरेटरों को कुशल श्रमिक के स्थान पर उच्च कुशल श्रमिक का मासिक मानदेय प्रतिमाह दिया जाए।
स्वास्थ्यकर्मियों की तरह 3 हजार रुपए का प्रोत्साहन भत्ता प्रदान किया जाए। ठेका श्रमिकों को बोनस भी दिया जाए।
45 साल की उम्र पार कर चुके ठेकाकर्मियों को 60 वर्ष तक सेवा में रखा जाए।
आउटसोर्स कर्मचारियों को 3 माह का तकनीकी प्रशिक्षण अनिवार्य रूप से मिले।
आउटसोर्स कर्मचारियों को उनके गृह स्थान से अधिकतम 5 किमी से अधिक की दूरी पर ट्रांसफर नहीं किया जाए।
सुरक्षा के सभी संसाधन उपलब्ध कराए जाए।
आउटसोर्स कर्मचारियों को प्रतिमाह वेतन पर्ची, इंश्योरेंस व ईएसआईसी कार्ड की प्रति, ऑफर लैटर, आईडी कार्ड दिए जाए।

29 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

BHOPAL JOBS- आईटीआई मंडीदीप में अप्रेंटिसशिप मेला, 12 कंपनियां आएंगी
REAL INSPIRATIONAL STORY- IAS INTERVIEW- एक जवाब ने पूरे बोर्ड को इंप्रेस कर लिया
BHOPAL NEWS- ट्यूशन टीचर के घर 7 साल की मासूम छात्रा से दरिंदगी
MP NEWS- मध्य प्रदेश उप चुनाव की घोषणा, आचार संहिता लागू
MPPSC NEWS- स्टेट इंजीनियरिंग सर्विस एग्जाम 2020 का शुद्धिपत्र
MP GOVERNMENT JOBS- MPPEB PVFT 2021 का विज्ञापन जारी, आवेदन आमंत्रित
MP NEWS - 10-12 के पेपर लीक करने वाले शिक्षकों के खिलाफ FIR होगी
MP NEWS- सुसाइड करने जा रही बेरोजगार लड़की से मुख्यमंत्री ने कहा- बैठकर बात करना उचित होता है
GWALIOR COLLEGE ADMISSION- इस बार स्टूडेंट्स ने कॉलेज रिजेक्ट किए, 2000 सीटें खाली
MP NEWS- 5 दिनों से लगातार बढ़ रहा है, विदिशा में दो की मौत
MP NEWS-  अध्यापकों के नवीन शिक्षक संवर्ग में संविलियन की परेशानी का निराकरण

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiपहले स्कूटर का आविष्कार हुआ या मोटरसाइकिल का, दोनों में बेसिक अंतर क्या है
GK in Hindiपानी की टंकी ऊपर तो पेट्रोल टैंक जमीन के नीचे क्यों बनाते हैं
GK in Hindiक्या इनवर्टर से चार्ज करने पर मोबाइल खराब हो जाता है
GK in Hindiपितृपक्ष में कौए को भोजन क्यों कराते हैं, संदेशवाहक कबूतर को क्यों नहीं
GK in Hindiदुर्योधन की पत्नी कौन थी, किसकी पुत्री थी और कैसे विवाह हुआ
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here