नगरीय निकाय चुनाव- आरक्षण के लिए शिवराज सरकार सुप्रीम कोर्ट जाएगी - MP NEWS

ग्वालियर
। मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह सरकार ने एक बार फिर आरक्षण के मामले में सुप्रीम कोर्ट जाने का फैसला किया है। इस बार नगरीय निकाय चुनाव में आरक्षण के लिए सुप्रीम कोर्ट जाने का डिसीजन लिया गया है। इससे पहले सन 2018 में प्रमोशन में आरक्षण मामले में भी शिवराज सिंह चौहान सरकार सुप्रीम कोर्ट चली गई थी। जिसका फैसला आज तक नहीं हो पाया। 

हाईकोर्ट ने आरक्षण स्थगित किया है, चुनाव नहीं

नगरीय निकाय चुनाव मामले में हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ में अधिवक्ता मानवर्द्धन सिंह तोमर ने नगर निगम, नगर पालिका व नगर परिषद में अध्यक्ष व अन्य तरह से आरक्षण प्रक्रिया को चुनौती दी थी। इसमें याचिकाकर्ता की तरफ से पैरवी अभिभाषक अभिषेक सिंह भदौरिया द्वारा की गई थी। याचिका पर पहली सुनवाई 10 मार्च 2021 को की गई थी। इसके बाद प्रदेश सरकार को अपना पक्ष रखने के लिए दो दिन का समय दिया गया था। 

ग्वालियर हाईकोर्ट की युगल पीठ ने दोनों पक्षों की सुनवाई के बाद कहा था कि चूकि प्रथम दृष्ट्या से ऐसा प्रतीत होता है कि 10 दिसंबर 2020 को जारी आरक्षण आदेश में रोटेशन पद्धति का पालन नहीं किया गया है। हाईकोर्ट ने एक अन्य प्रकरण में ऐसा मान्य किया है कि प्रथम दृष्ट्या आरक्षण रोटेशन पद्धति से ही लागू होना चाहिए। ऐसी स्थिति में प्रकरण के अंतिम निराकरण तक उक्त आरक्षण को स्थगित कर दिया गया था।

हाईकोर्ट में शिवराज सिंह सरकार ने क्या दलीलें दी थी

इस मामले में हाईकोर्ट ने मार्च में दो नगर निगम, 79 नगर पालिका, नगर पंचायत के आरक्षण की प्रक्रिया पर रोक लगाने के बाद मध्य प्रदेश शासन से जवाब मांगा था। हाईकोर्ट में जवाब पेश करते हुए शासन की तरफ से कहा गया था कि संविधान के अनुच्छेद 243 और नगर पालिका अधिनियम की धारा 29 में नगर निगम, नगर पालिका, नगर पंचायतों के जो अध्यक्ष चुने जाने हैं, उनके पदों के आरक्षण का अधिकार शासन को दिया है।

अनुसूचित जाति और जनजाति के लिए जो पद आरक्षित किए जाते हैं, वह जनगणना के आधार पर तय किए जाते हैं। जनसंख्या के समानुपात के आधार पर आरक्षण किया जाता है। ऐसा नहीं है कि एक पद आरक्षित हो गया है, उसे दोबारा आरक्षित नहीं किया जा सकता। महापौर, नगर पालिका अध्यक्ष व नगर पंचायत अध्यक्षों के पद आरक्षित करने में कोई गलती नहीं की है। कानून का पालन करते हुए आरक्षण किया गया है। मध्य प्रदेश सरकार की तरफ से पेश की गई दलील सुनने के बाद याचिकाकर्ता मानवर्द्धन सिंह तोमर ने कहा कि आरक्षण में रोस्टर का पालन नहीं किया गया था। 

शिवराज सरकार ने सुप्रीम कोर्ट जाने के लिए हाईकोर्ट से समय मांगा

सोमवार को ग्वालियर हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान सरकार ने 4 सप्ताह का समय मांगा है। हाईकोर्ट ने 4 सप्ताह का समय देते हुए पूरे मामले का स्टेटस मांगा है। साथ ही प्रदेश सरकार को सुप्रीम कोर्ट जाने के लिए समय दिया है। अब देखना होगा कि प्रदेश सरकार सुप्रीम कोर्ट में इस मामले को किस तरह रखती है। 

14 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP NEWS- कर्मचारियों के प्रमोशन के लिए मंत्री समूह का गठन
MP NEWS- एक लाख पदों पर भर्ती की प्रक्रिया जल्द शुरू होगी: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह
MP GOVT JOB NEWS- पटवारियों की बंपर भर्ती आने वाली है
MP IPS TRANSFER LIST- मध्य प्रदेश भापुसे अधिकारियों की तबादला सूची
DAVV NEWS- स्टूडेंट्स एडमिशन लेने नहीं आ रहे, BEd की 31000 सीटें खाली
CBSE NEWS- परीक्षा फॉर्म भरने के नियम बदले, पेरेंट्स को राहत
WHATSAPP- महीनों पुराने मैसेज DELETE FOR ALL कैसे करें
MP COLLEGE NEWS- मप्र के सभी विश्वविद्यालयों में एकीकृत पाठ्यक्रम लागू
MP EMPLOYEES NEWS- वित्त मंत्रालय ने DA बढ़ाने का प्रस्ताव भेजा
MP NEWS- कर्मचारियों के खिलाफ होगी रासुका की कार्रवाई
ना सिम चाहिए, ना रिचार्ज, Gmail से फोन कीजिए, टोटल फ्री

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiशेरनी के नुकीले दांतों से शावक घायल क्यों नहीं होते, जब गर्दन पकड़ कर उठाती है
GK in Hindiसोने के सिक्के को मोहर, तो चांदी और तांबे के सिक्के को क्या कहा जाता है
GK in Hindiमछली पानी में रहती है, फिर उसमें से बदबू क्यों आती है
GK in Hindiभारत की एक ऐसी जगह जहां आज भी ब्रिटिश सरकार का राज है
GK in Hindiबिजली के तार को कैसे पता होता है, पंखे को 60 वाट और एसी को 1160 वाट बिजली देना है
GK in Hindiउल्लू घोंसला क्यों नहीं बनाते, खंडहर में क्यों रहता है
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here