MP NEWS- नगरीय निकायों में प्रतिनियुक्ति पर मलाई काट रहे 800 प्रभारी अधिकारियों की लिस्ट तैयार

भोपाल
। मध्य प्रदेश के नगरीय निकाय मंत्री भूपेंद्र सिंह के निर्देश पर 3 साल से अधिक समय से प्रतिनियुक्ति पर जमे हुए 800 से ज्यादा अधिकारियों एवं कर्मचारियों की लिस्ट तैयार कर ली गई है। यह सभी कर्मचारी नगरिया निकाय में किसी न किसी पावरफुल पोजीशन पर प्रभारी अधिकारी बनकर बैठे हुए हैं। माना जा रहा है कि इन सभी को इनके मूल विभागों में लौटाया जाएगा क्योंकि नगरीय निकाय में सबसे ज्यादा पॉलिटिक्स यही लोग कर रहे हैं। 

मध्यप्रदेश में प्रतिनियुक्ति पर ही रिटायर होना चाहते हैं कर्मचारी

मध्य प्रदेश में 16 नगर निगम, 98 नगर पालिका एवं 294 नगर परिषद है। इनमें से ज्यादातर नगर निगम एवं नगर पालिकाओं में अन्य विभागों के अधिकारी-कर्मचारी प्रतिनियुक्ति पर जमे हुए हैं। सबसे ज्यादा नगर निगमों में दखल है। कई अफसर तो मलाईदार पदों पर सालों से जमे हैं, जो निगमों से वापस अपने विभागों में लौटना ही नहीं चाह रहे हैं। जबकि नियमानुसार कोई भी कर्मचारी 3 वर्ष से अधिक समय तक किसी अन्य विभाग में प्रतिनियुक्ति पर नहीं रह सकता। उसे अपने मूल विभाग में वापस लौट कर आना ही होता है।

नगरीय निकाय की पावरफुल कुर्सियों पर प्रतिनियुक्ति वाले कर्मचारियों का कब्जा

प्रदेश में ट्रांसफर पर लगे बैन के खुलने के बाद से ही नगरिया निकाय में ऐसे कर्मचारियों की लिस्ट बनना शुरू हो गई थी, जो अब अंतिम दौर में बताई जा रही है। बताया जाता है कि भोपाल नगर निगम में ऐसे करीब 100 अधिकारी-कर्मचारियों के नाम है। मध्यप्रदेश में ऐसा कोई नगर निगम, नगर पालिका अथवा नगर पंचायत नहीं है जहां पर कोई ना कोई कर्मचारी प्रतिनियुक्ति पर ना हो। आश्चर्यजनक बात यह है कि प्रतिनियुक्ति पर आने वाले कर्मचारी, कई बड़े पदों के प्रभारी अधिकारी बनकर बैठे हुए हैं। इन्हीं के कारण डिपार्टमेंट का पूरा सिस्टम डिस्टर्ब हो गया है।

नगरिया निकाय में प्रतिनियुक्ति पर क्यों आते हैं कर्मचारी

मलाईदार पोस्ट मिलती है। अपने विभाग की तुलना में स्वतंत्रता ज्यादा रहती है।
निकाय स्वशासी संस्थाएं होती हैं। महापौर-अध्यक्ष के साथ कमिश्नर-सीएमओ से ही संपर्क करना होता है।
निकायों में राजनीतिक संपर्क बना रहता है। इसी दौरान बड़े नेताओं से भी संपर्क हो जाता है।
रहने के लिए क्वार्टर, पानी, सफाई जैसी सुविधाएं मुफ्त में मिलती है।

04 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP IFS TRANSFER LIST- वन विभाग आईएफएस अफसरों के तबादले
मप्र कैबिनेट मीटिंग का आधिकारिक प्रतिवेदन - MP CABINET MEETING OFFICIAL REPORT
MP NEWSटॉवर पर हेलीकॉप्टर का इंतजार कर रहे 12 लोग बह गए, शिवपुरी के नरवर की घटना
GWALIOR NEWS- आधे घंटे में 3 पुल टूट कर बह गए, विकास की पोल खोली, वीडियो देखें
MPPSC NEWS- 33 सहायक प्राध्यापकों की नियुक्ति निरस्त
fake university list by ugc, यूजीसी ने 24 विश्वविद्यालय फर्जी घोषित किए
शिवपुरी की बाढ़ में इंटरसिटी एक्सप्रेस फंसी, 1500 यात्री संकट में, हरसी डैम टूटने की अफवाह, लोग पहाड़ी पर चढ़ गए
MP NEWS- यादवों पर हमला मामले में थाना प्रभारी सहित 5 पुलिसकर्मी सस्पेंड
SHIVPURI बाढ़- एयर फोर्स ने फोटो जारी किए, SDM ने कहा था कोई खतरे में नहीं है
MP EMPLOYEE NEWS- सैकड़ों अध्यापकों का संविलियन आज तक नहीं हुआ, लास्ट डेट निकल गई
MP NEWS- विशेष शिक्षकों की भर्ती के लिए मुख्यमंत्री कार्यालय ने स्कूल शिक्षा विभाग को लिखा
Khula Khatछत्तीसगढ़ में शिक्षकों की नियुक्ति से मध्यप्रदेश में रोष

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiरत्ती भर शर्म में, रत्ती से क्या तात्पर्य होता है, पढ़िए मजेदार जानकारी
GK in Hindiसाबुन, शैंपू या टूथपेस्ट सबके झाग सफेद क्यों होते हैं, जबकि कलर अलग-अलग होते हैं
GK in Hindiठंड और डर दोनों के कारण रोंगटे खड़े हो जाते हैं, ऐसा क्यों
GK in Hindi- वह कौन सी संख्या है जिसे रोमन में नहीं लिखा जा सकता
GK in Hindiरानियों के रेशमी वस्त्र किससे धुलते थे, वाशिंग पाउडर तो था नहीं
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here