महात्मा गांधी ने इंदौर से की थी हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने की मांग - HINDI LANGUAGE HISTORY

इंदौर।
यह इंदौर के लिए गौरव का विषय है कि हिंदी को भारत की राष्ट्रभाषा बनाने की मांग इंदौर की धरती से की गई थी और मांग करने वाले भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी थे। महात्मा गांधी ने सन 1918 में इंदौर में आयोजित हिंदी साहित्य सम्मेलन में हिंदी भाषा को भारत की राष्ट्रभाषा बनाने का आह्वान किया था।

दक्षिण भारत से हिंदी को समर्थन मिल रहा था, गांधी ने मुहिम शुरू की थी

इंदौर में महात्मा गांधी पहली बार 29 मार्च 1918 में हिंदी साहित्य समिति के मानस भवन का शिलान्यास और दूसरी बार 20 अप्रैल 1935 में इसी भवन का उद्घाटन करने आए थे। भवन के उद्घाटन के लिए पहुंचे बापू को इंदौर के नेहरू पार्क में बैठकर ही सबसे पहले हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने का विचार आया था। उस समय शहर में हिंदी भाषा को लेकर एक बड़ी बैठक होने वाली थी। महात्मा गांधी ने उस सभा में हिस्सा लेकर उसे आधिकारिक बना दिया था। गांधीजी दूसरी बार 1935 में इंदौर आए। इस बार वह हिंदी सभा की अध्यक्षता करने आए थे। दक्षिण भारत से भी हिंदी भाषा को लेकर मिल रही काफी शानदार प्रतिक्रिया के कारण गांधीजी ने हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने की मुहिम शुरू की थी। 

काठियावाड़ी वेशभूषा में आए थे महात्मा गांधी 

बापू को यूं तो हमेशा ही सबने उनकी खादी की धोती में देखा था पर जब वो 20 अप्रैल 1935 को हिंदी साहित्य समिति के मानस भवन के शिलान्यास के लिए इंदौर आए तो उन्होंने काठियावाड़ी वेशभूषा पहनी थी। इस दौरान उनकी काठियावाड़ी पगड़ी आकर्षण का केंद्र बनी हुई थी। 1935 में गांधी जी इंदौर में 20 से 23 अप्रैल तक ठहरे थे। इस दौरान समिति का 24वां हिंदी साहित्य सम्मेलन हुआ था जिसमें गांधीजी सभापति थे। उस वक्त के बिस्को पार्क (नेहरू पार्क) में आयोजित सम्मेलन में गांधीजी ने फिर राष्ट्रभाषा के रूप में हिंदी की पैरवी की थी।

14 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP NEWS- कर्मचारियों के प्रमोशन के लिए मंत्री समूह का गठन
MP NEWS- एक लाख पदों पर भर्ती की प्रक्रिया जल्द शुरू होगी: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह
MP GOVT JOB NEWS- पटवारियों की बंपर भर्ती आने वाली है
MP IPS TRANSFER LIST- मध्य प्रदेश भापुसे अधिकारियों की तबादला सूची
DAVV NEWS- स्टूडेंट्स एडमिशन लेने नहीं आ रहे, BEd की 31000 सीटें खाली
CBSE NEWS- परीक्षा फॉर्म भरने के नियम बदले, पेरेंट्स को राहत
WHATSAPP- महीनों पुराने मैसेज DELETE FOR ALL कैसे करें
MP COLLEGE NEWS- मप्र के सभी विश्वविद्यालयों में एकीकृत पाठ्यक्रम लागू
MP EMPLOYEES NEWS- वित्त मंत्रालय ने DA बढ़ाने का प्रस्ताव भेजा
MP NEWS- कर्मचारियों के खिलाफ होगी रासुका की कार्रवाई
ना सिम चाहिए, ना रिचार्ज, Gmail से फोन कीजिए, टोटल फ्री

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiशेरनी के नुकीले दांतों से शावक घायल क्यों नहीं होते, जब गर्दन पकड़ कर उठाती है
GK in Hindiसोने के सिक्के को मोहर, तो चांदी और तांबे के सिक्के को क्या कहा जाता है
GK in Hindiमछली पानी में रहती है, फिर उसमें से बदबू क्यों आती है
GK in Hindiभारत की एक ऐसी जगह जहां आज भी ब्रिटिश सरकार का राज है
GK in Hindiबिजली के तार को कैसे पता होता है, पंखे को 60 वाट और एसी को 1160 वाट बिजली देना है
GK in Hindiउल्लू घोंसला क्यों नहीं बनाते, खंडहर में क्यों रहता है
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here