Loading...    
   


इंदौर लॉकडाउन नहीं होगा चाहे हर रोज 400 पॉजिटिव मिलें / INDORE LOCK DOWN UPDATE NEWS

इंदौर। ईद और रक्षाबंधन जैसे त्यौहार पर सरकार ने भोपाल शहर को 10 दिन के लिए टोटल लॉक डाउन कर दिया। इसका तीखा विरोध देखा जा रहा है। बात सिर्फ त्योहारों पर शहर में कर्फ्यू लगाने की नहीं है बल्कि लोग इसलिए भी नाराज है क्योंकि जैसे-तैसे अर्थव्यवस्था पटरी पर आ रही थी और फिर से लॉक डाउन हो गया। 

गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि मुरैना और ग्वालियर में लॉक डाउन करने से पॉजिटिविटी रेट कम हुआ है। प्रयोग सफल रहा इसलिए भोपाल में 10 दिन का लॉकडाउन किया जा रहा है। सवाल यह है कि यदि भोपाल लॉकडाउन किया जा रहा है तो फिर इंदौर क्यों नहीं जबकि इंदौर में पॉजिटिविटी रेट, मरने वालों की संख्या और एक्टिव केस तीनों भोपाल की तुलना में ज्यादा है। इस सवाल का जवाब कलेक्टर इंदौर में गुरुवार को अपर मुख्य सचिव (एसीएस) स्वास्थ्य मो. सुलेमान की अध्यक्षता में आयोजित समीक्षा बैठक में दिया।

बैठक में अफसरों ने स्पष्ट कहा कि शहर में सात दिन से 100 से 125 मरीज रोज आ रहे हैं, अगर ये 400 प्रतिदिन हो जाएं तो भी लॉकडाउन की स्थिति नहीं बनेगी।  क्योंकि अस्पतालों में 6700 बेड उपलब्ध हैं। कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि एक मरीज 14 दिन में ठीक हो जाता है। ऐसे में 15 दिन में अधिकतम 6000 मरीज आएंगे। हमारे पास 3000 ऑक्सीजन बेड हैं।  होटल्स में भी सशुल्क कोविड केयर सेंटर बना रहे हैं। हालांकि फिर भी सतर्कता जरूरी है, क्योंकि जुलाई के 22 दिनों में ही एक्टिव मरीज दो गुना 1705 हो गए हैं।

24 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

ताश के पत्तों में चौथे राजा की मूछें क्यों नहीं होती
OMG! कोरोना पॉजिटिव मरीज की स्वस्थ होते ही मौत
केंद्रीय विद्यालयों में एडमिशन की सूचना
ग्वालियर में बिजली बिल के लिए NGB प्रणाली शुरु
मध्य प्रदेश के 25 जिलों में आंधी और बारिश की संभावना
भारतीय सिक्कों का कूटकरण क्या होता है, कितना गंभीर अपराध है
अतिथि शिक्षकों को पहली कैबिनेट बैठक में ही नियमित कर देंगे: कमलनाथ
OMG! एक पक्षी जो बिना पंख फड़फड़ाए 5 घंटे, 170 किलोमीटर उड़ता है
मध्य प्रदेश कोरोना: 12 जिलों में स्थिति गंभीर, 50 जिले संक्रमित
मिस्र देश की रानियां कभी बूढ़ी क्यों नहीं होती थी, क्या उनके पास कोई फार्मूला था
मध्यप्रदेश: सेल्फी के प्यार में पागल लड़कियां बाढ़़ में फंस गईं वीडियो देखें


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here