Loading...    
   


SC आदेश के बावजूद मुख्यमंत्री कमलनाथ फ्लोर टेस्ट कराने को तैयार नहीं | MP NEWS

भोपाल। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ फ्लोर टेस्ट कराने के लिए तैयार नहीं है। सीएम कमलनाथ ने अपने ऑफिशल टि्वटर हैंडल पर लिखा है 'सुप्रीम कोर्ट के आदेश का व इसके हर पहलू का हम अध्ययन करेंगे , हमारे विधि विशेषज्ञों से चर्चा करेंगे , सलाह लेंगे , फिर उसके आधार पर निर्णय लेंगे।' 

रात 8:26 बजे तक कमलनाथ ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को स्वीकार नहीं किया 


सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार दिनांक 19 मार्च 2020 को करीब 7:00 बजे अपना पूरा फैसला सुना दिया था। मध्यप्रदेश में दिनांक 20 मार्च 2020 को फ्लोर टेस्ट कराने के आदेश दिए थे। विधानसभा का 1 दिन का सत्र बुलाने के आदेश दिए थे। सत्र में सिर्फ एक एजेंडा रखना है। बहुमत के लिए मतदान कैसे होगा यह तक सुप्रीम कोर्ट ने बताया है। बावजूद इसके मुख्यमंत्री कमलनाथ ने वह बयान (सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन किया जाएगा) नहीं दिया जो ऐसी स्थिति में हमेशा दिया जाता है। 

क्या कमलनाथ के पास कोई और विकल्प है 

कमलनाथ के नए बयान के बाद मध्य प्रदेश की राजनीति में कयासों का रुख बदल गया है। लोक विधानसभा में विधायकों की संख्या का गणित लगाने के बजाय यह जानने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या ऐसी स्थिति में कोई और विकल्प भी हो सकता है जो फ्लोर टेस्ट को टाल सके। बताया जा रहा है कि विधानसभा अध्यक्ष के घर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है जबकि समाचार लिखे जाने तक विधानसभा सत्र आयोजित करने की आधिकारिक सूचना जारी नहीं हुई थी।

मध्य प्रदेश की राजनीति, आज की ताजा खबर | MP political crisis latest news



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here