भूखे कृष्ण का मंदिर, सिर्फ 2 मिनट के लिए बंद होता है- GK in Hindi

श्रीमद्भगवद्गीता में स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने कहा है कि वह केवल 'भाव' के भूखे हैं, यदि कोई भक्ति भाव से चावल का एक दाना भी अर्पित करें तो वह संतुष्ट हो जाते हैं परंतु केरल में ऐसा मंदिर है जो दिन के 24 घंटों में से 23 घंटे 58 मिनट खुला रहता है। केवल 2 मिनट के लिए पट बंद किए जाते हैं। ग्रहण काल में जब सभी मंदिरों के पट बंद होते हैं तब भी यह मंदिर खुला रहता है।

तिरुवरप्पु (तिरुवर्पू ) श्री कृष्ण मंदिर की कथा

करीब 1500 साल पुराने इस मंदिर का नाम "तिरुवरप्पु श्री कृष्ण मंदिर" (Thiruvarppu Sreekrishna Swami Temple) है। यह केरल के तिरुवेरपु नगर में स्थित है। दुनिया भर में भगवान श्री कृष्ण के करोड़ों मंदिर है परंतु यह सबसे असामान्य है। इस मंदिर में भगवान के पट 24 घंटे में मात्र 2 मिनट के लिए बंद किए जाते हैं। इस दौरान पुजारी को एक कुल्हाड़ी दी जाती है। वह इसलिए कि यदि निर्धारित 2 मिनट की अवधि के बाद चाबी से ताला खोलने में कोई कठिनाई हो तो कुल्हाड़ी से ताला तोड़ दे।

आदि शंकराचार्य ने बताया भगवान को भूख लगी है

यह कोई कोरी मान्यता नहीं है बल्कि स्वयं आदि शंकराचार्य ने बताया कि यहां भगवान कृष्ण भूख बर्दाश्त नहीं कर सकते। मान्यता यह है कि भगवान कृष्ण की यह प्रतिमा उस अवस्था की है जब उन्होंने कंस का वध किया था। इस प्रक्रिया में भगवान श्री कृष्ण को काफी थकान हो गई थी। मंदिर से जुड़ा चमत्कार यह है कि अभिषेकम समाप्त होते ही भगवान श्रीकृष्ण की प्रतिमा का सिर सूख जाता है। जब नैवेद्यम अर्पित किया जाता है तब प्रतिमा का शेष शरीर सूखता है।

दिन में 10 बार नैवेद्य पूजन होता है

इस मंदिर में भगवान को भोजन के लिए दिन में 10 बार नैवेद्य पूजन होता है। बताया जाता है कि एक बार ग्रहण काल के दौरान मंदिर के पट बंद कर दिए गए थे। जब खोले तो भगवान श्री कृष्ण की प्रतिमा की कमर पट्टी नीचे की तरफ खिसक गई थी। श्री आदि शंकराचार्य उस समय मंदिर में उपस्थित थे। उन्होंने बताया कि भूख के कारण ऐसा हुआ। तभी से इस मंदिर के पट हमेशा खुले रहते हैं।

भगवान श्री कृष्ण केवल 2 मिनट के लिए विश्राम करते हैं

भगवान श्री कृष्ण केवल 2 मिनट के लिए विश्राम करते हैं 11.58 बजे से 12.00 बजे तक। यहां केवल भगवान श्री कृष्ण ही नहीं बल्कि उनके दर्शन के लिए आने वाले भक्तों को भी अनिवार्य रूप से प्रसादम दिया जाता है। बिना प्रसादम ग्रहण किए किसी भक्त को मंदिर से वापस जाने की अनुमति नहीं है। मान्यता है कि इस मंदिर में प्रसाद ग्रहण करने वाले कृष्ण भक्त जीवन में कभी भूखे नहीं रहते। Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article

मजेदार जानकारियों से भरे कुछ लेख जो पसंद किए जा रहे हैं

(general knowledge in hindi, gk questions, gk questions in hindi, gk in hindi,  general knowledge questions with answers, gk questions for kids, ) :- यदि आपके पास भी हैं कोई मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here