Loading...    
   


रक्षा बंधन 2020: यदि भाई की कलाई तक राखी ना पहुंचे तो क्या करें / SHIV KA SAWAN


सन 2020 का रक्षाबंधन भारतवर्ष का शायद पहला रक्षाबंधन होगा जब ज्यादातर भाइयों की कलाई पर बहन की राखी नहीं होगी। यात्री परिवहन सेवाएं तो काफी हद तक बंद है ही, डाक सेवाएं भी बहुत सीमित स्तर पर संचालित हो रही हैं। युद्ध काल में भी ऐसा अवसर कभी नहीं आया, लेकिन मायूस होने की जरूरत नहीं है। रक्षाबंधन के अवसर पर यदि भाई की कलाई तक बहन की राखी ना पहुंचे तो ऐसी स्थिति में क्या करना चाहिए, शास्त्र ऐसी स्थिति में भी मार्गदर्शन करते हैं।

रक्षाबंधन 2020 का शुभ मुहूर्त, राखी कितने बजे बांधे

3 अगस्त 2020 को रक्षाबंधन को श्रवण नक्षत्र का प्रारंभ शुभ 7.20 से हो रहा है, जो अगले दिन 4 अगस्त को सुबह 8.12 समाप्त होगा। श्रावण पूर्णिमा पर सोमवार और श्रवण नक्षत्र की युक्ति इससे पूर्व 7 अगस्त 2017 को बनी थी। श्रावण मास की पूर्णिमा पर सोमवार को श्रवण नक्षत्र का संयोग आगामी भविष्य में 2024 में बनेगा। इस बार रक्षाबंधन पर भद्रा सुबह 9.29 पर समाप्त हो रही है। इसक बाद शुभ मुहूर्त सुबह 9.30 से 10.30 तक दोपहर 1.30 से सायं 4.30 तक रहेगा। प्रदोष गोधूलि बेला पर शाम 4.30 से 6 बजे के बीच में सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त निर्मित हो रहा है। 

रक्षाबंधन की पूजा विधि

डॉ. विष्णुकुमार शर्मा द्वारा निर्मित श्री सिद्धविजय पंचांग अनुसार इस बार स्थिर लग्न के मुहूर्त में सुबह 11.23 से दोपहर 1.37 बजे तक (तुला लग्न,चर लग्न), दोपहर 1.37 से 3.53 तक (वृश्चिक लग्न,स्थिर लग्न) तक के लग्न में श्रावणी उपाकर्म सहित सभी सप्त ऋषियों का पूजन, देव ऋषि पितृ तर्पण सहित देवताओं का पूजन रक्षाबंधन पर्व मनाना समृद्धि वैभव संपदा आरोग्यता प्रदान करने वाला रहेगा। 

प्रत्यक्ष संभव नहीं तो मानसिक रक्षाबंधन मनाएं 

वैसे भी ज्यादातर लोग इसकी आधी प्रक्रिया करने वाले हैं। रक्षाबंधन के अवसर पर ज्यादातर भाई बहन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करेंगे। हिंदू धर्म शास्त्रों में मानसिक पूजा ऐसी विषम परिस्थितियों के लिए शास्त्र सम्मत मानी गई है। बहन और भाई दोनों अपने अपने घरों में पूजा स्थल के समक्ष आसन लगाकर बैठ जाएं। बहन भगवान श्री कृष्ण के बालस्वरूप का रक्षाबंधन करें और उनके समक्ष एक अतिरिक्त रेशम के धागे की राखी समर्पित कर दे। भाई अपने घर में भगवान श्री कृष्ण के बाल स्वरूप के समक्ष रखे हुए रेशम के धागे को घर में उपलब्ध किसी भी कन्या से अपनी कलाई पर बंधवा ले। इस प्रकार मानसिक रक्षाबंधन मनाया जा सकता है। शास्त्रों के अनुसार जिस का संकल्प और फल प्रत्यक्ष त्यौहार के समान होता है।

31 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

BIKE में CC का फुल फॉर्म क्या होता है, 100cc-150cc का क्या मतलब होता है 
ग्वालियर का हाई कोर्ट सील, गली-गली में कोरोना का कहर 
बहन के बॉयफ्रेंड को फंसाने फिल्मी स्टाइल में साजिश रची 
लैपटॉप की चार्जर में यह काले चूहे जैसा उपकरण क्या होता है 
ग्वालियर कलेक्टर से मुख्यमंत्री खुश लेकिन मुख्य सचिव असंतुष्ट
ग्वालियर में 20 रुपये की बंदूक अड़ाकर ढाई लाख की लूट
मध्य प्रदेश के 20 जिलों में ईद और रक्षाबंधन के अवसर पर बारिश होगी
मध्य प्रदेश 13938 लोगों में से 834 पॉजिटिव, पूरे प्रदेश में पॉलिटिकल लॉकडाउन
TATA SKY ने 6 सेवाओं का शुल्क 50% घटाया
मध्यप्रदेश में संडे को लॉकडाउन होगा या नहीं, गृह मंत्री ने बताया
मध्य प्रदेश में स्कूल कब तक बंद रहेंगे, शिक्षा विभाग ने आदेश में बताया
नई शिक्षा नीति: मध्यप्रदेश में कक्षा 6 से व्यवसायिक शिक्षा
पिता जूते बनाते हैं, बेटी ने रिकॉर्ड बना दिया: INSPIRATIONAL STORY
नकली स्टांप पेपर के उपकरण रखना अपराध है या नहीं, ध्यान से पढ़िए
देवास में प्रशासनिक कार्रवाई का विरोध कर रही महिला ने खुद को आग लगाई
केजी और प्राइमरी के लिए भी ऑनलाइन क्लास लगाई जाएंगी


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here