SHIVPURI में बाढ़, 1500 लोग फंसे, मुख्यमंत्री ने सेना से मदद मांगी, शहर में पानी भरा, कोलारस में भी बाढ़

भोपाल
। मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में भयंकर बाढ़ आ गई है। मौसम विभाग की तरफ से लगातार रेड अलर्ट चल रहा था। जिला मुख्यालय पर पिछले 18 घंटे से लाइट नहीं है। त्राहि-त्राहि की स्थिति बनी हुई है। कितना नुकसान हुआ फिलहाल कुछ नहीं कहा जा सकता लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रक्षा मंत्री से राहत कार्यों के लिए 5 हेलीकॉप्टर मांगे हैं। इनमें से 3 आ गए हैं। ब्रेकिंग अपडेट: शिवपुरी मुख्यालय से 90 किमी दूर पोहरी में पार्वती नदी के चारों तरफ हर्रई, बरखेड़ा, सिलपरी गांव में 1500 ग्रामीण फंसे हैं।

शिवपुरी में बाढ़ से राहत के लिए हेलीकॉप्टर आए 

मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से बताया गया है कि शिवपुरी में बाढ़ से राहत के लिए रक्षा मंत्रालय की तरफ से तीन हेलीकॉप्टर आ गए हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से बात करके 5 हेलीकॉप्टर की मांग की थी। मुख्यमंत्री Shivraj Singh Chouhan मंत्रालय में स्थित सिचुएशन रूम में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ शिवपुरी में बाढ़ में फंसे लोगों के बचाव कार्य के लिए जारी रेस्क्यू ऑपरेशन की लगातार मॉनिटरिंग कर रहे हैं और हालात का जायज़ा ले रहे हैं।

शिवपुरी में बाढ़ में फंसे लोगों के लिए हेल्पलाइन नंबर

शिवपुरी के कलेक्टर कार्यालय द्वारा बताया गया है कि बाढ़, अतिवृष्टि आपदा नियंत्रण एवं प्रबंधन को दृष्टिगत रखते हुए अधीक्षक भू-अभिलेख कार्यालय शिवपुरी में बाढ़ नियंत्रण कक्ष बनाया गया है। बाढ़ नियंत्रण कक्ष का दूरभाष नम्बर 07492-233881 है। ईमेल आईडी slrshivpuri@gmail.com है। किसी क्षेत्र में बाढ़, आपदा की स्थिति में कंट्रोल रूम पर सम्पर्क कर सकते हैं। 

शिवपुरी शहर की सड़कों पर बाढ़, घरों में पानी भरा 

ठंडी सडक से निकले नाले ने सबसे अधिक तबाही मचाई है। ठंडी सडक और नाले में अब अंतर नही दिख रहा हैं। ठंडी सड़क वाले नाले में उफान के कारण शंकर कॉलोनी जलमग्न हो गई है। नाले का पानी लोगों के घरों में घुस गया। कुछ घरों में तो 3 फुट पानी है। वही जलमंदिर रोड से निकले नाले का पानी आसपास के घरों में घुस गया। इस नाले के आसपास सबसे ज्यादा अतिक्रमण हुआ है। आदर्श नगर, विष्णु मंदिर, प्राइवेट बस स्टैंड पर नाला उफन रहा हैं। आसपास की कालोनियों में पानी भर चुका है। 

पोहरी अनुविभाग से निकली पार्वती नदी बेकाबू हो चुकी हैं। खतरे का निशान पानी में डूब चुका है। बाढ़ का पानी नदी की सीमाओं को तोड़ चुका है। गोवर्धन थाना क्षेत्र में आने वाले हर्रइ गांव में लोग फंसे हुए हैं। बताया जा रहा है कि रेस्क्यू टीम भी गांव में नही पहुंच पर रही हैं बताया जा रहा है कि 2 किमी तक पानी भरा हुआ हैं। 

शिवपुरी श्योपुर मार्ग पर पडने वाली कूनो नदी ने विकराल रूप धारण कर लिया है। पोहरी क्षेत्र में आने वाले पचीपुरा तालाब की स्थिती गंभीर बताई जा रही है। वहीं बैराड का तालाब भी खतरे के निशान के उपर आ गया है। चिंता की बात यह है कि सुबह से ही तेज बारिश भी हो रही है। 

शिवपुरी कलेक्टर आफिस की ओर से बताया गया है कि भारी वर्षा के कारण 5 ग्राम हर्रई, बरखेड़ी, सिलपरी, रायपुर, कुकरेडा में बाढ़ की स्थिति निर्मित हुई है। प्रशासन द्वारा बाढ़ के कारण ग्राम में फसे लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जा रहा है। SDRF की टीम लगी है। मौके पर प्रशासन की टीम भी उपस्थित है।

02 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मध्य प्रदेश मानसून- विदिशा में रेड अलर्ट, 16 जिलों में मूसलाधार बारिश की चेतावनी
BHOPAL MONSOON- मेहमानों को 1 सप्ताह से ज्यादा हो गया, मेहरबानी अब परेशानी बनने लगी
BREAKING NEWS- शिवपुरी में तालाब का पानी बादल पी गए, बवंडर उठा और तालाब खाली
EMPLOYEE NEWS- वित्त मंत्रालय ने बेसिक सैलरी बढ़ाने से साफ इनकार किया
MP NEWS- CM शिवराज सिंह को फिर दिल्ली बुलाया, कोलार रेस्ट हाउस में 10 घंटे तक रहे
MP NEWS- कलम चलाने के लिए रिश्वत मांगने वाला पटवारी सस्पेंड
MP NEWS- वित्त मंत्री के बेडरूम और घर की सजावट पर जनता के ₹35 लाख खर्च
GWALIOR NEWS- नियम बता रहे युवक को 2 पुलिस वालों ने गोली मारी
MP NEWS- मेरे नाम के आगे यादव लिखा जाता है सिंधिया नहीं: अरुण यादव
MP CORONA NEWS- सागर, दमोह और टीकमगढ़ में संक्रमण का खतरा
GWALIOR NEWS- दिग्विजय सिंह के मिर्ची बाबा पर हमला, कमलनाथ नाराज

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiसाबुन, शैंपू या टूथपेस्ट सबके झाग सफेद क्यों होते हैं, जबकि कलर अलग-अलग होते हैं
JYOTISH RASHIFAL- अगस्त से दिसंबर तक मिट्टी को सोना बना देंगे यह पांच राशि के लोग
GK in Hindiठंड और डर दोनों के कारण रोंगटे खड़े हो जाते हैं, ऐसा क्यों
GK in Hindi- वह कौन सी संख्या है जिसे रोमन में नहीं लिखा जा सकता
GK in Hindiरानियों के रेशमी वस्त्र किससे धुलते थे, वाशिंग पाउडर तो था नहीं
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here