JIOMART की फ्रेंचाइजी के नाम पर JABALPUR की महिला व्यापारी को 15 लाख की चपत

जबलपुर।
मध्य प्रदेश के जबलपुर शहर की एक महिला व्यवसायी सोशल मीडिया पर जियो मार्ट की फ्रेंचाइजी का विज्ञापन देखकर जालसाजों के झांसे में फंस गई। जालसाजों ने 6 नवंबर से 24 दिसंबर के बीच में महिला से 15 लाख रुपए से अधिक रुपए ऐंठ लिए। इसके बाद मोबाइल नंबर बंद कर लिए। महिला पति के साथ बताए गए उनके मुंबई ऑफिस पहुंची तो वहां कुछ नहीं मिला।   

सायबर फ्राॅड बेरोजगारों और नया बिजनेस शुरू करने वालों को अपने जाल में फंसा रहे हैं। शहर की शुक्ला नगर इंदिरा गांधी वार्ड निवासी चेतना का खुद का व्यवसाय है। नवंबर 2020 में वह सोशल मीडिया पर कुछ नए बिजनेस के बारे में सर्च कर रही थी। 6 नवंबर को उन्होंने जियो मार्ट की फ्रेंचाइजी का विज्ञापन देखा। इस कंपनी का हेड ऑफिस मुंबई अंधेरी कुर्ला रोड मित्तल इंडस्ट्री इस्टेट अंधेरी ईस्ट मुम्बई महाराष्ट्र बताया गया था। विज्ञापन के साथ एक मोबाइल नंबर भी था।

महिला ने नौ नवंबर 2020 को मोबाइल नंबर पर बात की। उधर से दीपेंद्र सक्सेना नाम बता कर बात की गई। दीपेंद्र ने फ्रेंचाइजी के बारे में सारी जानकारी दी और आवेदन मांगा। उसी दिन ही उसने खुशखबरी सुनाई कि उसका आवेदन कंपनी ने मंजूर कर लिया है। इसके बाद उसने महिला को इस तरह झांसे में फंसाया कि उसे ठगे जाने का जब तक अहसास हुआ, उसके हाथ से 15 लाख से अधिक की रकम निकल चुकी थी।

10 नवंबर 2020 को फ्रेंचाइजी फीस के नाम पर 32 हजार 500 रुपए केनरा बैंक के खाते में जमा कराया। 10 नवंबर को आरोपी ने प्रोसेस फीस के तौर पर 32 हजार 500 रुपए जमा कराए। 11 व 12 नवंबर 2020 को एग्रीमेंट चार्ज के तौर पर दो बार में कुल 98 हजार 900 जमा कराए। 20 नवंबर को एनओसी चार्ज के नाम पर 1 लाख 98 हजार 900 रुपए आरटीजीएस के माध्यम से जमा कराए। 23 नवंबर 2020 को सुरक्षा राशि के नाम पर 2 लाख 50 हजार 300 रुपए जमा कराए। 27 नवंबर 2020 को नए साफ्टवेयर प्रोसेस के नाम पर 1 लाख 50 हजार 900 रुपए जमा कराए। 1 दिसंबर 2020 को प्रोसेस चार्ज के रूप में 2 लाख 20 हजार 500 रुपए जमा कराए। इस राशि को भविष्य में रिफंड करना बताया था। 9 दिसंबर 2020 को अकाउंट ओपनिंग प्रोसेस के तौर पर 1 लाख 95 हजार, 23 दिसंबर को 1 लाख रुपए और 24 दिसंबर को 95 हजार रुपए जमा कराए।

जालसाज लगातार अलग-अलग चार्ज बता कर पैसे जमा कराता गया। उसने महिला को आश्वस्त किया था कि एक टीम साइट विजिट करेगी। पर कोई टीम नहीं आई। जालसाज ने वर्किंग ऑर्डर चार्ज के तौर पर 1 लाख 45 हजार रुपए जमा करने के लिए कहा, तो महिला ने विजिट के बाद देने की पेशकश की। आरोपी कुछ दिनों तक महिला के संपर्क में रहा। फिर अचानक 25 जनवरी को उसके तीनों मोबाइल नंबर बंद हो गए।

मुंबई का ऑफिस नहीं मिला 

15 लाख रुपए से अधिक गंवा चुकी पीड़ित महिला पति के साथ ही फरवरी में मुंबई गई। वहां बताए गए पते पर पहुंची तो वहां कोई आफिस नहीं मिला। इसके बाद उसने गढ़ा थाने, पुलिस सायबर सेल और एसपी से शिकायत की। वहां से राहत नहीं मिली तो 25 जून को स्टेट सायबर सेल में मामले की शिकायत की। स्टेट सायबर सेल ने मामले को जांच में लिया है।

सायबर ठगी होने पर यह करें

स्टेट सायबर सेल के निरीक्षक विपिन ताम्रकार के मुताबिक सायबर फ्रॉड का शिकार होने पर तुंरत संबंधी थाने या दो लाख से अधिक का फ्रॉड हो तो स्टेट सायबर सेल में शिकायत करें। इसका फायदा ये है कि जालसाज के रकम निकालने से पहले उसे बैंक या संबंधी पेमेंट गेटवे एप के माध्यम से होल्ड कराया जा सकता है। इसके लिए बैंक डिटेल और पूरी जानकारी देना हो

27 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मध्य प्रदेश मानसून- 9 जिलों में मूसलाधार, 4 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी
MP NEWS- जो गरीब बच्चे स्कूल फीस नहीं भर सकते उन्हें व्हाट्सएप पर पढ़ाने के आदेश जारी
MP NEWS- मध्य प्रदेश के 90000 स्कूलों की स्वायत्तता समाप्त करने के आदेश
KHULA KHAT- MP-DPI वेरीफाइड शिक्षकों के 10 जुलाई से पहले नियुक्ति पत्र जारी करें
MP BJP NEWS- प्रभारी मंत्री और निगम मंडल की नियुक्तियां निश्चित, भाजपा में चेहरे बदलेंगे
JABALPUR BJP NEWS- मैं शर्मिंदा हूं, मेनका गांधी मेरी पार्टी की सांसद हैं: अजय विश्नोई
RERA MP सरकारी नौकरी- आवेदन की लास्ट डेट 12 जुलाई
INDORE NEWS- डाॅक्टर के बेटे की मौत पर टीचर ने कहा: मजा आ गया
SSC NEW EXAM CALENDAR जारी करने की तैयारी

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

HEALTH TIPS IN HINDI- मात्र ₹20 में पेट का पॉइजन खत्म, 20 से ज्यादा बीमारियां नहीं होंगी 
HEALTH TIPS IN HINDI- घबराहट और बेचैनी क्यों होता है, कैसे कंट्रोल किया जा सकता है
RASHIFAL- 12 में से 6 राशि वालों के लिए गुड न्यूज़
GK IN HINDI- BIKE का इंजन CC में क्यों होता है, हॉर्स पावर में क्यों नहीं होता
GK IN HINDI- ATM से थर्मल पेपर की पर्ची क्यों निकलती है, सादा कागज क्यों नहीं है
National Scholarships APP यहां से DOWNLOAD करें, भारत सरकार द्वारा सभी प्रकार की छात्रवृत्ति के लिए संचालित
e-LOTS APP यहां से DOWNLOAD करें - कक्षा 1 से लेकर कक्षा 12 तक की किताबें बिल्कुल फ्री
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here