Loading...    
   


पौधों के लिए सबसे अच्छी रोशनी कौन सी है- लाल/हरी या पीली - सरल हिंदी में SCIENCE की बातें पढ़िए

which light is best for plants - Red/Green or Yellow 

पेड़ पौधों के मामले में सूर्य का प्रकाश प्राकृतिक रूप से संश्लेषण (photosynthesis) के लिए आवश्यक है परंतु यदि हम कृत्रिम रूप से प्रकाश संश्लेषण की बात करें तो इसके लिए हमें थोड़ा सा भौतिकी (physics) में प्रकाश के परावर्तन (Reflection of light) को समझना होगा। 

कृत्रिम प्रकाश संश्लेषण के लिए किस रंग की लाइट फायदेमंद है

लाल रंग के प्रकाश में प्रकाश संश्लेषण की क्रिया सबसे ज्यादा होती है परंतु ऐसा क्यों होता है इसे जानने के लिए हमें प्रकाश के परावर्तन को समझना होगा। चूँकि श्वेत प्रकाश इंद्रधनुष ( Rainbow) के सात रंगों " VIBGYOR" "बेंजानीहपिनाला" से बना हुआ है जो कि हम सभी ने बचपन में कभी ना कभी पढ़ा है। तो इसे समझने के लिए आज उसी पुराने वाले दिमाग की बत्ती को फिर से जलाना पड़ेगा।

"VIBGYOR" या "बेंजानीहपिनाला" का अर्थ है
V- VIOLET (बैंगनी)  बैं
I- INDIGO ( जामुनी) जा
B- BLUE ( नीला) नी
G- GREEN ( हरा) ह
Y-YELLOW ( पीला) पी
O- ORANGE( नारंगी)  ना
R - RED ( लाल)  ला
हरे पौधे, हरे रंग के प्रकाश को पूरी तरह परावर्तित करते हैं इसी कारण हमें हरे दिखाई देते हैं।

कृत्रिम प्रकाश संश्लेषण के लिए लाल रंग के प्रकाश का उपयोग क्यों किया जाता है

चूंकि लाल रंग के प्रकाश की तरंग धैर्य (wavelength) सर्वाधिक लंबी 625 से 740  nm होती है। इसी कारण इसका उपयोग कृत्रिम रूप से प्रकाश संश्लेषण के लिए किया जाता है। लाल रंग की तरंग धैर्य सबसे लंबी होने के कारण लाल रंग का उपयोग खतरे के सिग्नल बनाने में भी किया जाता है। जिससे कि यह दूर से ही दिखाई दे जाएं।  Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article (best light for plants in winter, best light for plants in aquarium, best light for plants indoor, best light for growing plants indoors, best color light for plants, best low light for plants, best low light plants for bedroom, good artificial light for plants, best led aquarium lighting for plants, )

विज्ञान से संबंधित सबसे ज्यादा पढ़ी गईं जानकारियां



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here