Loading...    
   


अस्थाई शिक्षकों के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट का फैसला, नियमितीकरण पर मुहर | ATITHI SHIKSHAK NEWS

भोपाल। भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने हिमाचल प्रदेश के एक मामले में फैसला सुनाते हुए अस्थाई शिक्षकों के नियमितीकरण के रास्ते में आने वाली सभी बाधाओं को समाप्त कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने उन सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया है जो अस्थाई शिक्षकों को नियमित करने के खिलाफ दाखिल की गई थी। 

हिमाचल प्रदेश में नियुक्त किए गए अस्थाई शिक्षकों को (पैट, पैरा, पीटीए और ग्रामीण विद्या उपासक) पदनाम दिया गया था। मध्यप्रदेश में यह शिक्षाकर्मी, संविदा शिक्षक, अतिथि शिक्षक एवं गुरुजी के समकक्ष माने जा सकते हैं। हिमाचल प्रदेश की हाईकोर्ट ने सभी शिक्षकों को नियमित करने के आदेश जारी किए थे। हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी। 

शुक्रवार को सुबह 11:05 बजे सुप्रीम कोर्ट के कोर्ट नंबर दो ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से फैसला सुनाते हुए इन शिक्षकों की नियुक्तियों को चुनौती देने वाली सभी याचिकाएं खारिज कर दीं। सुप्रीम कोर्ट ने 9 दिसंबर, 2014 को अस्थायी शिक्षकों के हक में दिए हिमाचल हाईकोर्ट के फैसले को बरकरार रखा।

फैसला आने के बाद राज्य सरकार ने 10 साल का सेवाकाल पूरा कर चुके पैरा शिक्षकों को नियमित किया था। सात साल का कार्यकाल पूरा कर चुके पीटीए शिक्षकों को अनुबंध पर लाया था। 22 जनवरी, 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने मामले पर यथास्थिति बरकरार रखने के आदेश दिए थे। 

साल 2002 में शुरू हुई थी अस्थायी शिक्षकों की भर्तियां

हिमाचल में अस्थायी शिक्षकों की भर्तियां पिछले 17 वर्षों में हुई हैं। इनमें ग्रामीण विद्या उपासकों की नियुक्ति 2002 में हुई। इनकी संख्या करीब 1400 है। साल 2003 से लेकर 2007 तक 3409 प्राथमिक सहायक अध्यापकों की नियुक्तियां प्रारंभिक शिक्षा विभाग में हुई। 2004 में 2200 पैरा शिक्षकों की भर्तियां हुईं। 2006 से 7500 पीटीए शिक्षकों की भर्ती हुई है। 

मध्यप्रदेश में नियमितीकरण का इंतजार कर रहे हैं अतिथि शिक्षक एवं अतिथि विद्वान 

हरियाणा सरकार ने अतिथि शिक्षकों के समकक्ष कर्मचारियों को नियमित शिक्षकों के बराबर वेतन देना शुरू कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आज आने के बाद अब सभी शिक्षकों को नियमित किया जा सकेगा। मध्यप्रदेश में अतिथि शिक्षक लंबे समय से नियमितीकरण का इंतजार कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट का फैसला मध्यप्रदेश के अतिथि शिक्षकों के लिए फायदेमंद रहेगा।

19 अप्रैल को सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली खबरें

गृह निर्माण के समय ईटों पानी में क्यों भिगोया जाता है, आइए जानते हैं 
ग्वालियर में सरेआम महिला ने कपड़े उतारे, पुलिस और डॉक्टर के सामने हंगामा 
कमलनाथ की प्रिय बहन रामबाई को शिवराज सरकार में मंत्री पद चाहिए (वीडियो देखिए क्या कहा) 
आग की लौ ऊपर क्यों जाती है, गुरुत्वाकर्षण प्रभावित नहीं करता क्या 
20 अप्रैल से 03 मई तक क्या खुलेगा क्या बंद रहेगा, यहां पढ़िए 
बिना परमिशन भोपाल से ग्वालियर आया युवक, मामला दर्ज 
कूलर में यदि पानी की जगह बर्फ रख दें तो क्या वह ज्यादा ठंडी हवा देगा 
सिंधिया का सिक्का चल गया, 20 से ज्यादा मंत्री शपथ लेंगे, तैयारियां शुरू 
लॉकडाउन में 9 साल की बच्ची के सामने उसकी मां का 5 घंटे तक गैंगरेप 
मध्यप्रदेश: 1435 सैंपल में से मात्र 47 पॉजिटिव, 25 में से 9 जिले नेगेटिव 
भोपाल में नेत्रहीन बैंक मैनेजर का रेप, लाॅकडाउन में फंसा पति 
गुड न्यूज़: 1.20 करोड़ प्रीपेड मोबाइल की वैलिडिटी बढ़ गई
जनसेवा से इंकार करने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया मंत्रिपद के लिए अमित शाह से मिले 
अस्थाई शिक्षकों के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट का फैसला, नियमितीकरण पर मुहर 
डॉ गोविंद सिंह नेता प्रतिपक्ष बनेंगे क्योंकि उपचुनाव में सिंधिया और दिग्विजय सिंह लड़ेंगे 
लॉक डाउन में पटवारियों ने सरकारी ऑफिस को बीयर बार बना दिया, फोटो वायरल, 3 सस्पेंड
खबर का असर: कोरोना ड्यूटी में तैनात सभी कर्मचारियों को समान लाभ मिलेंगे 
MP BOARD: 10वींं और 12वीं की शेष परीक्षाओं का टाइम टेबल तैयार


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here