Loading...    
   


गुड न्यूज़: भारत में कोरोना का कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं, WHO ने गलती मानी | NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। एक अज्ञात दुश्मन के डर से लॉक डाउन में चली गई भारत की 125 करोड से ज्यादा आबादी के लिए गुड न्यूज़ है। भारत में करुणा वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं हो रहा है। यानी भारत में कोरोनावायरस का संक्रमण नहीं फैल रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपनी 'सिचुएशन रिपोर्ट' में गलत जानकारी दे दी थी। इसके लिए WHO ने माफी मांगी है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपनी सिचुएशन रिपोर्ट को एडिट करने के बाद लिखा है कि भारत में 'क्लस्टर ऑफ केसेज़' (ढेरों मामले) है, लेकिन 'कम्युनिटी ट्रांसमिशन' नहीं हो रहा है। सिचुएशन रिपोर्ट में एडिटिंग के बाद अब भारत में लॉक डाउन की कड़ी शर्तों में राहत देने का रास्ता खुल गया है। इसके अलावा जिन शहरों में कोरोनावायरस का संक्रमण नहीं पाया गया उन शहरों में जनजीवन सामान्य करने की स्थिति बनाई जा सकती है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने दुनियाभर में 16 लाख से ज़्यादा लोगों को चपेट में ले चुके और 95,000 से ज़्यादा जानें लील चुके रोग COVID-19 के केसों के सिलसिले में जारी की गई रिपोर्ट में चीन के कॉलम में 'क्लस्टर ऑफ केसेज़' लिखा गया था, जबकि भारत के कॉलम में बीमारी के फैलाव के स्तर को 'कम्युनिटी ट्रांसमिशन' बताया गया था।

केंद्र सरकार ने सख्ती से इस बात से इंकार किया कि भारत में यह रोग तीसरे स्टेज, यानी कम्युनिटी ट्रांसमिशन के स्तर पर पहुंच चुका है। कम्युनिटी ट्रांसमिशन उस स्थिति को कहा जाता है, जब कोरोनावायरस के मामले बढ़ते चले जाएं और संक्रमण के स्रोत को तलाशना मुश्किल हो जाए। भारत में फिलहाल (शुक्रवार सुबह तक) 6,412 पुष्ट मामले हैं, जिनमें से मात्र 199 की मौत हुई है। जबकि बड़ी संख्या में लोग ठीक होकर हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हो रहे हैं।

WHO के अनुसार, बीमारी के फैलाव के स्तर - कोई पुष्ट मामले नहीं, छिटपुट मामले, क्लस्टर ऑफ केसेज़ तथा कम्युनिटी ट्रांसमिशन - की जानकारी सदस्य देशों द्वारा खुद दी जाती है। चीन में पहली बार 'अज्ञात कारण से हुए न्यूमोनिया' के पहले मामले को WHO द्वारा अधिसूचित किए जाने के बाद इस रोग ने कुछ ही समय में लगभग समूची दुनिया को चपेट में ले लिया था, और शुक्रवार को COVID-19 का पहला मामला अधिसूचित किए जाने के 100 दिन पूरे हो गए हैं।

10 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़ी जा रहीं खबरें

पत्नी को धर्मपत्नी क्यों कहते हैं, क्या कोई लॉजिक है या बस मान-सम्मान के लिए 
यदि एस्ट्रोनॉट अंतरिक्ष में अपने साथी पर गोली चलाए तो क्या होगा, पढ़िए 
कोर्ट में गीता पर हाथ रखकर कसम क्यों खिलाते थे, रामायण पर क्यों नहीं है
सांसदों की तरह मध्य प्रदेश में विधायकों की विधायक निधि बंद होगी: सीएम शिवराज सिंह
शिवराज के लिए सिरदर्द कम नहीं: COVID-19 के बाद CABINET-26
मध्यप्रदेश में ESMA लागू, पढ़िए आम जनता को इससे क्या फायदा होगा
लॉकडाउन के संदर्भ CM शिवराज की टेबल पर सुलेमान कमेटी की रिपोर्ट
भोपाल में टोटल लॉकडाउन की अवधि बढ़ी 
भाजपा नेता को धक्का देने वाले ADM सस्पेंड, संकट प्रबंधन समूह मीटिंग में हुआ था विवाद
समग्र पोर्टल में दर्ज सभी हितग्राहियों को निशुल्क राशन मिलेगा 
युवक की मौत के बाद आई रिपोर्ट, पॉजिटिव था
ग्वालियर बाजार अब 3 पार्ट में खोलने की तैयारी 
वेंटिलेटर क्या होता है, क्या इससे कोरोना वायरस मर जाता है
हाई कोर्ट में वकील ने जज को कोरोना संक्रमित होने का श्राप दे डाला
लॉकडाउन के बावजूद छिंदवाड़ा में मस्जिद में नमाज पढ़ते सरपंच सहित 40 गिरफ्तार
सीएम शिवराज सिंह ने IIFA-2020 की राशि कोरोना कंट्रोल के लिए मांगी
मध्य प्रदेश के 20 जिलों में संक्रमण, 40 नए पॉजिटिव, 37 स्वस्थ हुए 
लॉकडाउन में आने-जाने के लिए ई-पास यहां से प्राप्त करें 
मुस्लिम समाज में मृत्यु दर में चौंकाने वाली वृद्धि, भोपाल में 2 गुना 
भोपाल में मोबाइल स्विच ऑफ करके घूमते थे तबलीगी जमात के लोग 
कीबोर्ड के बटन ABCD (अल्फाबेटिकल) क्यों नहीं होते, क्या कोई रीजन है या गलती
शिवराज सिंह ने दिग्विजय सिंह और कमलनाथ से साथ मिलकर काम करने की अपील की


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here