Loading...    
   


सीएम शिवराज सिंह को उपचुनाव हारने का डर, असंतोष और गुटबाजी हावी / MP NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के अंदर ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके समर्थकों के कारण उपजे असंतोष और गुटबाजी के चलते सीएम शिवराज सिंह चौहान उपचुनाव के मामले में कॉन्फिडेंट नजर नहीं आ रहे हैं। पिछले दिनों चुनाव आयोग ने कहा था कि कुछ राज्य कोरोना के नाम पर चुनाव टालना चाहते थे, आज सांसद-विधायकों की बैठक में शिवराज सिंह चौहान की घबराहट साफ नजर आई।

यह जलवा और रुतबा तभी तक है, जब तक सरकार है: शिवराज सिंह चौहान

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग, वर्चुअल रैली और तमाम ऑनलाइन अभियानों के बाद रविवार को भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यालय में सांसद-विधायकों की मीटिंग का आयोजन किया गया। बैठक को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्पष्ट कहा कि हर हाल में रिजल्ट 100% ही चाहिए है। सभी लोग सबकुछ छोड़कर उप चुनाव के मैदान में उतर जाएं। सभी 27 की 27 सीटें जीतना है। उन्होंने कहा कि यह जलवा और रुतबा तभी तक है, जब तक सरकार है। 

मध्यप्रदेश में कई विधायक, सांसद और पूर्व मंत्री रूठ कर घर बैठ गए हैं 

एक तरफ कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ भारतीय जनता पार्टी के संगठन की मजबूती से घबराए हुए हैं (पिछले दिनों उन्होंने बयान दिया था कि यदि एकजुट होकर चुनाव नहीं लड़ा तो हमारी हालत भी वही हो जाएगी उत्तर प्रदेश में मायावती और अखिलेश यादव की हो गई है)। वहीं दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी की दीवारों में दरारें साफ नजर आ रही है। कई सांसद, विधायक और पूर्व मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं उनके समर्थकों को विशेष महत्व पर जाने के कारण रूठ कर घर बैठ गए हैं। भाजपा की तरफ से रूठे नेताओं को मनाने का मिशन लगातार चल रहा है। केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा 1-1 नाराज कार्यकर्ता से मुलाकात कर रहे हैं और आज मुख्यमंत्री के बयान के बाद समझा जा रहा है कि हालात नियंत्रण में नहीं आए हैं। 

भाजपा के लोग इस तरह से सत्ता परिवर्तन नहीं चाहते थे 

2018 का चुनाव हारना लगभग सभी भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के लिए किसी आघात से कम नहीं था परंतु सत्ता परिवर्तन के बाद भाजपा के लोगों की राय बदली हुई नजर आई है। भाजपा के लोग इस कीमत पर सत्ता परिवर्तन नहीं चाहते थे। उपचुनाव वाले इलाकों में लोग ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक नेताओं को अपने बराबर या फिर अपने ऊपर स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं। विचारधारा से जुड़े लोग तो जैसे पूरी तरह से निराश हो चुके हैं।

06 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

वेटिकन सिटी में बच्चे पैदा क्यों नहीं होते?
BF ने GF से कैंसर पीड़ित पिता के लिए खून बदले आबरू ले ली
यदि ब्रांच मैनेजर BANK ACCOUNT CLOSE करने से मना कर दे तो क्या करें
MADHYA PRADESH में नई शिक्षा नीति के तहत नया शिक्षा सत्र कब से शुरू होगा, क्या खास होगा
पत्नी को परीक्षा दिलाने स्कूटी से ग्वालियर आये थे फ्लाइट से जाएंगे झारखंड वाले धनंजय कुमार
SHALBY HOSPITAL ने आधी रात में भर्ती अधिकारी को बाहर निकाला, मौत
मध्य प्रदेश मौसम: 18 जिलों में बारिश होगी, 12 में धूप खेलेगी, 7 जिलों में बूंदाबांदी
BHOPAL में SBI के ATM में घुसे चोर, हैदराबाद में बजा अलार्म
BHOPAL NEWS: महिला ग्राहक को पुरुष ट्रायल रूम में भेज दिया फिर ताक-झांक करने लगा
BHOPAL-INDORE चार्टर्ड बस सेवा शुरू, कितने यात्री जाएंगे, किराया कितना होगा पढ़िए
यदि रेल की पटरी में करंट का तार लगा दें तो क्या होगा
कूलर की मोटर जाम क्यों हो जाती है, जबकि पंखे की सालों-साल चलती है
मंत्री नरेंद्र तोमर को महिलाओं ने घेरा, बोलीं: चलो हमारे साथ, दलदल बन गई सड़क पर चलकर दिखाओ
मध्यप्रदेश में शिक्षकों के 10 लाख से ज्यादा पद खाली, फिर भी नियुक्तियां बंद: सांसद दिग्विजय सिंह
MADHYA PRADESH के स्कूलों में 5+3+3+4 पाठ्यक्रम को लागू किया जायेगा
ग्वालियर नगर निगम में नामांतरण विज्ञापन के नाम पर 30 लाख का गबन
इंदौर में BF संग लिव इन में रह रही लड़की ने सुसाइड किया, प्रेमी के खिलाफ केस दर्ज
JABALPUR- INDORE से 4 प्रमुख ट्रेनों शुरू करने की मंजूरी मिली
JABALPUR से 6 सितंबर से चलने वाली ट्रेनों का टाइम-टेबल जारी


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here