गुरु और गुरू में क्या सही है और क्या गलत, सरल शब्दों में पढ़िए - Learn Hindi language

शिक्षा देने वाले को शिक्षक, प्रशिक्षण देने वाले को प्रशिक्षक और जीवन का ज्ञान देने वाले को गुरु कहते हैं। हिंदी में हर शब्द का अपना अर्थ होता है। समाज में गुरु और गुरू 2 शब्दों का प्रयोग किया जाता है। आइए जानते हैं कि इन दोनों शब्दों का अर्थ क्या है। क्या गुरु और गुरू शब्दों में कोई अंतर है अथवा गुरु और गुरू में से कौन सा शब्द सही है और कौन सा गलत। 

गुरु शब्द का सही अर्थ क्या है, गुरु किस भाषा का शब्द है

गुरु मूल रूप से संस्कृत भाषा का शब्द हिंदी में जैसा का तैसा शामिल किया गया है। हिंदी की डिक्शनरी में गुरु का अर्थ शिक्षक, उर्दू में उस्ताद समझा जाता है। संस्कृत में गुरु शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है। 'गु' शब्द का अर्थ होता है अंधकार और 'रु' शब्द का अर्थ होता है प्रकाश। इस प्रकार गुरु शब्द का अर्थ हुआ अज्ञानता के अंधकार से ज्ञान के प्रकाश की ओर ले जाने वाला। 

गुरू शब्द का सही अर्थ क्या है, गुरु और गुरू दोनों में से सही शब्द कौन सा है

हिंदी के शब्दकोश में संस्कृत भाषा से गुरु शब्द को तो शामिल किया परंतु गुरू शब्द हिंदी के शब्दकोश में नहीं है। गुरू केवल संस्कृत भाषा का शब्द है और संस्कृत के शब्दकोश में उपलब्ध है। जब आपके सामने आपके गुरु और उनके समकक्ष खड़े हों। तब एक साथ दोनों को सम्मान देने के लिए संस्कृत भाषा में 'गुरू' शब्द का प्रयोग किया जाता है। 

✔ इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें एवं यहां क्लिक करके हमारा टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल पर कुछ स्पेशल भी होता है।