CORONA काल में नेता और अधिकारी 370 सरकारी ऑक्सीजन सिलेंडर ले गए, अब चोरी की FIR - GWALIOR NEWS

ग्वालियर।
मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में स्थित शासकीय जयारोग्य चिकित्सालय मैनेजमेंट ने कोरोनावायरस संक्रमण काल में अस्पताल से 370 ऑक्सीजन सिलेंडर चोरी होने का मामला दर्ज करवाया है। सूत्रों का कहना है कि सभी ऑक्सीजन सिलेंडर नेता और अधिकारियों के यहां भेजे गए थे, जो वापस नहीं आए हैं। अपनी नौकरी बचाने के लिए जयारोग्य चिकित्सालय के अधिकारियों ने चोरी की FIR दर्ज करवा दी है।

लोगों ने दान किए थे, डॉक्टरों ने नेताओं के घर भेज दिए: आरोप

कोरोनावायरस संक्रमण काल खासकर दूसरी लहर के समय ऑक्सीजन को लेकर हाहाकार मचा हुआ था। लोग किसी भी कीमत पर ऑक्सीजन सिलेंडर खरीद रहे थे। गरीब मरीजों को ऑक्सीजन मिल सके इसके लिए कई दानदाताओं ने शासकीय जयारोग्य चिकित्सालय में ऑक्सीजन सिलेंडर खरीद कर दान किए थे। रिकॉर्ड के हिसाब से अस्पताल के पास 600 सिलेंडर होने चाहिए थे परंतु इनमें से 370 ऑक्सीजन सिलेंडर गायब है। मैनेजमेंट किसी मासूम बच्चे की तरह कह रहा है कि उसे नहीं मालूम सिलेंडर कौन ले गया।

एक-एक सिलेंडर के लिए मारा मारी थी, 370 सिलेंडर चोरी हो ही नहीं सकते

JAH मैनेजमेंट ने FIR जरूर दर्ज करवा दी है परंतु अस्पताल के डॉक्टरों की बात कोई मानने को तैयार नहीं है। पूरे अस्पताल में सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं। इंजेक्शन किस सिरिंज तक का हिसाब होता है। सिलेंडर तो गायब हो ही नहीं सकता और फिर कोरोनावायरस की पहली और दूसरी लहर के दौरान सरकारी अस्पताल पुलिस छावनी बना हुआ था। लॉकडाउन था। ऐसी स्थिति में 370 सिलेंडरों की चोरी संभव ही नहीं है।

नेता और अधिकारियों के यहां भेजे, वापस नहीं मिले तो FIR

सूत्रों का कहना है कि कोरोनावायरस संक्रमण काल के दौरान सरकारी अस्पतालों में नेताओं और ताकतवर अधिकारियों का दबदबा था। उनके एक फोन पर गरीबों को नेगेटिव रिपोर्ट आने से पहले ही डिस्चार्ज कर दिया जाता था। कुछ नेताओं के लिए तो पलंग खाली रखे जाते थे। एक मंत्री ने कोटा फिक्स करवा लिया था। जब तक वह फोन नहीं करते थे उनके लिए आरक्षित पलंगों पर किसी को भर्ती नहीं किया जाता था। डॉक्टर अपनी नौकरी बचाने के लिए नेताओं के हाथ की कठपुतली बन गए थे। सरकारी एंबुलेंस में नेताओं के घरों तक सिलेंडर पहुंचाने के आरोप पहले भी लगे थे। ग्वालियर की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया GWALIOR NEWS पर क्लिक करें.


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here