Loading...    
   


JABALPUR NEWS- त्यौहारों से पहले जर्जर मकानों पर लाल निशान लगाए जा रहे हैं

जबलपुर
। पवित्र श्रावण मास और त्यौहारों के ठीक पहले जबलपुर में नगर निगम द्वारा जर्जर हो चुके मकानों में लाल निशान लगाए जा रहे हैं। लाल निशान से तात्पर्य होता है यह मकान खतरनाक है और कभी भी गिर सकता है। नगर निगम ऐसे भवनों को जमींदोज कर देता है ताकि किसी प्रकार की जनहानि को रोका जा सके। 

परंपरा अनुसार यह कार्रवाई वर्षा ऋतु से पहले की जाती है ताकि लोगों को विस्थापित किया जा सके और बारिश की स्थिति में कमजोर हो चुके मकानों के ढह जाने की घटनाएं ना हो। कोरोनावायरस के कारण सारा सिस्टम गड़बड़ा गया और वर्षा ऋतु शुरू हो जाने के बाद सावन के महीने के ठीक पहले नगर निगम द्वारा कार्रवाई की जा रही है। 

रविववार को अवकाश के दिन भी नगर निगम के अतिक्रमण शाखा का अमला जर्जर मकानों को चिंहित कर उन पर लाल निशान लगाने में जुटा रहा। दिन भर की मशक्कत के बाद करीब एक दर्जन जर्जर मकानों में चेतावनी सूचना दर्ज कराई गई। अब जल्द ही इन मकानों को गिराने की कार्रवाई की जाएगी।

जर्जर मकानों में चिन्हांकन में ये भी सामने आया कि शहर में पुरानी बसाहट सराफा, फूटाताल, साठिया कुंआ, गंजीपुरा, ओमती, बेलबाग क्षेत्र में सर्वाधिक मकान जर्जर हो चुके हैं। मकान मालिक और किरायेदार उन्हें बाहर से तो मरम्मत करवा कर उसमें अब भी रह रहे हैं। लेकिन अंदरूनी स्तर पर मकान, दुकान कमजोर हो चुकी हैं। इसी तरह शीतलामाई, गढ़ा में भी जर्जर मकान खतरा बने हुए हैं। नगर निगम के अधिकारियों ने चिंहाकन के दौरान किराएदारों को भी समझाइश दी कि वे मकार खाली कर दें। नहीं तो निगम बलपूर्वक खतरनाक मकानों को तोड़ देगा। 

जबलपुर में 36 मकान तोड़े जा चुके हैं कुल 60 तोड़ने हैं

जर्जर, खतरनाक मकानों को चिंहित कर उसमें चेतावनी दर्ज करा रहे नगर निगम के सहायक आयुक्त व अतिक्रमण प्रभारी वेदप्रकाश चौधरी ने बताया कि रविवार को करीब एक दर्जन से ज्यादा जर्जर मकान चिंहित कर उसमें चेतावनी सूचना दर्ज कराई गई है। जबकि जर्जर मकानों में रह रहे लोगों को सख्त नोटिस व चेतावनी देकर मकान खाली करने कहा गया है। अभी तक करीब तीन दर्जन अति जर्जर मकानों को गिराया जा चुका है। शेष चिंहित किए जा रहे मकान भी गिरा दिए जाएंगे। विदित हो कि निगम प्रशासन ने करीब 60 जर्जर मकानों की सूची तैयार की हैं।

19 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मध्यप्रदेश में मानसून के इंतजार में 31 जिले झुलस रहे हैं, किसान बर्बादी के कगार पर
MP EMPLOYEE NEWS- मंत्रालय में हड़ताल का ऐलान, डीए के लिए डटकर लड़ेंगे कर्मचारी
मध्य प्रदेश मानसून- 11 जिलों में भारी वर्षा की चेतावनी, येलो अलर्ट
MP TRIBAL स्कूलों में अतिथि शिक्षकों की भर्ती के आदेश जारी
BHOPAL NEWS- भिंड में पकड़ी गई लेडी डॉन, भोपाल में दहशत
MP NEWS- मामू का जाना तय, दिग्विजय सिंह ने कहा, नरोत्तम मिश्रा ने जवाब दिया
मध्य प्रदेश मानसून- ज्योतिष के अनुसार जुलाई में 5, अगस्त में 4​ दिन वर्षा का योग
MP BY-ELECTION- 5 जिलों में 3 साल पुराने अधिकारियों को हटाने के आदेश
GWALIOR NEWS- ऑनलाइन क्लास में कपड़े उतारने वाला शिवपुरी का छात्र गिरफ्तार
कमलनाथ का मैनेजमेंट फिर फेल, दिल्ली से कैप्टन की लड़ाई हारकर लौटे - MP NEWS
MP NEWS- पटवारियों की संविलियन नीति 2021 के बारे में स्पष्टीकरण

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiपुष्पक विमान किस ईंधन से चलता था, पेट्रोल और बैटरी तो उस समय होते नहीं थे
GK in Hindiआवारा गाय सड़क के बीच क्यों बैठतीं हैं, क्या सुसाइड करना चाहतीं हैं 
गुरु पूर्णिमा कब मनाई जाएगी, 23 को या 24 जुलाई को - GURU PURNIMA 2021 ACTUAL DATE
GK in Hindiपहले भारतीय आईसीएस अफसर का नाम और सफलता की कहानी 
GK in Hindi- मादा कोयल की आवाज मधुर नहीं होती, वह तो अपराधी होती है
GK in Hindi- हिटलर की मूछें टूथब्रश जैसी क्यों थी, योद्धाओं जैसी क्यों नहीं, पढ़िए
GK in Hindiभारत के किस रेलवे स्टेशन का नाम, सबसे बड़ा है, इसमें अंग्रेजी के कुल कितने अक्षर आते हैं 
GK in Hindiसड़क किनारे वृक्षों पर सफेद पेंट क्यों किया जाता है, वैज्ञानिक कारण 
GK in Hindiबर्फ का टुकड़ा पानी में तैरता है तो फिर शराब में क्यों डूब जाता है 
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here