Loading...    
   


KAMAL NATH ने कहा हमें कोई आपत्ति नहीं, भर्ती प्रक्रिया जारी रखें - MP NEWS

भोपाल।
कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री कमलनाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश में शिक्षक भर्ती से हमें कोई आपत्ति नहीं है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में शिक्षक भर्ती प्रक्रिया को बीच में रोक देने के कारण बड़ी संख्या में उच्च माध्यमिक तथा माध्यमिक चयनित शिक्षक परेशान होकर दर-दर भटक रहे हैं। बेरोजगारी के कारण वे इस महामारी में आर्थिक व मानसिक परेशानी के दौर से गुजर रहे हैं। मैं सरकार से मांग करता हूँ कि शिक्षक भर्ती - 2018 वर्ग 01, वर्ग 02 की प्रक्रिया को तत्काल पूर्ण करवा कर ,चयनित शिक्षकों अभ्यर्थियों को नियुक्ति प्रदान करें , उनकी रोजगार की मांग को पूरा करें। 

मध्यप्रदेश में कौन-कौन सी भर्ती रोक दी गई

शिक्षा विभाग में होने वाली 15 हजार पदों पर भर्तियों को रोक दिया गया है। 
मध्य प्रदेश पुलिस के लिए में पुलिस आरक्षक के 3272 पदों पर होने वाली भर्तियों को भी रोक दिया गया है। 
कृषि विभाग 863, राजस्व विभाग में 372, कौशल विकास विभाग में 302, एमपीयूडीसी में 52, एनएचएम में 3800 पद, आयुष लैक्चरर के 95, स्वास्थ्य विभाग के 2150, जेल प्रहरी के 282 पदों पर होने वाली भर्तियों को रोक दिया गया है।

शिक्षक भर्ती क्यों रोकी, इससे कौन सा चुनाव प्रभावित होना था 

उच्च माध्यमिक एवं माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन हो चुका है। परिणाम आ चुके हैं। मेरिट लिस्ट बन चुकी है। अब केवल डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन और नियुक्तियां शेष है। सवाल यह है कि डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन से कौन सा चुनाव प्रभावित होने वाला है। आचार संहिता की कौन सी धारा में लिखा है कि डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन रोक दिया जाए लेकिन आचार संहिता के बहाने नियुक्तियां रोक दी गई है। 

सहकारिता विभाग में जूनियर सेल्समैन का डॉक्यूमेंट verification नहीं कर रहे

सहकारिता विभाग में, जूनियर सेल्समैन 3629 पदों की भर्ती भी दो साल से (सिलेक्शन लिस्ट/रिजल्ट आने के बाद भी) अटकी हुई है। यह भर्ती सितम्बर 2018 में प्रारंभ हुई थी जिसकी मेरिट लिस्ट 20/03/2020 को जारी किया गया  जिसके उपरांत  चयनित अभ्यर्थियों का केवल डॉक्यूमेंट verification होना और कॉल लेटर जारी करना है लेकिन रिजल्ट आए हुए को 6 महीने गुज़र जाने के बाद भी कोरोनावायरस की आड़ लेकर अभी तक डॉक्यूमेंट verification  नहीं किया गया। प्रत्येक जिले से लगभग 40-50(इंदौर ,भोपाल ,जबलपुर जैसे जिलों में भी) चयनित अभ्यर्थी ही होंगे जिनका सत्यापन होना है। जबकि नेताओं के कई विधायकों के बैंगलोर प्रस्थान के साथ -साथ,शपथ ग्रहण समारोह,d.el.ed के पेपर, समारोह भी बे -रोक -टोक संपन्न हुए और लगातार हो भी रहे हैं।

01 अक्टूबर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here