मेरे नाम के आगे यादव लिखा जाता है सिंधिया नहीं: अरुण यादव - MP NEWS

भोपाल
। कमलनाथ से नाराज होकर भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने की संभावनाओं भरे समाचारों के बीच कांग्रेस पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव ने अपनी स्थिति स्पष्ट करते हुए लिखा है कि मेरे शरीर व परिवार के रक्त की एक-एक बूंद में कांग्रेस विचारधारा का प्रवाह होता है, मुझ सहित समूचे परिवार के नाम के आगे "यादव" लिखा जाता है "सिंधिया" नहीं। उन्होंने राहुल गांधी, कमलनाथ, दिग्विजय सिंह और मुकुल वासनिक को टैग किया है। 

सज्जन सिंह वर्मा ने आग में घी डालने का काम किया 

अरुण यादव खंडवा बुरहानपुर लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव में कांग्रेस पार्टी की ओर से स्वाभाविक दावेदार हैं। अरुण यादव 4 साल तक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रहे। इसी सीट से लोकसभा चुनाव जीते और केंद्रीय मंत्री भी बने। यह सीट अरुण यादव की सीट मानी जाती है, लेकिन पिछले दिनों प्रत्याशी चयन की मीटिंग में प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने यह कहकर आग लगा दी कि उन्होंने (अरुण यादव) मुझसे न कभी कहा, न कभी इच्छा जाहिर की। बीते रोज इंदौर में सज्जन सिंह वर्मा ने आग में घी डालने का काम किया। अरुण यादव को भाजपा में शामिल करने के लिए भाजपा के रणनीतिकारों द्वारा होने वाली संभावित कवायद के समाचार के बीच सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि जाने वाले को कोई रोक नहीं सकता।

सज्जन सिंह वर्मा ने आग में घी डालने का काम किया 

अरुण यादव खंडवा बुरहानपुर लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव में कांग्रेस पार्टी की ओर से स्वाभाविक दावेदार हैं। अरुण यादव 4 साल तक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रहे। इसी सीट से लोकसभा चुनाव जीते और केंद्रीय मंत्री भी बने। यह सीट अरुण यादव की सीट मानी जाती है, लेकिन पिछले दिनों प्रत्याशी चयन की मीटिंग में प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने यह कहकर आग लगा दी कि उन्होंने (अरुण यादव) मुझसे न कभी कहा, न कभी इच्छा जाहिर की। बीते रोज इंदौर में सज्जन सिंह वर्मा ने आग में घी डालने का काम किया। अरुण यादव को भाजपा में शामिल करने के लिए भाजपा के रणनीतिकारों द्वारा होने वाली संभावित कवायद के समाचार के बीच सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि जाने वाले को कोई रोक नहीं सकता।

मध्यप्रदेश में दिग्विजय सिंह के समर्थकों को टारगेट किया जा रहा है 

जब तक ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस पार्टी में थे तब तक कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की टीम का टारगेट ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक हुआ करते थे, लेकिन सिंधिया के भाजपा में शामिल होते हैं कांग्रेस पार्टी में गतिविधियां बदल गई है। मध्यप्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद विधानसभा के उपचुनाव से लेकर अब तक लगातार दिग्विजय सिंह के समर्थकों को टारगेट किया जा रहा है। ऐसी परिस्थितियां पैदा की जा रही है कि दिग्विजय सिंह के समर्थक कांग्रेस पार्टी छोड़कर चले जाएं। अरुण यादव के बारे में कमलनाथ की टिप्पणी और कयासों पर सज्जन सिंह वर्मा का बयान इसी दिशा में बढ़ाए जा रहे हैं कदम समझे जा सकते हैं।

01 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मध्य प्रदेश मानसून- 4 जिलों में रेड अलर्ट, 8 में मूसलाधार बारिश की चेतावनी
BHOPAL NEWS- पेरेंट्स ने प्रिंसिपल को बंधक बनाया, 12वीं में 90% वालों के 60% नंबर आए
EMPLOYEE NEWS- कर्मचारियों के अर्जित अवकाश की संख्या बढ़ाई जा सकती है
MP NEWS- मध्य प्रदेश के बारे में बीजेपी बड़ा फैसला ले सकती है, दिल्ली में दौड़-धूप तेज
GWALIOR NEWS- महाराजा सिंधिया के राजपथ हेतु 300 करोड़ की स्मार्ट रोड, अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस होगी
EMPLOYEE NEWS- किसी भी वर्ग के कर्मचारी से शासन वसूली पर ब्याज नही ले सकता, HoD को ब्याज वापस करो: हाई कोर्ट का आदेश
BHOPAL NEWS- 10 साल की मासूम को खून निकलने तक बेल्ट से पीटते थे, आंसू गिरे तो और पीटते थे
INDORE NEWS- कोरोनावायरस पनप रहा है, डॉक्टरों को ना सोर्स पता ना वेरिएंट
MP CORONA NEWS- सागर, दमोह और टीकमगढ़ में संक्रमण का खतरा
OBC आरक्षण के लिए विधेयक में संशोधन होगा
Free Fire Game में हारे छात्र ने आत्महत्या कर ली

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

JYOTISH RASHIFAL- अगस्त से दिसंबर तक मिट्टी को सोना बना देंगे यह पांच राशि के लोग
GK in Hindiठंड और डर दोनों के कारण रोंगटे खड़े हो जाते हैं, ऐसा क्यों
GK in Hindi- दूध को गर्म करने पर मलाई क्यों पड़ जाती है
GK in Hindi- बादल कैसे बनते हैं, क्या देवताओं के रूठने से बादल फटते हैं
GK in Hindi- वह कौन सी संख्या है जिसे रोमन में नहीं लिखा जा सकता
GK in Hindiरानियों के रेशमी वस्त्र किससे धुलते थे, वाशिंग पाउडर तो था नहीं
GK in Hindi- हिटलर की मूछें टूथब्रश जैसी क्यों थी, योद्धाओं जैसी क्यों नहीं, पढ़िए
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com