माननीय मंत्रीजी, जिन परिवीक्षा वाले असिस्टेंट प्रोफेसर के ट्रांसफर पहले ही हो गए, उनका क्या - Khula Khat

धीरज जॉनसन।
प्रदेश में अधिकारियों-कर्मचारियों के तबादले की तिथि को 31 जुलाई से बढ़ाकर 7 अगस्त कर दिया गया है ट्रांसफर पॉलिसी में परिवर्तन होने के बाद काफी मात्रा में आवेदन भी संबंधित विभागों में पहुंच रहे है। पर इस बीच एक वायरल वीडियो ने उच्च शिक्षा विभाग के उन नवचयनित सहायक प्राध्यापकों को चिंता में डाल दिया होगा जिन्होंने परिवीक्षा अवधि में ही ट्रांसफर लेने के प्रयास किये होंगे क्योकि वायरल वीडियो में ऐसा बताया जा रहा है कि ऐसे लोग वर्तमान स्थानांतरण नीति से पूर्णतः वंचित रहेंगे। 

वायरल वीडियो म.प्र.शासन के उच्च शिक्षा मंत्री का बताया जा रहा है जो यह कहते सुनाई दे रहे कि "स्थानांतरण नीति तय की गई है इस नीति के अंतर्गत जो भी विभागों के परिवीक्षा अवधि के अभ्यर्थी जो भी होंगे उनको प्रायः जो असिस्टेंट प्रोफेसर ग्रुप में हमारे अपने विभागों में भी है ऐसे लोग वर्तमान की स्थानांतरण नीति से पूर्णतः वंचित रहने वाले है क्योकि दो वर्ष की परिवीक्षा अवधि में किसी भी असिस्टेंट प्रोफेसर का ट्रांसफर नहीं करना है। ये उसका सर्विस के समय ऐफिडेविट दिया गया है। 

मैं आपके माध्यम से अपील करना चाहूंगा कि ये ऐसे लोग जो भी जिन्होंने आवेदन स्थानांतरण के दिये हैं वे अपनी अपनी परिवीक्षा अवधि पूरा कर लें विभाग की सहानुभूति उनके साथ है जैसे ही परिवीक्षा समाप्त होगी उसके बाद योग्य निर्णय लिया जा सकेगा"

शोध का विषय यह है कि यह नौबत ही क्यों आई कि एक जिम्मेदार को सार्वजनिक रूप से बयान देना पड़ा। जानकारी के अनुसार कुछ दिन पहले किसी समाचार में एक खबर प्रकाशित हुई थी कि नवचयनित सहायक प्राध्यापक के स्थानांतरण के लिए कुछ लोग भोपाल गए और वहां बातचीत के दौरान यह तथ्य सामने आया कि सामने वाला परिवीक्षा अवधि में है इसलिये इसलिये ट्रांसफर होने में थोड़ी कठिनाई है पर कुछ रास्ता निकाल देंगे पर पारिश्रमिक कुछ ज्यादा हो सकता है। इसके बाद से ही हलचल पैदा हुई और सूची अटक गई। 

इस वाक्ये से कई प्रश्न जन्म लेना भी प्रारम्भ हो गए है, कि जब परिवीक्षा अवधि वाले अधिकारी-कर्मचारी का ट्रांसफर नहीं होता है तो फिर इसका प्रयास कैसे संभव हुआ? जब पड़ताल की गई तो सूत्रों के माध्यम से जानकारी हासिल हुई कि सहायक प्राध्यापक भर्ती परीक्षा- 2017, जो वर्तमान में भी न्यायालय के अध्यधीन है, इसमें चयनित कुछ अभ्यर्थियों के ट्रांसफर परिवीक्षा अवधि में ही हो गए थे। जिसकी जानकारी बिरादरी वालों को लग गई और भविष्य के सपने संजोए बाकी अभ्यर्थियों ने भी भोपाल की ओर दौड़ लगा दी, इससे पहले की उनका स्वार्थ सिद्ध होता, मामला प्रकाश में आ गया और उनके सपने चकनाचूर हो गए। 

परंतु अब लोगों में एक कौतूहल औऱ जिज्ञासा है कि उन सहायक प्राध्यापकों का ट्रांसफर कैसे हो गया जिन्हें सरकारी सेवा में आये कुछ दिन ही हुआ? क्या उच्च शिक्षा विभाग इतना उदार हो गया कि परीक्षा के पहले लिंक ओपन कर आवेदन ठीक करवाने औऱ सिर्फ वस्तुनिष्ठ आधारित परीक्षा लेने के बाद, सर्टिफिकेट दुरस्त करने के लिए साल भर का वक्त देने और विज्ञापन में बार-बार संशोधन करने के बाद नवचयनित सहायक प्राध्यापकों को नियमों को दरकिनार कर मनपसंद जगह भी पहुंचा रहा है। या छवि बेहतर करने उनका ट्रांसफर रद्द किया जाएगा जो परिवीक्षा अवधि में सुविधा पा गए ?

चूंकि यह परीक्षा भी अपने आप में नायाब रही। क्योंकि पिछले चार सालों से इसमें सुधार हो रहा है पहले आयोग और उच्च शिक्षा विभाग ने मिलकर खूब संशोधन किए बाकी खामियां कोर्ट तक पहुंच गई। अब आगे क्या होगा यह तो वक्त ही बताएगा।

05 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP NEWS- गृह मंत्री मिश्रा ने बाढ़ में फंसे 9 लोगों को बचाने जान जोखिम में डाल दी
MP NEWS- विधायक के फर्जी लेटर हेड वाला रैकेट पकड़ा गया
GWALIOR NEWS- अंचल में 400 साल पुराने पुल खड़े हैं, 4 साल पुराने पुल कैसे बह गए
GWALIOR NEWS- बड़ी बहन को देखने आया लड़का, छोटी बहन का रेप कर भागा
MP NEWS- ट्रांसफर मांगने वाले 1800 असिस्टेंट प्रोफेसर्स को मंत्रीजी की ना
MP NEWS- कर्मचारियों के तबादले की लास्ट डेट फिर बढ़ाई जाएगी
MP CORONA NEWS- दमोह और सागर से उठ रही है तीसरी लहर, मुख्यमंत्री चिंतित
MP NEWS- श्योपुर का मध्य प्रदेश से कनेक्शन कट, कूनो का पुल टूटा
MP NEWS- शर्ट उतारकर अमर्यादित प्रदर्शन, 44 पंचायत कर्मचारियों के खिलाफ FIR
MP NEWS- नगरीय निकायों में प्रतिनियुक्ति पर मलाई काट रहे 800 प्रभारी अधिकारियों की लिस्ट तैयार
EMPLOYEE NEWS- वनविभाग छिंदवाड़ा, सिवनी के श्रमिकों के विनियमितीकरण प्रकरण पर कार्रवाई करें: हाईकोर्ट 

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiअंधेरा होने पर भी मच्छरों को हमारी लोकेशन कैसे मिल जाती है 
GK in Hindiरत्ती भर शर्म में, रत्ती से क्या तात्पर्य होता है, पढ़िए मजेदार जानकारी
GK in Hindiसाबुन, शैंपू या टूथपेस्ट सबके झाग सफेद क्यों होते हैं, जबकि कलर अलग-अलग होते हैं
GK in Hindiठंड और डर दोनों के कारण रोंगटे खड़े हो जाते हैं, ऐसा क्यों
GK in Hindi- वह कौन सी संख्या है जिसे रोमन में नहीं लिखा जा सकता
GK in Hindiरानियों के रेशमी वस्त्र किससे धुलते थे, वाशिंग पाउडर तो था नहीं
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here