GWALIOR NEWS- सिंधिया को बेशर्म के फूल देने वाले कांग्रेस नेता की पुरानी फाइल खुली, गिरफ्तार

ग्वालियर। ज्योतिरादित्य सिंधिया को बेशर्म के फूल देने वाले कांग्रेस नेता सचिन द्विवेदी की पुरानी फाइलें खुलने लगी है। सन 2018 से लंबित एक मामले में FIR दर्ज करके सचिन द्विवेदी को गिरफ्तार कर लिया गया है। सचिन पर आरोप है कि उसने सन 2018 में ग्वालियर विकास प्राधिकरण की जमीन का फर्जी तरीके से क्रय विक्रय किया था। उल्लेखनीय है कि सचिन द्विवेदी ने कांग्रेस पार्टी से भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए क्षेत्रीय नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को बेशर्म का फूल दिया था।

शहर के पड़ाव थाना पुलिस ने दर्पण कॉलोनी निवासी एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक सचिन द्विवेदी को धोखाधड़ी के मामले में मामला दर्ज करने के बाद गिरफ्तार किया है। ग्वालियर विकास प्राधिकरण के 2018 में दर्पण कॉलोनी स्थित एक भूखंड का फर्जी दस्तावेज तैयार कर उसे क्रय और विक्रय किया गया था। यह भूखंड किसी राजेन्द्र जैन के नाम पर जीडीए में आवंटित था। राजेन्द्र जैन वर्ष 2005 से लापता हैं। उनके बच्चों ने जब इस भूखंड को अपने नाम कराने के लिए आवेदन किया तो पूरे मामले का खुलासा हुआ। इस भूखंड को एनएसयूआई नेता सचिन, उनके साथी लक्षमण तलैया निवासी आशीष पुत्र रमेशचन्द्र तिवारी, रामदुलारे कटारे निवासी भिंड, शिवपाल सिंह, शिंदे की छावनी निवासी अनीता पत्नी शरद खानवलकर के साथ मिलकर क्रय विक्रय किया था। 

जिसका पता चलने पर ग्वालियर विकास प्राधिकरण के संपदा अधिकारी ने थाने में शिकायत की थी। जिस पर पुलिस ने फर्जीवाड़े का मामला दर्ज कर सचिन द्विवेदी सहित पांच लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की थी। जांच पड़ताल में यहां सत्य पाया गया कि फर्जी दस्तावेज तैयार कर जीडीए जमीन को बेचा गया है। तभी पुलिस ने एनएसयूआईके राष्ट्रीय संयोजक के उनके घर से हिरासत में लिया है। जहां पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। 

सिंधिया को दिए थे बेशर्म के फूल

एनएसयूआई नेता सचिन वही हैं जिन्होंने कुछ समय पहले केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के ग्वालियर से दिल्ली जाते समय गोला का मंदिर पर सुरक्षा घेरा तोड़ते हुए बेशर्म के फूल भेंट किए थे। जिस पर इनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया था और गिरफ्तार भी किया गया था। 

इस मामले में सीएसपी नागेंद्र सिंह सिकरवार का कहना है कि एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक नेता को पुलिस ने हिरासत में लिया है। नेता पर आरोप था कि उसके द्वारा 2018 में फर्जी दस्तावेज तैयार कर जीडीए की जमीन का क्रय विक्रय किया था। जिसकी शिकायत 2018 में ग्वालियर विकास प्राधिकरण के संपदा अधिकारी द्वारा की गई थी।

13 अक्टूबर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मप्र कैबिनेट मीटिंग का आधिकारिक प्रतिवेदन - MP CABINET MEETING OFFICIAL REPORT 12 OCT 2021
JABALPUR NEWS- संयुक्त संचालक लोक शिक्षण सहित तीन के खिलाफ भ्रष्टाचार की FIR
MPPSC- वेटरनरी असिस्टेंट सर्जन एग्जाम प्लानिंग और सिलेबस घोषित
DAVV RESULT- 8 परीक्षाओं के परिणाम जारी
Assistant Professor भर्ती- योग्यता के नियम बदले
BHOPAL NEWS- कथित समाजसेवियों ने लड़की का गैंगरेप किया
MP BOARD- 10वीं-12वीं स्पेशल परीक्षा का रिजल्ट यहां देखें
सरकारी नौकरी- SBI BANK PO भर्ती का नोटिफिकेशन जारी
ctet 2021 application last date- केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए आवेदन करने का लास्ट चांस
Small business ideas- आधार सेवा केंद्र खोलने के लिए अभी आवेदन करें
अतिथि शिक्षक दीपावली से पहले धमाके की तैयारी कर रहे हैं- MP NEWS

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiहवाई जहाज की स्पीड कितनी होती है, 1973 में क्यों घटाई गई थी
GK in Hindiअंडा तो बंद होता है फिर चूजे को ऑक्सीजन कहां से मिलती है, जिंदा कैसे रहता है
GK in Hindi- फाइल दबाने वाले अधिकारियों से काम कराने का कानूनी तरीका
GK in Hindiहजारों टन सोने से भरा उल्का पिंड पृथ्वी से कब टकराएगा
GK in Hindiसमुद्र से 125 मीटर नीचे एक देश, जहां नालों में ज्वालामुखी का लावा बहता है
GK in Hindi- 3 प्रकार के विवाह, जिसमें लड़की को पत्नी का कानूनी अधिकार नहीं मिलता है 
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here