Loading...    
   


सीएम सर, शिक्षक भर्ती के मुद्दे को गंभीरता से क्यों नहीं लेते / KHULA KHAT

माननीय मुख्यमंत्री महोदय, माना आज वैश्विक महामारी का दौर चल रहा है, न जाने कब खत्म होगा इससे हम सभी परिचित हैं किन्तु क्या हम भावी शिक्षक बेरोजगार हो के बैठे रहें। मप्र शिक्षक पात्रता परीक्षा हुए 2 साल का समय गुजर चुका है। सभी परीक्षार्थी इसी आशा में है कि शीघ्र नियुक्तियाँ मिल जाएगी। इसके पहले कमलनाथ सरकार ने प्रक्रिया प्रारंभ कर आश जगाई। किन्तु अब ठंडे बस्ते में सारी प्रक्रिया चली गई। जबकी अन्य राज्य उत्तर प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ आदि में शिक्षक भर्ती प्रक्रिया तीव्र गति से प्रारंभ कर दी गई है किन्तु मप्र में इस संवेदनशील मामले में कोई तीव्रता नहीं देखी जा रही है। 

सभी परीक्षार्थी बची हुई प्रक्रिया सोशल डिस्टेंशिंग में रहकर सत्यापन एवं नियुक्तियों के लिए प्रतिबद्ध हैं। शिक्षक पात्रता परीक्षा सन 2011 में हुई थी। इसके बाद हर वर्ष में परीक्षा होनी थी किन्तु 9 वर्ष बीत गए किन्तु किसी को नियुक्ति नहीं मिली। कई परीक्षार्थी तो ओवर एज हो गए। लाखों ने बी.एड. डी.एड. कर शिक्षक बनने के सपने सँजोए थे किन्तु लेटलतीफी ने सारे सपने चकनाचूर कर दिए। आए दिन खबरों में पढ़ते रहते है कि कई शालाएं शिक्षक विहीन है तो फिर सरकार इतने संवेदनशील मामले को गंभीरता से क्यों नहीं लेती? 

सरकारे आती हैं सरकारे जाती हैं किन्तु बेरोजगार पिसता रहता है। क्या सरकार इतना निश्चित नहीं कर सकती कि भर्ती प्रक्रिया की एक निश्चय अवधि हो। भर्ती निकलती है कई वर्षो तक पूर्ण नहीं हो पाती बस पिसता है तो सिर्फ बेरोजगार। माननीय मुख्यमंत्री महोदय, स्कूल आज नहीं तो कल खुलेंगे। आप इस संवेदनशील मुद्दे को संज्ञान में लाकर शीघ्र शिक्षक भर्ती में शेष बची प्रक्रिया को पूर्ण कर जून तक नियुक्तियाँ प्रदान कीजिए। 
सादर धन्यवाद। 
॥ म.प्र.शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण संघ॥

19 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

लॉक डाउन 4.0 भोपाल में क्या कर सकते है क्या नहीं पढ़िए
कंप्यूटर को टीवी की तरह डायरेक्ट स्विच ऑफ क्यों नहीं कर सकते
गर्भपात के दौरान यदि महिला की मृत्यु हो गई तो जेल कौन जाएगा डॉक्टर या पति
कमलनाथ को पहला चुनावी झटका, कांग्रेस नेताओं की एक टीम भाजपा में शामिल
तुम डेढ़ साल तक रोते रहे, हमने डेढ महीने में कर दिखाया: शिवराज सिंह का कमलनाथ को जवाब
भारत में परमाणु बम का कोड और हमले का अधिकार किसके पास होता है
ग्वालियर के प्राइवेट डॉक्टरों पर पाबंदी, सर्दी-जुकाम का इलाज नहीं करेंगे
कांग्रेस की गोपनीय लिस्ट ज्योतिरादित्य सिंधिया के पास पहुंच गई
इंदौर लॉक डाउन 4.0 में: किसको कितनी छूट मिली, पढ़िए
सीबीएसई 10वीं-12वीं परीक्षा का टाइम टेबल
इस साल स्कूल नहीं खुलेंगे तो बच्चों को कैसे पढ़ाएंगे, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया
विधायक कमलनाथ और सांसद नकुल नाथ लापता, छिंदवाड़ा में पोस्टर लगे
मध्य प्रदेश: RED ZONE में सरकारी एवं प्राइवेट कर्मचारियों के लिए गाइडलाइन
ग्वालियर से नवविवाहिता का अपहरण, करैरा में गैंगेरेप
सिंधिया के समर्थन में इस्तीफा देने वाले विधायकों के टिकट खतरे में
जब बिजली को स्टोर नहीं किया जा सकता तो फिर सरकार SAVE ELECTRICITY क्यों कहती है
OMG! सूरज कमजोर पड़ रहा है, यह कितना भयानक हो सकता है
PoK को लेकर तनाव शुरू, पाकिस्तान ने कदम उठा लिया, अब भारत की बारी है


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here